सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

swapping in operating system in hindi

 आज हम computer course in hindi मे हम swapping in operating system in hindi के बारे में बताएगें तो चलिए शुरु करते हैं-

swapping in operating system in hindi:-

Swapping operating system में  एक मेमोरी मैनेजमेंट स्कीम है यह एक ऐसी Technique हैं। जिसमें किसी एक प्रोसेस को मैमोरी में action के लिये लाया जाता है । उसी समय इस प्रोसेस को space करके रखा जाता है और जब जरूरत पड़ती है तो मैमोरी में action के समय उसे लाया जाता है और Round Robin CPU Scheduling को कई सारे प्रोग्राम पर use किया जाता है । जब एक quantum finish होता है तो मैमोरी में प्रोसेस self on हो जाता है । फिर मैमोरी प्रोसेस को space out करता है और फिर दूसरे प्रोसेस को मैमोरी में space करता है इसी बीच में जो C.P.U. scheduler है वह time slide की help से प्रोसेस को मैमोरी मे आते हैं मतलब एक प्रोसेस का पूरा समय मैमोरी में दूसरा प्रोसेस action के लिये आ जाता है और पहला मैमोरी में से बाहर चला जाता है । तो memory manager जल्दी प्रोसेस को ready कर मैमोरी में space करता है तथा जल्दी से जल्दी में action करता है । जब C.P.U. scheduler C.P.U. दुबारा से schedule करता है । quantum को action की swapping में जरूरत पड़ती है ।
यह swapping process priority पर dependent करता है और priority की scheduling पर ( पहले कौन सा प्रोसेस आयेगा फिर कौन सा ) । ऊपर बड़ा priority का प्रोसेस आता है इस action के लिये मैमोरी मै तो छोटे वाले priority के प्रोसेस को मैमोरी में space करके बड़े वाले को पहले मैमोरी में action के लिये भेजेगा फिर बाद में जब बड़ा वाला प्रोसेसर हो जायेगा तब छोटे वाले प्रोसेस को space करके मैमोरी में action के लिये भेजा जायेगा । इसमें Spacing कई बार Roll In and Roll Out के नाम से जाना जाती है ( प्रक्रिया ) ।
swapping in operating system in hindi


मैमोरी में से जो process space out हुआ है जब वह वापिस मैमोरी में जाता है तो उसी जगह और space को लेता है जहाँ से space out हुआ था । यह तरीका address binding के द्वारा किया जाता है । जो कुछ address binding में है वैसा ही होगा । अगर binding assembly समय पर हुआ है तो प्रोसेस एक जगह से दुसरी जगह नहीं जा सकता और अगर यह काम action समय binding में हुआ होता तो प्रोसेस अपनी जगह मैमोरी में बदल सकता है क्योंकि physical address verb समय में Create होगा ।
swapping को बैंकिंग स्टोर की जरूरत होती है जो स्टोर कर उसे वहाँ से वापिस करने में मदद करता है । बैकिंग स्टोर आमतौर से डिस्क पर बहुत तेज होता है । सारी फाइलों का Map बनाकर उसे सभी यूजर को देना कठिन है ताकि वह उसको इस्तेमाल कर सकें और यह Map बनाकर उसे सभी यूजर अलग - अलग यूजर को मिलता है ( सभी को जिन्हें उन पर काम करना हो ) जिस पर वह action करते हैं । सिस्टम एक तैयार line बनाता है सारे प्रोसेस के लिए जिनका Map मैमोरी में बैकिंग स्टोर पर होता है या फिर मैमोरी में होता है साथ ही वह action के लिये तैयार रहते है और जब कभी c.p.u scheduler उस प्रोसेस को करने के लिये तैयार होता है Dispatcher के जरिये उसे भेज दिया जाता है । dispatcher यह देखता है कि जो अलग प्रोसेस है वह line में है या नहीं जिसे अब मैमोरी में लाया जायेगा । अगर प्रोसेस नहीं है , और मैमोरी में जगह नहीं है तो जो dispatcher है वह प्रोसेस को , जो जरूरत नहीं है । स्पेस आउट करता है और जो जरूरत है उसे मैमारी में स्पेस इन करता है । फिर वह रजिस्टर को वापस लोड करता है और पूरा ध्यान और समय चुने हुए प्रोसेस पर लगता है । जो स्विच समय है वह स्पेसिंग के समय में ज्यादा होता है । Context Swtich Time के बारे में जानने के लिये हम मान लेते है कि जो यूजर प्रोसेस है वह 100 (K) का है और जो बैकिंग स्टोर डिस्क पर है , जिसका आना जाना 1 Megabyte प्रति सेकेण्ड है तो जो असली में 100 (K) का प्रोसेस मैमोरी में आयेगा और जायेगा ।
100(K)/1000(K) per second 
1/10second
100 mili second




टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना

What is Message Authentication Codes in hindi (MAC)

What is  Message Authentication Codes in hindi (MAC) :- Message Authentication Codes (MAC) , cryptography के सबसे attractive और complex areas में से एक message authentication और digital signature का area है। सभी क्रिप्टोग्राफ़िक फ़ंक्शंस और प्रोटॉल्स को समाप्त करना असंभव होगा, जिन्हें message authentication और digital signature के लिए executed किया गया है।  यह message authentication और digital signature के लिए आवश्यकताओं और काउंटर किए जाने वाले attacks के प्रकारों के introduction के साथ होता है। message authentication के लिए fundamental approach से संबंधित है जिसे Message Authentication Code (MAC)  के रूप में जाना जाता है।  इसके दो categories में MACs की होती है: क्रिप्टोग्राफिक हैश फ़ंक्शन से बनाई और ऑपरेशन के ब्लॉक सिफर मोड का उपयोग करके बनाए गए। इसके बाद, हम एक relatively recent के approach को देखते हैं जिसे Authenticated encryption के रूप में जाना जाता है। हम क्रिप्टोग्राफ़िक हैश फ़ंक्शंस और pseudo random number generation के लिए MCA के उपयोग को देखते हैं। message authentication ए