सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

classification of sql commands - SQL in hindi

 आज हम computers in hindi मे classification of sql commands - DBMS in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

classification of sql commands:-

इसमे technology रूप से  बताये तो SQL एक डाटा Sub language है । अर्थात् यह ऐसी language हैं , जिसका उपयोग डाटाबेस से Interact करने के लिए होता है और दूसरे शब्दों में सारे SQL statement सिर्फ डाटाबेस के लिए Instructions हैं और यहीं पर यह ' C ' या ' C ++ ' , C + या ' BASIC ' आदि जैसी General Purpose Programming Language से Inside होती है । SQL कई Different objectives के कई प्रकार की commands देती है । 
SQL कमांड्स को  कई Types में विभाजित किया जा सकता है -
1. डाटा डेफिनेशन लेंग्वेज ( DDL ) कमांड्स ।
2. डाटा मेनिप्यूलेशन लेंग्वेज ( DML ) कमांड्स । 
3. ट्रांजेक्शन कंट्रोल लेंग्वेज ( TCL ) कमांड्स । 
4. सेशन कंट्रोल कमांड्स । 
5. सिस्टम कंट्रोल कमांड्स । 

1. DDL commands( data definition language in hindi):-

 जैसा कि नाम से स्पष्ट है , यह हमें डाटा Definition से releted  काम करने की ability देती है और इस commands के द्वारा कई प्रकार के task perfrom किए जा सकते हैं-

( i ) Create , alter and drop schema objects:-

 इस DDL कमांड का यह Section table , index आदि जैसे objects को निर्मित करने , define करने , change करने अथवा delete करने में उपयोगी होता है । CREATE command का उपयोग Schema objects को निर्मित करने में होता है और ALTER commands का उपयोग पहले से मौजूद commands को change करने में होता है और DROP command उपयोग Schema objects delete करने या घटाने में किया जाता है । 

( ii ) Grant and revoke privileges and roles:-

 इसमे DDL commands का यह Section schema objects पर काम करने की अनुमति देने या उसे invited करने में किया जाता है ।

( iii ) Analyse , audit or add command:-

इसमे DDL commands  के इस Section का उपयोग किसी table , index पर information को analyse करने मे किया जाता है और जिससे Auditing option स्थापित किए जा सकें ।

2 . DML  commands ( Data manipulation language in hindi):-

Data manipulation language ( DML ) वह language है , जो user को उसमें एक्सेस करने की Eligibility देता है , जैसा डाटा मॉडल ने Organisms कर रखा है । 
Types of DMLs:-
( i ) प्रोसिजरल DMLs में user के लिए यह आवश्यक होता है और वह Specific करे कि कौन - सा डाटा चाहिए और कैसे उसे प्राप्त किया जाता है । 
( ii ) नॉन - प्रोसिजरल DMLs मेंusers को यह Specific करना होता है कि कौन से डाटा की आवश्यकता है और इसमें यह Specific नहीं करना होता है कि वह इसे कैसे प्राप्त किया जाता है ।

3 . TCL commands (Transaction control language in hindi) :-

एक transaction कार्य की एक पूर्ण unit होता है और एक transaction तब Successfully पूरा होता है , जिसे COMMIT के नाम से जाना जाता है और सिर्फ यदि इसके सभी Component phase successfully पूरे हो गए हों । Transaction management और कंट्रोल करने के लिए और Transaction control commands का उपयोग किया जाता है । ये commands , DML commands द्वारा किए बदलाव को मैनेज करते है ।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना