सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

What is Magnetic Tape in hindi

Set operator | operator meaning in hindi

 आज हम set operations in dbms के बारे मे जानेगे और इसकी keys के बारे में जानेगे क्या होता है तो चलिए शुरु करते हैंं :-

set operations in dbms in hindi:-

डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (DBMS)  के अन्दर  set operator अथवा set operator theory का प्रयोग multipal object के मध्य अर्थात् tables के मध्य rela tion बनाने के लिए किया जाता है । 
Multipal tables के मध्य relations बनाने के लिये कुछ नियमों का उपयोग किया जाता है । उन नियमों को set theory तथा इसमें use होने वाले विभिन्न operators को set operators कहा जाता है।
Set Theory में use होने वाले विभिन्न elements हैं:-
Domain , Attribute , Tupple , Unique Identifier PK , Degree , Relation

Tupples : - 

प्रत्येक Tupple का एक identifire होता है । यह identifire एक values होती है । जो Unique होती है । सामान्यतः tupple record को कहा जाता है जो कि विभिन्न values का collection होता है , एक table में 0 या उससे अधिक tupples हो सकती है । 

Relation in hindi : - 

एक Relation tupples , attributes , Unique indintifieres . व Data values का collection होता है । 
एक Relation का Unique तथा meaningful name होना चाहिए । एक table एक Relation के बराबर होती है । set operator के साथ multiple relation को Relate ( रीलेट ) किया जा सकता है ।
set operations in dbms in hindi:-



Keys in hindi:-

key एक ऐसा element है जो किसी record को एक unique पहचान देता है । इसका प्रयोग करते हुए किसी entity के सैट से एक निश्चित entity का चुनाव कर सकते हैं । keys कई प्रकार की हो सकती हैं जो कि इस प्रकार हैं 

1. Primary Key : - 

इस Key का use किसी field के data को unique रखने के लिये किया जाता है । एक table में एक ही primary key होती है तथा इसके द्वारा Table में relations भी बनाया जा सकता है । primary key वाले एट्रीब्यूट में वैल्यू देना अनिवार्य होती है , इसकी फील्ड को खाली नहीं छोड़ा जा सकता तथा इसमें unique वैल्यू दी जाती है । हमें दूसरे column को भी primary key की तरह बनाना हो तो उसे candidate key घोषित करते हैं । यह primary key के तरह कार्य करती है अर्थात् यह null value को accept नहीं करती है तथा यह केवल unique data को accept करती हैं।

2.Candidate Key : -

एक table में एक ही primary key होती है यदि हमें दूसरे column को भी primary key की तरह बनाना हो तो उसे candidate key घोषित करते हैं । यह primary key के तरह कार्य करती है अर्थात् यह null accept नहीं करती है तथा यह केवल unique data को  accept करती हैं।

3. Super Key : - 

जब दो tables में relation बनाने के लिये एक com mon column का use किया जाता है तथा यदि वह column primary key है तो उसे super key कहा जायेगा । वास्तव में super व candidate Key केवल logi cal level पर होती है Phiysal level पर वे primary key के रूप में ही होती है । 

4. Alternate Key : - 

जब Primary key formed ( प्रारूप ) होती है तो समस्त बची हुई candidate keys alternate keys बन जाती हैं । physical level पर उन्हें unique key भी कहा जाता है । यह null value को accept करती है यह केवल unique data को allow करती है । इन्हें surrogate keys भी कहा जाता है ।

5. Foriegn Key : - 

रिलेशनल डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (RDBMS) में इसका use विभिन्न tables के मध्य Relations बनाने के लिये किया जाता है । यह referential integrity के लिये हमें बाधित करती है । इस key को primary key का reference दिया जाता है । जब इसे primary key का reference नहीं दिया जायेगा तब तक यह Relation create नहीं करती है ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल