सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

database administrator in hindi । DBA in hindi

 आज हम database administrator in hindi (DBA in hindi ) के बारे मे जानेगे क्या होता है database administrator (DBA) तो चलिए शुरु करते हैं:-

database administrator in hindi (DBA in hindi):-

इसे Database प्रशासक भी कहा जाता है । यह Database को manage करने का कार्य करता है । Database के साथ एक DBA निम्नलिखित प्रकार के कार्य करता है अर्थात् अपने कर्तव्य का पालन करता है-

Full form of DBA :- database administrator ( डेटाबेस एडमिनिस्ट्रेटर )

database administrator daily tasks and DBA responsibilities:-

1. Evaluate the Database server Hardware 
2. Install the software 
3. Plan the database 
4. Create and open the data base 
5. Back up the data base 
6. Enroll system users 
7. Implement the database design 
8. Back up the fully functional database

1. Evaluate the Database server Hardware:-

सर्वप्रथम डेटाबेस एडमिनिस्ट्रेटर (DBA) यह तय करता है कि जिस server पर data base रखा जायेगा , उसके hardware तथा software उसे support करेंगे या नहीं । इसके लिये यदि आवश्यक हो तो computer का configuration व memory इत्यादि बदल सकता है । 

2. Install the software : - 

उपयुक्त Hardware उपलब्ध होने के बाद database administrator (DBA in hindi) उपयुक्त software install करता है । डेटाबेस एडमिनिस्ट्रेटर (DBA) केवल वही software install करता है जो उस data base को चलाने के लिये आवश्यक हैं । 

3. PIan the Database : - 

Datebase को plan करने के अन्तर्गत डेटाबेस एडमिनिस्ट्रेटर (DBA) मुख्य रूप से तीन प्रकार के कार्य करता है । 
a. Database तैयार करना 
b. Database के Back up लिए Strategy तैयार करना
c . Database का logical structure तैयार करना 
डेटाबेस एडमिनिस्ट्रेटर (DBA) को responsibility में Database को Plan करना अत्यन्त महत्वपूर्ण होता है । इसमें सबसे महत्वूपर्ण बाता यह होती है कि Datebase किस प्रकार Perform करेगा तथा उस पर विभिन्न operation किस प्रकार किये जायेंगे । जैसे कि प्रत्येक Table Space में किस प्रकार की सूचना store होगी तथा कितनी Date files मिलकर एक table space बनायेंगी तथा Data files कौनसी Drive या Disk में physically store होंगी । ये सब Data Base planning के अन्तर्गत निर्धारित किया जाता है ।

4. Create & Open The Database : - 

जब Database का Design तैयार हो जाता है तो उसे use करने के लिए open करते हैं । installation के समय Database को तैयार किया जाता है तथा इसके बाद इसमें record insert करने के लिए open किया जाता है ।

5. Back up the Database : - 

Database Structure बनाने के बाद Database का Back up लेने की Strategy तैयार की जाती है । इसके लिये अतिरिक्त Redo Log files , प्रथम पूर्ण Back up ( on line तथा off Inie Back up ) तथा नियमित Back up का समय निर्धारण आदि तय किया जाता है । 

6. Enroll System Users : - 

Database Structure का Back up लेने के पश्चात् Data Software के अनुसार Users बनाये जाते हैं । इन users को अलग - अलग प्रकार का बनाया जाता है कुछ Users को limited permission दी जाती है तथा कुछ को full permission दी जाती है ।

7. Implement The Database Design : -

Database Create करने व उसके Start के पश्चात् system user को enroll किया जाता है । इसके बाद Database का logical structure तैयार करना होता है जिसके लिए आवश्यक Table space बनाई जाती है । ये बनाने के बाद उस Database के object बनाये जा सकते हैं ।

8. Backup the fully functional Database : - 

इस स्थिति पर पहुंचने से पूर्व Database पूर्ण रूप से implement हो चुका होता है , इसलिए Database का पूर्ण Back up लिया जाता है । इसके अतिरिक्त Database के नियमित Back up लिये जाते है । Database के Structure में कोई भी implemention या बदलाव होते ही Database का तुरन्त Back up DBA द्वारा ले लिया जाता है ।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag