सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

What is Magnetic Tape in hindi

acid properties in dbms - computers in hindi

 आज हम computers in hindi के अन्दर Properties of Transaction (acid properties in dbms) के बारे मे जानेगे क्या होता है तो चलिए शुरु करते हैं:-

Properties of Transaction ( कार्यसम्पादन के गुण ) (ACID in hindi) :-

Atomicity , Consistency , Isolation , Durability - ACID सामान्यत : किसी transaction की 4 प्रॉपर्टीज़ होती हैं- 

1. Atomicity 

2. Consistency 

3. Isolation 

4. Durability 

1. Atomicity transaction :-

 Atomicity transaction की प्रॉपर्टी के द्वारा यह
comfirm किया जाता है की transaction  के द्वारा किए जाने वाले सभी ऑपरेशन पूर्ण होंगे या उनमें से एक भी execute नहीं होगा । इसमें transaction के प्रत्येक ऑपरेशन को एक अकेली यूनिट की भांति व्यवहार किया जाता है । आइए इसे एक example की सहायता से समझते हैं।

acid properties with example :-

 यदि प्रथम ऑपरेशन सफल पूर्ण हो जाए तथा द्वितीय ऑपरेशन पर आते ही transaction असफल अर्थात् फेल हो जाए तो ऐसी स्थिति में प्रथम ऑपरेशन भी rollback हो जाएगा । Atomicity को transaction manager के द्वारा नियंत्रित किया जाता है । transaction manager डेटाबेस का एक अवयव होता है । यदि किसी transaction के सभी ऑपरेशन सफलता पूर्वक पूर्ण हो जाती हैं तो सम्पूर्ण transaction सफल हो जाता है । एक भी ऑपरेशन के फेल हो जाने पर पुरा transaction  rollback हो जाता है । अर्थात् डेटाबेस पर किए गए समसस्त बदलावों के प्रभाव हट जाते हैं तथा डेटाबेस पुनः पूर्व की स्थिति में आ जाता है ।

2. Consistency transaction:-

Consistency transaction की इस प्रॉपर्टी के द्वारा डेटाबेस को एक अवस्था के दूसरी अवस्था में ले जाया जाता है । इसे consistency control manager के द्वारा नियंत्रित किया जाता है । यह डेटाबेस का एक अवयव होता है , तथा यह अवयव डेटाबेस की conceptual layer में स्थित होता है । जब एक transaction  एक से अधिक user वातावरण में carried out होता है तो उस स्थिति में consistency महत्वपूर्ण होती है । एक से अधिक user एक साथ एक ही समय पर एक ही समूह की सूचनाओं को प्राप्त कर सकते हैं । consistency को विभिन्न प्रकार की लॉकिंग तकनीकों का प्रयोग करके नियंत्रित किया जाता है । 

3. Isolation Transaction:-

Isolation Transaction की इस प्रॉपर्टी का अर्थ यह होता है कि साथ - साथ execute ( कार्यान्वित ) होने वाले transaction के मध्य चरण किसी अन्य transaction को दिखने नहीं चाहिए । 
जब frist transaction - समाप्त हो जाता है तो अन्य transaction केवल वर्तमान transaction के द्वारा प्रयोग किा गए रिकॉर्ड का पुनः प्रयोग कर सकते हैं । इसका अर्थ यह है कि किसी लेवल वर्तमान transaction के रिकॉर्ड्स अन्य transaction को दिखेंगे ।

4. Durability transaction :-

 Durability transaction की इस प्रॉपर्टी में यह सुनिश्चित किया जाता है कि यदि एक बार डेटा को commit कर लिया गया है तो उसे सिस्टम फेल या सिस्टम क्रैश किसी भी स्थिति में lost नहीं होना चाहिए । इसके लिए recovery के अवयवों का प्रयोग किया जाता है । यह प्रॉपर्टी recovery की तकनीकों पर आधारित होती है ।



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल