सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

sql क्या है? : what is sql in hindi

 आज हम computers in hindi मे what is sql in hindi और sql ka pura naam kya hai - DBMS in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

what is sql in hindi (sql क्या है?):-

Introduction of sql in hindi:-

इस Oracle Database के अन्दर डाटा एक्सेस करने के लिए सभी programs और user को स्ट्रक्चर्ड क्वेरी लेंग्वेज SQL का प्रयोग करना होता है । SQL कमांड्स का ऐसा set है , जिसे लगभग सभी रिलेशनल डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (RDBMS) द्वारा Recognize किया जाता है। इस SQL का पहला Commercial रूप से उपलबध पहला Implementation 1979 में रिलेशनल सॉफ्टवेयर Incorporation ने जारी किया था और जिसे आज ऑरेल कॉर्पोरेशन के रूप में जाना जाता है । इस तरह Oracle ही शुरूआती रिलेशनल डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (RDBMS) है , जिसने SQL का उपयोग शुरू किया । इस SQL का उपयोग ज्यादातर रिलेशनल डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (RDBMS) के लिए एक standard बन गया है । हालांकि Application program और ऑरेकल टूल users को सीधे SQL का उपयोग किए बिना डाटाबेस एक्सेस करने की अनुमति देते हैं और इन application को users की Request execute करते समय SQL का उपयोग करना होता है ।
यह स्ट्रक्चर्ड क्वेरी लेंग्वेज SQL एक ऐसी लेंग्वेज है , जो हमको ऐसे रिलेशनल डाटाबेस को ऑपरेट करने की ability देती है और जो टेबल्स में store releted सूचनाओं के sets होते हैं । इसे डाटाबेस की दुनिया Integrated होती जा रही है और इसके कारण एक ऐसी स्टेंडर्ड लेंग्वेज के लिए प्रयास होने लगे हैं और जिसका उपयोग कई भिन्न प्रकार के Computer environment में ऑपरेट करने के लिए किया जा सके । SQL एक standard लेंग्वेज साबित हुई है , क्योंकि यह users को Commands का एक set सीखकर , इसका उपयोग इंफॉर्मेशन निर्मित करने और हासिल करने एवं ट्रांसफर करने की योग्यता देती है और फिर चाहे यूजर P.C. पर काम कर रहे हो या वर्क स्टेशन अथवा मिनी या मेनफ्रेम पर होता है । यह SQL के कई Version हैं । मूल Version IBM's के San Jans Research Laboratory अब Elmanden Research Center में Developed किया गया था । यह लेंग्वेज जिसे सिक्वेल कहा गया था , इसमे 1970 के बाद के . दशक में R प्रोजेक्ट के सिस्टम के रूप में इम्प्लीमेंट किया गया था । तब से सिक्वेल लेंग्वेज का विकास होता गया और इसका नाम SQL हो गया । इसे 1986 में अमेरिकन नेशनल स्टेंडर्ड्स इंस्टिट्यूट ( ANSI ) ने एक SQL स्टेंटर्ड प्रकाशित किया , जिसे फिर से 1992 में इसे अपडेट किया गया था । SQL ने स्पष्ट रूप से अपने आप को स्टैंडर्ड रिलेशनल डाटाबेस लेंग्वेज के रूप में स्थापित कर लिया है ।

sql full form in hindi:-

स्ट्रक्चर्ड क्वेरी लेंग्वेज (Structured query Language)

Processing Capabilities of SQL in hindi :-

 यह SQL एक ऐसी लेंग्वेज है , जिसका उपयोग आम उपयोगकर्ता के साथ  प्रोग्रामरों द्वारा भी किया जा सकता है।

1. डाटा डेफिनेशन लेंग्वेज ( DDL ) :-

SQL DDL , रिलेशन स्कीमा को define करने और रिलेशन को डिलिट करने , index निर्मित करने और रिलेशन स्कीमा को Converted करने के लिए कमांड्स उपलब्ध कराती है । 

2 . इंटरेक्टिव डाटा मेनिप्यूलेशन लेंग्वेज ( DML ) :-

SQL DML में ऐसी लेंग्वेज शामिल रहती है और जो रिलेशनल एल्जेब्रा व टपल रिलेशनल Calculus दोनों पर आधारित होती है और इसमें डाटाबेस में टपल को Modifoy करने insert delete करने की कमांड्स भी शामिल होता है।

3. एम्बेडेड डाटा मेनिप्यूलेशन लेंग्वेज :-

यह SQL का एम्बेडेड रूप PL / 1 , Cobol , Fortran or Pascal और C ++ जैसी General Purpose Programming Languages के भीतर उपयोग करने के लिए डिजाईन किया गया होता है । 

4. व्यू डेफिनेशन :-

SQL DDL में व्यू डिफाईन करने के लिए कमांड्स शामिल होती है । 

5. ऑथोराईजेशन :-

यह SQL DDL में ऐसी कमांड्स भी शामिल रहती है , जो रिलेशन्स एवंviews के लिए Access rights specified करने के काम में आती है । 

6. इंटिग्रिटी :-

इसमे SQL , इंटिग्रिटी चेकिंग के सीमित रूप में उपलब्ध कराती है । SQL के भविष्य के प्रोडक्ट और SQL के स्टेंर्ड्स में इंटिग्रिटी चेकिंग के Sophisticated features शामिल होने की संभावना होती है । 

7. ट्रांजेक्शन कंट्रोल :-

इस SQL में ट्रांजेक्शन की शुरूआत और अंत Specific करने के लिए कमांड्स शामिल रहती है और इसके साथ ट्रांजेक्शन प्रोसेसिंग पर नियंत्रण के लिए कमांड्स भी होती हैं ।

Roles of SQL in hindi:-

इसमे जाने अथवा अनजाने हम सब आज रिलेशनल DBMSs का उपयोग कर रहे हैं । SQL आज शक्तिशाली और व्यापक रूप से उपयोग किया जा रहा रिलेशनल डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (RDBMS) है । और चाहे हम अपने बिल चुकाने के लिए क्रेडिट कार्ड का उपयोग कर हों अथवा अपने अकाउंट बैलेंस को ऑन लाईन चेक कर रहे हों या ऑन लाईन टिकट बुक कर रहे हों , इसमे नेट पर कुछ बेच रहे हों , तो हम SQL , रिलेशनल डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (RDBMS) का ही उपयोग कर रहे होते हैं । इंफॉर्मेशन को SQL का उपयोग करके ही रिट्राईव या स्टोर किया जाता है , इसमे हालांकि यह हो सकता है , हमने इसके लिए क्वेरी नहीं लिखी होती है । चूंकि SQL का मानकीकृत और स्ट्रक्चर्ड लेंग्वेज है और यह डाटाबेस आर्किटेक्चर में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है , इसमे जैसा कि हम जानते है , आज बड़ी संख्या में System professionals को Specific Application Development और इसके रखरखाव पर काम करना पड़ता है । स्टेंडर्ड फॉर्मेट यहाँ पर महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है ।

Advantages of SQL in hindi:-

1 . कम लागत :-

इसमे चूंकि Standardized format को अपनाया जाता है , यह नया एप्लीकेशन लिखने और पुराने को अपडेट करने की लागत घटा देती है । इससे ट्रेनिंग का खर्च भी घट जाता है , क्योंकि केवल एक लेंग्वेज की ही ट्रेनिंग देना होती है । 

2 .पोर्टेबिलिटी :-

इसमे सारी मशीनों के लिए हमें कोई एप्लीकेशन रिराईट करने की आवश्यकता नहीं होती है , क्योंकि सभी मशीनें SQL का उपयोग करती हैं । एप्लीकेशन को बिना किसी समस्या के एक से दूसरी मशीन में और भी ले जाया जा सकता है । 

3.समय की बचत :-

इसमे Standardized लेंग्वेज के उपयोग के कारण हमें एप्लीकेशन रिराईट करने की आवश्यकता नहीं होती है और हमें इसे सिर्फ अपडेट करने की आवश्यकता होती है , ताकि बिजनेस की बदलती आवश्यकताओं में निपटा जा सकें । यदि स्टेंडर्ड या Standardized लेंग्वेज Enhance की गई है और तो हमें सिर्फ अपने एप्लीकेशन को अपडेट करने की आवश्यकता होती है ।

4 . Productivity :-

इसमे स्टेंडर्ड लेंग्वेज का पर्याप्त समय तक उपयोग करने में पेशवर लोगों की Productivity में निश्चित रूप से वृद्धि होगी क्योंकि दिन प्रतिदिन वे इसमें होते जाते हैं । 

5 . आसान उपलब्धता :-

इसमे चूंकि यह किसी वेंडर विशेष के पास पेटेंट नहीं होती है , इसे कहीं से भी खरीदा जा सकता है । और इससे competition बढ़ती है , जिससे लागत कम होकर सेवा में सुधार होता है ।



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना