सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

सितंबर, 2022 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

Featured Post

what is SSH in hindi

operating system command

 आज हम  computer course in hindi  मे हम  operating system command  के बारे में बताएगें तो चलिए शुरु करते हैं- operating system command(ऑपरेटिंग सिस्टम कमाण्ड्स):-  यूजर , सिस्टम कॉल्स के अलावा ऑपरेटिंग सिस्टम में ऑपरेटिंग सिस्टम के कमाण्ड्स के द्वारा भी interact कर सकता है । यदि आप ( MS - DOS में किसी भी डाइरेक्ट्री के फाइलों या सब - डाइरेक्ट्रीज को देखना चाहते हैं , तो आप DIR कमाण्ड का invoke कर सकते हैं और ऑपरेटिंग सिस्टम अपने कमाण्ड्स द्वारा यूजर और कम्प्यूटर सिस्टम के हार्डवेयर के बीच communicate करता है । इस ऑपरेटिंग सिस्टम का प्रमुख objective यूजर की समस्याओं का समाधान करना है , इसमें ज्यादातर ऑपरेटिंग सिस्टम्स के साथ common problems को हल करने के प्रोग्राम्स की supply की जाती है । इन प्रोग्राम्स के वेब ब्राउजर्स , टेक्स्ट फॉर्मेटर्स , वर्ड - प्रोसेसर्स , कम्पाइलर्स और डेटाबेस सिस्टम्स , स्प्रेडशीट्स इत्यादि आते है । ये प्रोग्राम सिस्टम यूटिलिटीज या एप्लीकेशन प्रोग्राम के नाम से भी जाने जाते हैं । इसमें कमाण्ड इंटरप्रेटर किसी भी ऑपरेटिंग सिस्टम का सबसे system program होता है ।

disk scheduling in hindi

 आज हम  computer course in hindi  मे हम  disk scheduling in hindi  के बारे में बताएगें तो चलिए शुरु करते हैं- disk scheduling in hindi:- disk scheduling ऑपरेटिंग सिस्टम के responsibilities में से एक हार्डवेयर को proper type से प्रयोग करना है और डिस्क ड्राइव के लिए इसका मतलब एक fast access time और disk bandwidth रखना है । एक्सेस टाइम के दो बड़े element होते हैं । Seek Time, disc arm के लिए वह समय होता है जो desired sector को रखकर head को cylinder पर move करता है । Rotantional Latency disk के लिए वह अतिरिक्त टाइम वोटिंग होता है जो desired sector को disk head पर घूमता है । Disk bandwidth transfer हुई बाइट का कुल होता है जो सर्विस के लिए पहली request और final transfer के पूरा होने के बीच पूरे टाइम के द्वारा भाग दिया जाता है । हम एक correct order में access time और डिस्क इनपुट / आउटपुट की सर्विसिंग के scheduling के द्वारा bandwidth को developed कर सकते है । 1. FCFS शेड्यूलिंग ( First Cum First Serve Scheduling )  2. SSTF शेड्यूलिंग ( Shortest Seek Time First Scheduling ) 3. स्कैन शेड्यूलिंग

kernel kya hai

 आज हम  computer course in hindi  मे हम  kernel in hindi  के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- kernel data structure:- kernel  को इनपुट / आउटपुट कम्पोनेन्टस के use के बारे में state information रखने की आवश्यकता होती है । यह ऐसा इन kernel data structure के एक category के माध्यम से करता है और इसमें Open File Table Structure / Kernel Network Connection, Character Device Communication और दूसरे इनपुट / आउटपुट activity का pursuance करने के लिए कई एक जैसे structures का प्रयोग करता है । यह इनपुट / आउटपुट के लिए एक Message Passing Implementation का use करता है । एक इनपुट / आउटपुट रिक्वैस्ट एक मेसेज में बदल जाता है और जो  kernel  के द्वारा इनपुट / आउटपुट मैनेजर को भेजा जाता है और फिर डिवाइस ड्राइवर को भेजा जाता है जिनमें से प्रत्येक Message contents को बदल सकता है । आउटपुट के लिए मेसेज लिखे हुए डाटा को रखता है । इनपुट के लिए मेसेज डाटा को प्राप्त करने के लिए एक buffer रखता है । Message Passing Approach, Procedural Techeniques के साथ तुलना करके ओवरहैड जोड़ सकते हैं । proce

error handling in os in hindi

 आज हम  computer course in hindi  मे हम  error handling in os in hindi  के बारे में जानकारी देगे तो चलिए शुरु करते हैं- Error handling in os in hindi:- Error handling  यह एक ऑपरेटिंग सिस्टम जो secure memory को use करता है जो कई प्रकार के हार्डवेयर और एप्लीकेशन error की देखभाल कर सकता है और इसलिए एक पूरा system failute प्रत्येक minor mechanical Glitch का साधारण रिजल्ट नहीं होता है । डिवाइस और Input / output transfer कई condition में फेल हो सकते हैं चाहे वह unsteady reasons हों जैसे एक नेटवर्क ओवरलोड हो रहा हो , या stable cause हो जैसे एक Disk controller faulty हो रहा हो और ऑपरेटिंग सिस्टम अक्सर एक unstable failure को सक्षमता से पूरा कर सकता है ।  उदाहरण:- एक डिस्क एक read retry में फेल रिजल्ट को पढ़ती है और एक नेटवर्क एक resend में error result को भेजता है यदि एक component को एक permanent failure का अनुभव होता है तो ऑपरेटिंग सिस्टम को रिकवर करना असम्भव हो जाता है । एक इनपुट / आउटपुट सिस्टम कॉल described करते हुए कि वह सफल है या असफल , कॉल की condition के बारे में सूचना को 1 बिट वापस करे

spooling in os in hindi

 आज हम  computer course in hindi  मे हम  spooling in os in hindi  के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- spooling in os in hindi (spooling and Device Reservation):- एक spooling एक ऐसा buffer होता है जो एक डिवाइस के लिए आउटपुट को रखता है । जैसे एक प्रिन्टर जो Integrated data stream को accept नहीं करता मतलब पहले data stream के बीच में नया data stream accept नहीं करता और प्रिन्टर एक समय में केवल एक कार्य कर सकता है । इसमें अनेकों एप्लीकेशन बिना उनके आउटपुट को एक साथ मिलाए हुए , उनके आउटपुट को रूप से प्रिन्ट करने की इच्छा रख सकते हैं । ऑपरेटिंग सिस्टम प्रिन्टर सभी आउटपुट को रोककर यह problem solving कर सकते हैं । हर एप्लीकेशन का आउटपुट एक अलग डिस्क पर wrapped जाता है और जब एप्लीकेशन प्रिन्टिंग को खत्म करती है तब spooling system printer से आउटपुट के लिए spool file की कतार बनाती है । spooling system एक समय में एक कतार में लगी spool file को प्रिन्टर पर कॉपी करती है । कुछ ऑपरेटिंग सिस्टम में स्पेलिंग एक सिस्टम deamon प्रोसेस के द्वारा managed की जाती है । दूसरे ऑपरेटि

caching in os in hindi

 आज हम  computer course in hindi  मे हम   caching in os in hindi  के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- caching in os in hindi:- इसमें एक cash तीव्र मेमोरी का भाग है जो डाटा की कॉपी रखता है । एक ओरिजनल कॉपी को access करने से appropriate cached copy को access करना है । वर्तमान में चल ही प्रक्रियाओं के instruction disc पर स्टोर होते हैं और physical memory में cached होते हैं और सी.पी.यू. की secondary और primary caches में दोबारा कॉपी हो जाते हैं ।  एक buffer और cash में अन्तर यह कि बफर केवल डाटा आइटम की वर्तमान कॉपी को रख सकता है जबकि एक cash को define किया गया है कि एक आइटम जो कहीं और रहता है उसके फास्टर स्टोरेज पर एक कॉपी को रखना होता है । caching और buffering दो भिन्न - भिन्न function है लेकिन कभी - कभी मैमोरी का एक भाग दोनों objectives के लिए प्रयोग किया जा सकता है ।  copy semantics रखने के लिए और डिस्क इनपुट / आउटपुट के लिए suitable scheduling को able बनाने के लिए और ऑपरेटिंग सिस्टम buffer को मुख्य मेमोरी में डिस्क डाटा को रखने के लिए प्रयोग करते हैं । ये bu

buffering in os in hindi

 आज हम  computer course in hindi  मे हम  buffering in os in hindi  के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- Buffering in os in hindi:- buffering  एक मेमोरी एरिया होता है जो डाटा को तब स्टोर करता है जब वह दो डिवाइस या एक डिवाइस और एक एप्लीकेशन के बीच transferred होता है ।  buffering  तीन कारणों की वजह से की जाती है । पहला कारण data stream में producer और consumer के बीच गति different होने का सामना करना है ।  उदाहरण:- एक फाइल हार्डडिस्क में स्टोर होने के लिए मॉडल के द्वारा प्राप्त हो रही है । मॉडम हार्डडिस्क से हजार गुना slove होता है इसलिए एक बफर मुख्य मेमोरी में बनाया जाता है । यह buffer mouse के द्वारा प्राप्त की गई बाइट्स को collect करता है । जब डाटा पूरा  buffer  तक पहुँच जाता है तो  buffer  एक single operation में डिस्क में लिखा जा सकता है और अगर डिस्क तुरन्त डाटा नहीं लिख पाती और मॉडम को अब भी दूसरे incoming data को स्टोर करने के लिए स्थान की जरूरत होती है , तो फिर इसके लिए दो  buffer  का प्रयोग किया जाता है । पहले डिस्क लिखने की रिक्वेस्ट की जाती है और उसके ब

scheduling in operating system in hindi

 आज हम  computer course in hindi  मे हम  scheduling in operating system in hindi  के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- Scheduling in operating system in hindi:- scheduling operating system इस इनपुट / आउटपुट requests के समूह को schedule करने का मतलब एक अच्छे order को निश्चित करना है जिसमें उन्हें execute करना है । वह order जिसमें application system calls को issue करती है और कभी - कभी वह सबसे अच्छी choice होती है । scheduling पूरे सस्टिम की कार्य गति को बढ़ा सकती है इस equipment access को ठीक प्रकार से प्रक्रियाओं के बीच शेयर कर सकती है और इनपुट / आउटपुट को पूरा करने के लिए average waiting time को कम कर सकती है । मान लो कि एक disc arm एक डिस्क की शुरूआत के निकट है , और वो तीन एप्लीकेशन उस disk blocking read calls को issue करता है । इस एप्लीकेशन 1 डिस्क के अन्त के निकट एक ब्लॉक को request करता है । एप्लीकेशन 2 शुरूआत के पास request करता है , और एप्लीकेशन 3 की request डिस्क के बीच में होती है । यह स्पष्ट है कि ऑपरेटिंग सिस्टम उस दूरी को कम कर सकते हैं जिसमें Disk

Input Output Interface in hindi

 आज हम  computer course in hindi  मे हम  input output interface in hindi  के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- Input Output Interface in hindi:- input output interface के इस भाग में हम structure की techniques के बारे में और ऑपरेटिंग सिस्टम के इन्टरफेस के बारे में बात करेंगे जो इनपुट / आउटपुट device को एक नियम और एक समान method में व्यवहार करने के लिए able बनाता है  एक एप्लीकेशन एक फील्ड को डिस्क पर किस प्रकार open कर सकते है , बिना यह जाने कि वह किस प्रकार की डिस्क है और बिना ऑपरेटिंग सिस्टम के dispersed हुए एक नयी डिस्क और दूसरे device कम्प्यूटर में किस प्रकार जोड़े जा सकते हैं और इसमें दूसरी complex software engineering problems के जैसे इस approach में Abstraction , Encapsulation , सॉफ्टवेयर involve होते हैं और हम input/output devices में एक कुछ सामान्य class को पहचानते हैं । सामान्य class में certified works के समूह एक इन्टर फेस के द्वारा एक्सेस किये जाते हैं । वास्तविक actual inter kernel module में hide हुए होते हैं जिन्हें device driver के नाम से जाना 

interrupt in hindi

 आज हम  computer course in hindi  मे हम  interrupt in hindi   के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- interrupt in hindi :- interrupt  एक mechanism आगे लिखे अनुसार कार्य करता है और cpu hardware interrupt request line नाम का एक तार होता है जो प्रत्येक Instructions को execute करने के बाद सी.पी.यू. को बताता है । जब सी.पी.यू. पता लगाता है कि Controller interrupt request line पर strongly signal दिया गया है तो सी.पी.यू. उसका कुछ भाग सेव कर लेती है , इसमें जैसे instruction point की वर्तमान वैल्यू और मैमोरी में interrupt handler routine के एक fix address पर Jump करता है । interrupt handler error के कारण को निश्चित करता है और आवश्यक Proceeding करता है और interrupt से पहले सी.पी.यू. को Execution status पर वापस पहुँचाने के लिए एक Return from interrupt instructions को execute करता हैं और हम कहते हैं कि Device controller interrupt request line पर एक signal establish करके interrupt बनाती है । सी.पी.यू. इस interrupt को हटा देता है । Interrupt Driven I / O Cycle को describe करता

scheduling algorithms in hindi

 आज हम  computer course in hindi  मे हम  scheduling algorithms in hindi  के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- scheduling algorithms in hindi:- CPU Scheduling में प्रमुख रूप से scheduler द्वारा यह निर्णय लिया जाता है कि यह Ready Queue में उपलब्ध sick process को सबसे पहले CPU allocate किया जाए । types of scheduling algorithms in hindi:- 1. First - come - First - Served ( FSFS ) Scheduling  2. Shortcut - Job - First ( SJF ) Scheduling  3. Round Robin Scheduling  4. Priority Based Scheduling  5. Multilevel - Queue Scheduling 1. First - come - First - Served ( FSFS ) Scheduling in hindi :- FCFS Scheduling Algorithm सभी Scheduling Algorithm में सबसे साधारण एलगोरिथम है और इस algorithm को implement करना भी आसान है , क्योंकि यह FIFO queue ( First - in - First out queue ) द्वारा maintain किया जाता है । इस एल्गोरिथम में जब कोई process ready queue में प्रवेश करता है और तो उस प्रोसेस का PCB ( Process Control Block ) queue के tail से link कर दिया जाता है तथा जब CPU फ्री होत

page replacement in hindi

 आज हम  computer course in hindi  मे हम    page replacement in hindi  के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  page replacement in hindi:- 1. डिस्क पर intended page के लिए लोकेशन को ढूँढ़ना। 2. उस independent frame को ढूँढ़ना यहाँ पर कोई independent frame इसे उपयोग करता है । अन्य एक पेज replacement algorithm को एक Victim Frame को चुनने के लिए उपयोग करना । डिस्क के लिए Victim Frame को लिखना , पेज को और फ्रेम टेबल को परिवर्तित करना ।  3 . फ्री फ्रेम में से intended page को पढ़ना , पेज और फ्रेम टेबल को converted करना । 4. यूज़र प्रोसेस को वापस start करना Page Replacement Algorithms in hindi with examples:- यहाँ पर कई सारी page replacement algorithm हैं । प्रत्येक ऑपरेटिंग सिस्टम Possible form से अपनी यूनिक रिप्लेसमेन्ट स्कीम रखता है । किस प्रकार हम एक विशेष रिप्लेसमेन्ट एलगोरिथम को चुनते हैं और सामान्य में , हम एक रिप्लेसमेन्ट एलगोरिथम को न्यूनतम पेज - फॉल्ट रेट के साथ चाहते हैं । हम एक एलगोरिथम का evaluation इसे memory reference के एक Specific string पर रन करके और पेज

Demand paging in hindi

आज हम  computer course in hindi  मे हम  Demand paging in hindi  के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  Demand paging in hindi :- यह demand paging system swapping के साथ एक paging system के समान होते हैं। Processes Secondary Memory पर स्थित होती हैं ( जो एक डिस्क होती है ) । जब हम एक processes को execute करना चाहते हैं , हम इसे मैमोरी में परिवर्तित कर सकते हैं । मैमोरी में पूरे processes को change किया जाता है , फिर भी , हम एक सुस्त Swapper का उपयोग करते हैं । एक सुस्त Swapper एक पेज को मैमोरी में तब तक change नहीं करता है और जब तक पेज की आवश्यकता न हो । चुंकि हमे processes को पेजों की Chain की तरह विचार करते हैं , एक बड़ा address space swap term का उपयोग technology रूप से गलत होता है । एक Swapper पूरी Processes को manage करता है वहीं एक Pager Processes के pages के साथ सम्बन्ध रखता है । तब हम demand paging के साथ जुड़ने में Swapper की अपेक्षा pager term का उपयोग करेंगे ।  जब एक process को change किया जाता है , तो पेजर ये अनुमान लगाता है कि कौन - से process को वापस

virtual memory in operating system in hindi

 आज हम  computer course in hindi  मे हम   virtual memory in operating system in hindi  के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  virtual memory in operating system in hindi:- Virtual Memory  एक तकनीक होती है जो प्रोसेसेज में implementation करती है जो मैमोरी में पुरे नहीं हो सकते हैं । इस Plan का एक गुण यह है कि प्रोग्राम  Physical Memory से अधिक लम्बे हो सकते हैं । इसके अलावा , ये Main Memory को extremely बड़े , स्टोरेज के समान Array , divided Logical Memory को Physical Memory से user द्वारा protected करता है । ये तकनीक प्रोग्रामर्स को Various memory storage limit के ऊपर स्वतंत्र छोड़ देती है । virtual memory implementation में सरल नहीं है और फिर भी यदि ये लापरवाही से use की जाती है तो ये display को वास्तविक रूप से कम कर सकती है । memory - management algorithm एक बैसिक आवश्यकता के कारण आवश्यक है । Instructions Physical Memory में execute किये जाने चाहिये । इस आवश्यकता से मिलने की पहली Approach complete logical address space को physical memory में Establish करना है ।

segmentation in os in hindi - Segmentation क्या होता है

 आज हम  computer course in hindi  मे हम   segmentation in os in hindi - Segmentation क्या होता है  के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  segmentation in os in hindi (Segmentation क्या होता है) :- segmentation एक बहुत जरूरी चीज मैमोरी मैनेजमेन्ट के लिये जिसे भूलाया नहीं जा सकता है । user view paging करता है मैमोरी को फिजिकल मैमोरी से और जो user viewहोता है वह फिजिकल मैमोरी के जैसा नहीं होता जो user view है । फिजिकल मैमोरी में वह mapped होता है mapping logical memory और physical memory में अन्तर बताती है ।  1. बेसिक मैथड ( Basic Method ) :- आमतौर पर जो यूजर है वह इसे array की तरह लेते हैं जो मैमोरी है वह linear array byte है । और Variable Sized Segement उस Segement से मिलकर बना है जिसमें कोई क्रम की जरूरत नहीं हैं । जब हम प्रोग्राम में कुछ भी लिखते हैं तो हम क्या सोचते है कि वह कैसे लिखा जा रहा है तब हम सोचते है कि जो मेन प्रोग्राम है वह sub routine procedure और Function से मिलकर बना है जिसमें कई सारे data structure है। हर module और डाटा Element अपने नाम से जाने ज

paging in os in hindi - पेजिंग

 आज हम  computer course in hindi  मे हम  paging in os in hindi  के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-   paging in os in hindi :- paging हमारे पास एक method है जिससे कि हम external fragmentation की problem से बाहर आ सकते हैं और जो कि लगातार कोई भी प्रोसेस को देता है । किसी भी प्रोसेस को physical memory बाद में मिलती है जब कि logic address space से लगातार काम करता रहता है । इन सभी को करने का एक method paging है ( इस paging memory में प्रोसेस को कोई भी Shape देने में और उन्हें किसी भी छोटे - छोटे टुकड़े में बदलने में काम करता ताकि मैमोरी खराब न हो । जब भी कोई कोड fragment होता है या जो डाटा मैमोरी में है वह बाहर जाता है तो बैंकिंग स्टोर पर जगह बन जाती है । इससे समय ज्यादा लगता है इसलिये देखा जाये तो compaction नहीं हो सकता । इन्हीं सब कारणों से paging को लाया गया है और paging कई ऑपरेटिंग सिस्टम द्वारा स्वीकार की जाती है । Method of paging in os in hindi:- 1. Basic pagging method 2. Multi level pagging method 1. Basic pagging method:- physical memory बराबर के ब्लॉक

swapping in operating system in hindi

 आज हम  computer course in hindi  मे हम   swapping in operating system in hindi  के बारे में बताएगें तो चलिए शुरु करते हैं- swapping in operating system in hindi:- Swapping operating system में    एक मेमोरी मैनेजमेंट स्कीम है यह एक ऐसी Technique हैं। जिसमें किसी एक प्रोसेस को मैमोरी में action के लिये लाया जाता है । उसी समय इस प्रोसेस को space करके रखा जाता है और जब जरूरत पड़ती है तो मैमोरी में action के समय उसे लाया जाता है और Round Robin CPU Scheduling को कई सारे प्रोग्राम पर use किया जाता है । जब एक quantum finish होता है तो मैमोरी में प्रोसेस self on हो जाता है । फिर मैमोरी प्रोसेस को space out करता है और फिर दूसरे प्रोसेस को मैमोरी में space करता है इसी बीच में जो C.P.U. scheduler है वह time slide की help से प्रोसेस को मैमोरी मे आते हैं मतलब एक प्रोसेस का पूरा समय मैमोरी में दूसरा प्रोसेस action के लिये आ जाता है और पहला मैमोरी में से बाहर चला जाता है । तो memory manager जल्दी प्रोसेस को ready कर मैमोरी में space करता है तथा जल्दी से जल्दी में action करता है । जब C.P.U. schedule

process scheduling in hindi

आज हम  computer course in hindi  मे हम  process scheduling in operating system in hindi  के बारे में बताएगें तो चलिए शुरु करते हैं-  process scheduling in hindi :- Process Scheduling , ऑपरेटिंग सिस्टम का यह fundamental work है । कम्प्यूटर के सभी resources को प्रयोग करने से pre schedule करना आवश्यक होता है , परन्तु सभी resources में CPU प्रमुख resources होने के कारण , ऑपरेटिंग सिस्टम को डिजाइन करने में CPU को schedule करने की Planning होती है ।  scheduling का प्रमुख उद्देश्य , CPU की उपयोगिता तथा सिस्टम के कार्यक्षमता को दिए गए समय में  throughput को बढ़ाना है । ऑपरेटिंग सिस्टम द्वारा  Process Scheduling  की  Process Scheduling  के द्वारा edited की जाती है । schedulere ऑपरेटिंग सिस्टम का एक प्रोग्राम है , जो प्रोसेस को execute करने के लिए प्रोसेस को Job queue से select करता है । CPU शिड्यूलिंग वैसे ऑपरेटिंग सिस्टम के मूल आधार हैं जिसमें जो multiprogramming का support करते हैं जैसा कि हम जानते हैं कि multiprogramming का प्रमुख perpose एक ही समय एक साथ एक से अधिक प्रोसेसर को रन करना होता