सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

acid properties in dbms - computers in hindi

 आज हम computers in hindi के अन्दर Properties of Transaction (acid properties in dbms) के बारे मे जानेगे क्या होता है तो चलिए शुरु करते हैं:-

Properties of Transaction ( कार्यसम्पादन के गुण ) (ACID in hindi) :-

Atomicity , Consistency , Isolation , Durability - ACID सामान्यत : किसी transaction की 4 प्रॉपर्टीज़ होती हैं- 

1. Atomicity 

2. Consistency 

3. Isolation 

4. Durability 

1. Atomicity transaction :-

 Atomicity transaction की प्रॉपर्टी के द्वारा यह
comfirm किया जाता है की transaction  के द्वारा किए जाने वाले सभी ऑपरेशन पूर्ण होंगे या उनमें से एक भी execute नहीं होगा । इसमें transaction के प्रत्येक ऑपरेशन को एक अकेली यूनिट की भांति व्यवहार किया जाता है । आइए इसे एक example की सहायता से समझते हैं।

acid properties with example :-

 यदि प्रथम ऑपरेशन सफल पूर्ण हो जाए तथा द्वितीय ऑपरेशन पर आते ही transaction असफल अर्थात् फेल हो जाए तो ऐसी स्थिति में प्रथम ऑपरेशन भी rollback हो जाएगा । Atomicity को transaction manager के द्वारा नियंत्रित किया जाता है । transaction manager डेटाबेस का एक अवयव होता है । यदि किसी transaction के सभी ऑपरेशन सफलता पूर्वक पूर्ण हो जाती हैं तो सम्पूर्ण transaction सफल हो जाता है । एक भी ऑपरेशन के फेल हो जाने पर पुरा transaction  rollback हो जाता है । अर्थात् डेटाबेस पर किए गए समसस्त बदलावों के प्रभाव हट जाते हैं तथा डेटाबेस पुनः पूर्व की स्थिति में आ जाता है ।

2. Consistency transaction:-

Consistency transaction की इस प्रॉपर्टी के द्वारा डेटाबेस को एक अवस्था के दूसरी अवस्था में ले जाया जाता है । इसे consistency control manager के द्वारा नियंत्रित किया जाता है । यह डेटाबेस का एक अवयव होता है , तथा यह अवयव डेटाबेस की conceptual layer में स्थित होता है । जब एक transaction  एक से अधिक user वातावरण में carried out होता है तो उस स्थिति में consistency महत्वपूर्ण होती है । एक से अधिक user एक साथ एक ही समय पर एक ही समूह की सूचनाओं को प्राप्त कर सकते हैं । consistency को विभिन्न प्रकार की लॉकिंग तकनीकों का प्रयोग करके नियंत्रित किया जाता है । 

3. Isolation Transaction:-

Isolation Transaction की इस प्रॉपर्टी का अर्थ यह होता है कि साथ - साथ execute ( कार्यान्वित ) होने वाले transaction के मध्य चरण किसी अन्य transaction को दिखने नहीं चाहिए । 
जब frist transaction - समाप्त हो जाता है तो अन्य transaction केवल वर्तमान transaction के द्वारा प्रयोग किा गए रिकॉर्ड का पुनः प्रयोग कर सकते हैं । इसका अर्थ यह है कि किसी लेवल वर्तमान transaction के रिकॉर्ड्स अन्य transaction को दिखेंगे ।

4. Durability transaction :-

 Durability transaction की इस प्रॉपर्टी में यह सुनिश्चित किया जाता है कि यदि एक बार डेटा को commit कर लिया गया है तो उसे सिस्टम फेल या सिस्टम क्रैश किसी भी स्थिति में lost नहीं होना चाहिए । इसके लिए recovery के अवयवों का प्रयोग किया जाता है । यह प्रॉपर्टी recovery की तकनीकों पर आधारित होती है ।



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना