सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

दिसंबर, 2021 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

Featured Post

Kernel Approach

programming in c in hindi

आज हम  C language tutorial in hindi  मे हम  function in c in hindi  के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  Programming in c in hindi :- Introduction Programming in c in hindi:- हम जानते हैं कि प्रोग्राम के विकास में समय , धन और Man power का प्रयोग होता है । प्रोग्राम जब दिये गये कार्य को तेज गति से करता है तो यह Efficient प्रोग्राम कहलाता है । किसी Institute की activities में बदलाव आता रहता है जिससे उसकी आवश्यकताएँ भी परिवर्तित होती रहती हैं । इस प्रकार जिन कार्यों और आवश्यकताओं को पूर्ण करने के लिये सॉफ्टवेयर विकसित किये गये हैं , उनमें परिवर्तन करना भी आवश्यक होता है । इस स्थिति में संस्थान के कम्प्यूटर विभाग के incharge के सामने दो विकल्प होते हैं : Institute में प्रयुक्त प्रोग्रामों को remove नये प्रोग्रामों को विकसित करना या प्रयुक्त प्रोग्रामों में update और Modification करना । लागत के दृष्टिकोण से प्रोग्रामों को delete Inappropriate है और प्रोग्रामों में Modification और नवीनीकरण करना उचित है । इसलिये प्रोग्रामों में समय - समय पर Modification  करके उनका Ma

constants in C in hindi and variable in c in hindi

आज हम  C language tutorial in hindi  मे हम  constants in C in hindi   के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  constants in C in hindi:- एल्फाबेट ( A to Z ) , अंक ( 0 से 9 ) स्थिरांक और विशेष चिह्न मिलकर Constants   बनाते हैं वे Quantities जो परिवर्तित नहीं हो सकती हैं , स्थिरांक ( Constants )  कहलाती हैं । जैसे कोई संख्या , किसी व्यक्ति का नाम , रोल नं . , किसी व्यक्ति का जन्मदिवस आदि स्थिरांक हैं ।  Example:- 10.12                    35                     Ram  Constants कम्प्यूटर की मेमोरी में किसी भी  Location में store किये जा सकते हैं । Types of Constants in hindi:- data types in c in hindi (Data Types क्या होता है?)  ( a ) इंटीजर स्थिरांकों के नियम ( Rules for Integer Constants ) :- ( i ) integer constant में कम से कम एक अंक होना चाहिए । ( ii ) इसमें दशमलव बिन्दु नहीं होना चाहिए ।  ( iii ) यह ऋणात्मक या धनात्मक संख्या हो सकती है । ( iv ) integer constant की संख्या के मध्य कोमा ( , ) या रिक्त स्थान ( Blank Space ) का प्रयोग नहीं किया जा सकता है ।  ( v ) inte

data types in c in hindi (Data Types क्या होता है?)

आज हम  C language tutorial in hindi  मे हम  data types in c in hindi (Data Types क्या होता है?)    के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  data types in c in hindi (Data Types क्या होता है?) :- अभी तक हमने डाटा ( Data ) के बारे में अध्ययन किया था। सी लैंग्वेज में जब डाटा का उपयोग होता है तो इन्हें use करने से पहले इनका set type किया जाना आवश्यक होता है जिससे कम्प्यूटर की सीमित memory में इसे Suitable situation पर स्थान दिया जा सके । डाटा के variety मेमोरी में विभिन्न Space घेरते हैं ।  डाटा  के प्रकारों का वर्गीकरण करके उनके लिये आवश्यक मेमोरी में स्थान का निर्धारण करना जरूरी है ।   Data Types of C language in hindi:- 1. इंटीजर ( Integer ) और 2. फ्लोटिंग पॉइंट ( Floating Point ) ।  इन दो प्रकारों के Derivatives अन्य दो प्रकार के होते हैं । Character और Double । Void एक अन्य प्रकार का डाटा होता है जिसका उपयोग कम होता है । प्रत्येक  डाटा  टाइप द्वारा मेमोरी में स्थान के घेरने के लिये बाइट  की संख्या भिन्न होती है।  C - data Types:- 1. primary data type (Character

Structured programming in hindi

आज हम C language tutorial in hindi  मे हम  Structured programming in hindi   के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  Introduction to structured programming in hindi:- Problems का solution निकालना मानव की एक natural instinct है । कुछ समस्याएँ जो मानव द्वारा हल नहीं हो सकतीं , उन्हें हल करने के लिये कम्प्यूटर की आवश्यकता पड़ती है । कई समस्याओं के हल में एक ही कार्य को बार - बार दोहराने से मानव को नीरसता महसूस होती है । कम्प्यूटर ऐसी समस्याओं को आसानी से हल कर सकता है । किसी भी Problem को सरल Steps में व्यक्त करना होता है । प्रत्येक Step को कम्प्यूटर Instructions में व्यक्त किया जाता है जिन्हें प्रोग्रामिंग भाषा ( Programming Language ) में लिखा जाता है । यह क्रिया कम्प्यूटर प्रोग्रामिंग कहलाती है ।  दूसरे शब्दों में ,  किसी समस्या को कम्प्यूटर की सहायता से हल करने के लिये क्रियाओं या Steps का एक क्रम तैयार करना , कम्प्यूटर प्रोग्रामिंग कहलाता है । Introduction of C language in hindi (सी लैंग्वेज क्या है ) more then you click here Logic development in Structured pro

introduction of c language in hindi (सी लैंग्वेज क्या है )

आज हम  C language tutorial in hindi  मे हम  introduction of c language in hindi (सी लैंग्वेज क्या है )   के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  Introduction of C language in hindi (सी लैंग्वेज क्या है ) :- सी लैंग्वेज  में प्रोग्रामिंग ( Programming ) करने से पहले हम यह जानने का प्रयास करते हैं कि सी लैंग्वेज क्या है , यह किस प्रकार अस्तित्व में आई और यह अन्य कम्प्यूटर भाषाओं से किस प्रकार भिन्न है ? सी - लैंग्वेज ( C - Language ) एक प्रोग्रामिंग भाषा है जिसे अमेरिका में AT & T की बेल प्रयोगशाला ( Bell Laboratories ) में सन् 1972 में developed किया गया था । इस भाषा का development केवल डेनिस रिची द्वारा ही किया गया था। सन् 1960 के बाद कम्प्यूटर भाषाएँ अधिकतर क्षेत्रों में एक निश्चित प्रकार के कार्यों के लिये प्रयोग में आने लगी । जैसे COBOL language commercial applications में और FORTRAN Scientist और Engineering कार्यों में प्रयोग की जाती थी । अब लोग multiple purposes के लिये भिन्न - भिन्न कम्प्यूटर भाषाओं के स्थान पर एक ऐसी कम्प्यूटर भाषा की आवश्यकता

What is Algorithm in Hindi?

आज हम  C language tutorial in hindi  मे हम  What is Algorithm in Hindi? (एल्गोरिथ्म क्या है)  के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- What is Algorithm in Hindi? (एल्गोरिथ्म क्या है) :- Instructions का वह समूह जिसके द्वारा Problem का solution होगा , एल्गोरिथ्म ( Algorithm ) कहलाता है । जिस प्रकार किसी सीढ़ी के ऊपरी कसर पर पहुँचने के लिये हमें सीढ़ी के प्रत्येक कर्सर को एक - एक करके पार करना होता है , उसी प्रकार कम्प्यूटर को भी समस्या के समाधान तक पहुँचने के लिये एक - एक पद ( Step ) दिया जाता है । एल्गोरिथ्म ( Algorithm ) किसी समस्या के समाधान के लिए लॉजिक है। Method of Algorithm in Hindi:- 1. Flow chart in hindi 2. Pseudocode in hindi  1.फ्लो चार्ट या प्रवाह चित्र ( Flow chart in hindi) :- किसी समस्या के समाधान के Steps का चित्र के रूप में प्रदर्शन फ्लो चार्ट ( Flow Chart ) कहलाता है । प्रोग्राम की विभिन्न क्रियाओं के प्रवाह को फ्लो चार्ट ( Flow Chart ) e xpress करता है । फ्लो चार्ट ( Flow Chart ) में विभिन्न क्रियाओं ( Actions ) के लिये Sign होते हैं । इन Symbo

computer glossary (कम्प्यूटर शब्दावली) "D"

आज हम  computer in hindi  मे आज हम  c omputer glossary in hindi (कम्प्यूटर शब्दावली)  के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- computer glossary in hindi (कम्प्यूटर शब्दावली) "D" :- • Debugging :- कम्प्यूटर प्रोग्राम में की गई गलतियों को ढूंढ़ना एवं दूर करना । • Decode full form in hindi:-   Design Expert For Catalyst Development का नाम  • Decimal Number System :- 10 पर आधारित नम्बर सिस्टम ।  • Decision Box :- फ्लो चार्ट में प्रयुक्त हीरे के आकार का चिह्न जो यह बताता है कि यहां निर्णय लेने की आवश्यकता है । • Decatenate :- किसी हार्डवेयर या प्रोग्राम का दो या दो से अधिक भागों में विभक्त करने की क्रिया ।  • Deceleration Time:-  डेटा रिकार्ड करने के बाद टेप को रोकने में लगने वाला समय • Decimal :- दशमलव जो अंकों में प्रयोग किया जाता है ।  • Decimal System :- 10 पर आधारित नंबर सिस्टम । • Decimal Code :- वे password जो डेसिमल नम्बर सिस्टम के द्वारा प्रयोग होते हैं । • Decimal Digit:-  दशमलव नंबर सिस्टम के तहत आने वाले अंक ये हैं 0 , 1 , 2 , 3 , 4 , 5 , 6 , 7