सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

normalization in hindi | normalization in dbms in hindi

आज हम Normalization in dbms in hindi के बारे मे जानेगे Normalization क्या होता है? और types of Normal form in dbms (डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम) के बारे मे जानेगे क्या होते हैं तो चलिए शुरु करते हैं :-

Normalization in hindi (Normalization क्या होता है?) :-

जटिल data structure को साधारण data structure में परिवर्तित करने की प्रक्रिया Normalization कहलाती है । इस प्रक्रिया में विभिन्न Relations जिनमें Complexity हो उन्हें अलग - अलग भागों में विभाजित किया जाता है । 

normal form in dbms in hindi:-

Normalization को विभिन्न steps में पुरा किया जाता है । इसका प्रत्येक step एक Normal form in dbms (डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टमसे सम्बन्धित होता है । Normal form किसी Relation की वह स्थिति होती है जिसे attribute के Relationship से सम्बन्धित नियमों को लागू करके प्राप्त करते है।

Types of normal form in dbms:-

2. Second Normal Form in dbms (डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम)  in hindi 
3. Third Normal Form in dbms (डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम)  in hindi 
4. Boyce Codd Normal Form in dbms (डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम) in hindi 

1. First Normal form in dbms in hindi: -

 एक Relation तब तक   होता है जब सिर्फ व सिर्फ उसे कोई भी Multivalued attribute न हो । 
St. rollno .

partial functional dependency in dbms:-

partial functional dependency in dbms (डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम) जिसमें एक या अधिक Non Key attribute ( जैसे Name , Add etc ) का कुछ भाग ( अर्थात् कुछ attributes ) ही Primary Key पर Functionally depanded हो । 

2. Second Normal form in dbms in hindi: -

एक Relation second normal form in dbms (डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम)  में तब होता है जब वह सिर्फ और सिर्फ प्रथम नॉर्मल फॉर्म में हो और प्रत्येक नॉन Key attribute primary Key attributed पर पूरी तरह से functional depend हो ।

Transitive dependancy in dbms :-

दो या अधिक Non Key attribute के बीच यदि Functional dependancy हो तो वह Transitive dependency in dbms (डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम) कहलाती है । 

3. Third Normal Form in dbms in hindi: -

एक रिलेशन Third Normal form में तब होता है जब वह Second Normal from में हो । तथा कोई Transitive dependancy नही हो । 

Functional Dependancy :-

किन्हीं दो attributes या दो attributes के समूह के बीच के Constraint को Functional depandancy कहा जाता है । एक attributes या attributes का समूह जिसके द्वारा Relation की प्रत्येक line की अद्वितीय रूप से पहचाना जा सके इसे Candidate Key कहा जाता है ।

4. Boyce Codd Normal Form in dbms in hindi (BCNF) :-

दो प्रसिद्ध वैज्ञानिक RF Boyce तथा EF Codd ने Thirt Normal form का एक सक्षक्त रूप प्रतिपादित ( devlop ) किया इसे Three and half NF भी कहा जाता है । इसमें relation third Normal Form में होना आवश्यक है तथा Relation में प्रत्येक deteminet Candidate Key हो तो इस स्थिति को BCNF कहा जाता है । यह स्थिति बहुत कम देखने को मिलती है ।

Multivalues Dependancy:-

जब किसी Relation ' R ' में कम से कम तीन attribue जैसे ( A , B , C ) अवश्य हो व A की प्रत्येक Value के लिये B की से अधिक Values हो व साथ ही C की भी एक से अधिक Values हो । जबकि एक B की सभी Values व C की सभी Values एक -दूसरे से पूर्णतः स्वतन्त्र हो । तब इस घटनाक्रम को Multivalued depandency कहते है ।

5. Forth Normal Form in dbms in hindi:-

एक Relation forth Normal Form in dbms (डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टममें होगा सिर्फ और सिर्फ तब जबकि वह BCNF में हो । उसमें कोई भी Multivalued attributed ना हो । इसके अन्तर्गत Multivalues वाले attributes पूर्ण रूप से स्वतन्त्र होंगे ।

6. Fifth Normal Form in dbms in hindi:-

वास्तव में fifth normal form in dbms एक Joint dependany की विचारधारा है ( Consept है ) जैसा हम अभी तक जानते है कि किसी Complex Relationship को Simple करना हो तो उसे छोटे - छोटे भागों में विभाजित किया जाता है परन्तु एक सीमा के बाद उन Relations को और भागों में बांटा नही जा सकता है । इस Consept को Fifth Normal form in dbms कहा गया है । इसमें ध्यान यह रखना है की विघटन इस प्रकार किया जाये कि कोई सूचना lost ना हो ।

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना

What is Message Authentication Codes in hindi (MAC)

What is  Message Authentication Codes in hindi (MAC) :- Message Authentication Codes (MAC) , cryptography के सबसे attractive और complex areas में से एक message authentication और digital signature का area है। सभी क्रिप्टोग्राफ़िक फ़ंक्शंस और प्रोटॉल्स को समाप्त करना असंभव होगा, जिन्हें message authentication और digital signature के लिए executed किया गया है।  यह message authentication और digital signature के लिए आवश्यकताओं और काउंटर किए जाने वाले attacks के प्रकारों के introduction के साथ होता है। message authentication के लिए fundamental approach से संबंधित है जिसे Message Authentication Code (MAC)  के रूप में जाना जाता है।  इसके दो categories में MACs की होती है: क्रिप्टोग्राफिक हैश फ़ंक्शन से बनाई और ऑपरेशन के ब्लॉक सिफर मोड का उपयोग करके बनाए गए। इसके बाद, हम एक relatively recent के approach को देखते हैं जिसे Authenticated encryption के रूप में जाना जाता है। हम क्रिप्टोग्राफ़िक हैश फ़ंक्शंस और pseudo random number generation के लिए MCA के उपयोग को देखते हैं। message authentication ए