सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

E-R MODEL IN HINDI । ENTITY RELATIONSHIP MODEL । E-R DIAGRAM IN HINDI

 आज हम ENTITY RELATIONSHIP MODEL के बारे मे जानेगे क्या होता है ये और इसके E-R DIAGRAM IN HINDI के बारे मे भी जानेगे तो चलिए शुरु करते हैं:-

E-R model in hindi (एंटिटी रिलेशनशिप मॉडल):-

ERD ( Entity Relationship Diagram ) के द्वारा हम यह प्रदर्शित करते हैं कि एक या एक से अधिक Entities आपस में किस प्रकार Related होती हैं । वास्तव में यह database का डिजाइनिंग टूल है जिसके द्वारा डेटाबेस के स्ट्रक्चर को ग्राफिकल रूप में प्रस्तुत किया जा सकता है । इसमें विभिन्न entities , attributes व relations का समूह होता है ।
ERD को SAD ( System analysis and design ) के अन्तर्गत Software development cycle के अन्तर्गत तैयार किया जाता है । ERD एक तरह से सम्पूर्ण डेटाबेस का Blue print अर्थात् एक मॉडल होता है । Client के लिए नये डेटाबेस बनाने के लिये Developers ERD का Use करते हैं ।
इसे Normalization के द्वारा Follow किया जाता है | Normalization एक प्रक्रिया है जिसके अन्तर्गत जटिल ( Complex ) object model को बिना किसी Data हानि के आसान ( Simple ) data object model में बदला जाता है। ERD के तीन मुख्य Component होते हैं-
1. Entity in hindi 
2. Relationship 
3. Attributes 

1. Entity in hindi : - 

Entity एक ऐसा पहलू है जिसके अन्तर्गत कुछ सूचना रखी या लिखी जाती है । यह एक object के बराबर होती है । एक Entity set के अन्तर्गत दी गई Entity unique होनी चाहिए । Entity भी Entity set का एक भाग ही होती है । Entity की Information उसके attribute के द्वारा दी जाती है । Entity को चित्र के रूप में प्रदर्शित किया जायेगा।
Entity in hindi

2. Relationship:-

इसके अन्तर्गत दो या दो से अधिक Entities को आपस में Relate किया जाता है । कुछ विशिष्ट परिस्थितियों में एक Entity को उसी के साथ Relate किया जाता है । इसको चित्र के रूप में प्रदर्शित किया जायेगा ।
एंटिटी रिलेशनशिप मॉडल

3. Attributes in hindi:-

इसके अन्तर्गत Entity के बारे में Information होती है । एक Entity set में Attribute का नाम Unique होना चाहिए । Attribute के नाम को अंग्रेजी वर्णमाला के Small letters में लिखा जाता है ।

Types of Attributes in dbms in hindi:-

(i) Simple Attribute:- 

इस प्रकार के एट्रीब्यूट एक साधारण एट्रीब्यूट होते हैं , जैसे कि sname , fees आदि । ERD में इन एट्रीब्यूट्स को एक ellips के द्वारा represent किया जाता है ।
Attributes in hindi

(ii) Composite Attribute :-

 इस प्रकार के एट्रीब्यूट्स एक से अधिक वैल्यू से मिलकर बनते हैं किन्तु ये उन वैल्यूज़ को मिलाकर उन्हें एक सिंगल वैल्यू की तरह represent करते हैं । जैसे कि date of birth ( date , month , year ) , ad dress ( H.No. , building name , Street , City , PIN ) आदि । इस  प्रकार के एट्रीब्यूट्स को एक से अधिक ellipse के द्वारा represent किया जाता है ।
Attributes in Hindi

(iii) Derived Attribute :- 

इस प्रकार के एट्रीब्यूट्स का मुख्य आधार कोई अन्य एट्रीब्यूट होता है । इसलिए इन एट्रीब्यूट्स को dependent एट्रीब्यूट्स भी कहा जाता है । जैसे कि age एट्रीब्यूट date of birth एट्रीब्यूट पर निर्भर करता है । Tax एट्रीब्यूट salary एट्रीब्यूट पर निर्भर करता है । इस प्रकार के एट्रीब्यूट्स को dotted ellipse के द्वारा represent किया जाता है ।
Attributes in hindi

(iv) Primary key Attributes:-

जिन एट्रीब्यूट्स को डेटाबेस में प्राइमेरी - की बनाया गया है , उन्हें प्राइमेरी - की एट्रीब्यूट कहा जाता है । ERD में इस प्रकार के एट्रीब्यूट्स को ellipse के द्वारा represent किया जाता है , परन्तु इन्हें underline किया जाता है ।
Attributes in hindi

(V) Multi-value Attribute:-

इस प्रकार के एट्रीब्यूट्स में एक से अधिक वैल्यूज़ का संग्रह होताहै । जैसे कि contact number आदि । इन्हें दो ellipse के द्वारा represent किया जाता है ।
Attributes in hindi

EDR diagram:- (The various stages of creating an ERD are as follows)

1. सबसे पहले उन entities की पहचान की जा सकती है जिनके लिए ERD बनाया जाना है । इसमें यह भी ध्यान रखा जाता है कि entities के नाम समान नहीं होने चाहिए । 
2. Entity के प्रत्येक attribute की लिस्ट बनाई जाती है । 
3. Relations के लिए सर्वप्रथम primary key को चिन्हित किया जाता है तथा रिपीट होने वाले relations को हटाया जाता है । 
4. यह कार्य तब तक किया जाता है जब तक कि संतुष्टिपूर्ण ERD ना बन जाए ।
er diagram in hindi









टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना

What is Message Authentication Codes in hindi (MAC)

What is  Message Authentication Codes in hindi (MAC) :- Message Authentication Codes (MAC) , cryptography के सबसे attractive और complex areas में से एक message authentication और digital signature का area है। सभी क्रिप्टोग्राफ़िक फ़ंक्शंस और प्रोटॉल्स को समाप्त करना असंभव होगा, जिन्हें message authentication और digital signature के लिए executed किया गया है।  यह message authentication और digital signature के लिए आवश्यकताओं और काउंटर किए जाने वाले attacks के प्रकारों के introduction के साथ होता है। message authentication के लिए fundamental approach से संबंधित है जिसे Message Authentication Code (MAC)  के रूप में जाना जाता है।  इसके दो categories में MACs की होती है: क्रिप्टोग्राफिक हैश फ़ंक्शन से बनाई और ऑपरेशन के ब्लॉक सिफर मोड का उपयोग करके बनाए गए। इसके बाद, हम एक relatively recent के approach को देखते हैं जिसे Authenticated encryption के रूप में जाना जाता है। हम क्रिप्टोग्राफ़िक हैश फ़ंक्शंस और pseudo random number generation के लिए MCA के उपयोग को देखते हैं। message authentication ए