सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

What is Magnetic Tape in hindi

normalization in hindi | normalization in dbms in hindi

आज हम Normalization in dbms in hindi के बारे मे जानेगे Normalization क्या होता है? और types of Normal form in dbms (डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम) के बारे मे जानेगे क्या होते हैं तो चलिए शुरु करते हैं :-

Normalization in hindi (Normalization क्या होता है?) :-

जटिल data structure को साधारण data structure में परिवर्तित करने की प्रक्रिया Normalization कहलाती है । इस प्रक्रिया में विभिन्न Relations जिनमें Complexity हो उन्हें अलग - अलग भागों में विभाजित किया जाता है । 

normal form in dbms in hindi:-

Normalization को विभिन्न steps में पुरा किया जाता है । इसका प्रत्येक step एक Normal form in dbms (डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टमसे सम्बन्धित होता है । Normal form किसी Relation की वह स्थिति होती है जिसे attribute के Relationship से सम्बन्धित नियमों को लागू करके प्राप्त करते है।

Types of normal form in dbms:-

2. Second Normal Form in dbms (डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम)  in hindi 
3. Third Normal Form in dbms (डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम)  in hindi 
4. Boyce Codd Normal Form in dbms (डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम) in hindi 

1. First Normal form in dbms in hindi: -

 एक Relation तब तक   होता है जब सिर्फ व सिर्फ उसे कोई भी Multivalued attribute न हो । 
St. rollno .

partial functional dependency in dbms:-

partial functional dependency in dbms (डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम) जिसमें एक या अधिक Non Key attribute ( जैसे Name , Add etc ) का कुछ भाग ( अर्थात् कुछ attributes ) ही Primary Key पर Functionally depanded हो । 

2. Second Normal form in dbms in hindi: -

एक Relation second normal form in dbms (डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम)  में तब होता है जब वह सिर्फ और सिर्फ प्रथम नॉर्मल फॉर्म में हो और प्रत्येक नॉन Key attribute primary Key attributed पर पूरी तरह से functional depend हो ।

Transitive dependancy in dbms :-

दो या अधिक Non Key attribute के बीच यदि Functional dependancy हो तो वह Transitive dependency in dbms (डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम) कहलाती है । 

3. Third Normal Form in dbms in hindi: -

एक रिलेशन Third Normal form में तब होता है जब वह Second Normal from में हो । तथा कोई Transitive dependancy नही हो । 

Functional Dependancy :-

किन्हीं दो attributes या दो attributes के समूह के बीच के Constraint को Functional depandancy कहा जाता है । एक attributes या attributes का समूह जिसके द्वारा Relation की प्रत्येक line की अद्वितीय रूप से पहचाना जा सके इसे Candidate Key कहा जाता है ।

4. Boyce Codd Normal Form in dbms in hindi (BCNF) :-

दो प्रसिद्ध वैज्ञानिक RF Boyce तथा EF Codd ने Thirt Normal form का एक सक्षक्त रूप प्रतिपादित ( devlop ) किया इसे Three and half NF भी कहा जाता है । इसमें relation third Normal Form में होना आवश्यक है तथा Relation में प्रत्येक deteminet Candidate Key हो तो इस स्थिति को BCNF कहा जाता है । यह स्थिति बहुत कम देखने को मिलती है ।

Multivalues Dependancy:-

जब किसी Relation ' R ' में कम से कम तीन attribue जैसे ( A , B , C ) अवश्य हो व A की प्रत्येक Value के लिये B की से अधिक Values हो व साथ ही C की भी एक से अधिक Values हो । जबकि एक B की सभी Values व C की सभी Values एक -दूसरे से पूर्णतः स्वतन्त्र हो । तब इस घटनाक्रम को Multivalued depandency कहते है ।

5. Forth Normal Form in dbms in hindi:-

एक Relation forth Normal Form in dbms (डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टममें होगा सिर्फ और सिर्फ तब जबकि वह BCNF में हो । उसमें कोई भी Multivalued attributed ना हो । इसके अन्तर्गत Multivalues वाले attributes पूर्ण रूप से स्वतन्त्र होंगे ।

6. Fifth Normal Form in dbms in hindi:-

वास्तव में fifth normal form in dbms एक Joint dependany की विचारधारा है ( Consept है ) जैसा हम अभी तक जानते है कि किसी Complex Relationship को Simple करना हो तो उसे छोटे - छोटे भागों में विभाजित किया जाता है परन्तु एक सीमा के बाद उन Relations को और भागों में बांटा नही जा सकता है । इस Consept को Fifth Normal form in dbms कहा गया है । इसमें ध्यान यह रखना है की विघटन इस प्रकार किया जाये कि कोई सूचना lost ना हो ।

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल