सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

What is Magnetic Tape in hindi

database administrator in hindi । DBA in hindi

 आज हम database administrator in hindi (DBA in hindi ) के बारे मे जानेगे क्या होता है database administrator (DBA) तो चलिए शुरु करते हैं:-

database administrator in hindi (DBA in hindi):-

इसे Database प्रशासक भी कहा जाता है । यह Database को manage करने का कार्य करता है । Database के साथ एक DBA निम्नलिखित प्रकार के कार्य करता है अर्थात् अपने कर्तव्य का पालन करता है-

Full form of DBA :- database administrator ( डेटाबेस एडमिनिस्ट्रेटर )

database administrator daily tasks and DBA responsibilities:-

1. Evaluate the Database server Hardware 
2. Install the software 
3. Plan the database 
4. Create and open the data base 
5. Back up the data base 
6. Enroll system users 
7. Implement the database design 
8. Back up the fully functional database

1. Evaluate the Database server Hardware:-

सर्वप्रथम डेटाबेस एडमिनिस्ट्रेटर (DBA) यह तय करता है कि जिस server पर data base रखा जायेगा , उसके hardware तथा software उसे support करेंगे या नहीं । इसके लिये यदि आवश्यक हो तो computer का configuration व memory इत्यादि बदल सकता है । 

2. Install the software : - 

उपयुक्त Hardware उपलब्ध होने के बाद database administrator (DBA in hindi) उपयुक्त software install करता है । डेटाबेस एडमिनिस्ट्रेटर (DBA) केवल वही software install करता है जो उस data base को चलाने के लिये आवश्यक हैं । 

3. PIan the Database : - 

Datebase को plan करने के अन्तर्गत डेटाबेस एडमिनिस्ट्रेटर (DBA) मुख्य रूप से तीन प्रकार के कार्य करता है । 
a. Database तैयार करना 
b. Database के Back up लिए Strategy तैयार करना
c . Database का logical structure तैयार करना 
डेटाबेस एडमिनिस्ट्रेटर (DBA) को responsibility में Database को Plan करना अत्यन्त महत्वपूर्ण होता है । इसमें सबसे महत्वूपर्ण बाता यह होती है कि Datebase किस प्रकार Perform करेगा तथा उस पर विभिन्न operation किस प्रकार किये जायेंगे । जैसे कि प्रत्येक Table Space में किस प्रकार की सूचना store होगी तथा कितनी Date files मिलकर एक table space बनायेंगी तथा Data files कौनसी Drive या Disk में physically store होंगी । ये सब Data Base planning के अन्तर्गत निर्धारित किया जाता है ।

4. Create & Open The Database : - 

जब Database का Design तैयार हो जाता है तो उसे use करने के लिए open करते हैं । installation के समय Database को तैयार किया जाता है तथा इसके बाद इसमें record insert करने के लिए open किया जाता है ।

5. Back up the Database : - 

Database Structure बनाने के बाद Database का Back up लेने की Strategy तैयार की जाती है । इसके लिये अतिरिक्त Redo Log files , प्रथम पूर्ण Back up ( on line तथा off Inie Back up ) तथा नियमित Back up का समय निर्धारण आदि तय किया जाता है । 

6. Enroll System Users : - 

Database Structure का Back up लेने के पश्चात् Data Software के अनुसार Users बनाये जाते हैं । इन users को अलग - अलग प्रकार का बनाया जाता है कुछ Users को limited permission दी जाती है तथा कुछ को full permission दी जाती है ।

7. Implement The Database Design : -

Database Create करने व उसके Start के पश्चात् system user को enroll किया जाता है । इसके बाद Database का logical structure तैयार करना होता है जिसके लिए आवश्यक Table space बनाई जाती है । ये बनाने के बाद उस Database के object बनाये जा सकते हैं ।

8. Backup the fully functional Database : - 

इस स्थिति पर पहुंचने से पूर्व Database पूर्ण रूप से implement हो चुका होता है , इसलिए Database का पूर्ण Back up लिया जाता है । इसके अतिरिक्त Database के नियमित Back up लिये जाते है । Database के Structure में कोई भी implemention या बदलाव होते ही Database का तुरन्त Back up DBA द्वारा ले लिया जाता है ।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल