सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

scheduling in operating system in hindi

 आज हम computer course in hindi मे हम scheduling in operating system in hindi के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

Scheduling in operating system in hindi:-

scheduling operating system इस इनपुट / आउटपुट requests के समूह को schedule करने का मतलब एक अच्छे order को निश्चित करना है जिसमें उन्हें execute करना है । वह order जिसमें application system calls को issue करती है और कभी - कभी वह सबसे अच्छी choice होती है । scheduling पूरे सस्टिम की कार्य गति को बढ़ा सकती है इस equipment access को ठीक प्रकार से प्रक्रियाओं के बीच शेयर कर सकती है और इनपुट / आउटपुट को पूरा करने के लिए average waiting time को कम कर सकती है । मान लो कि एक disc arm एक डिस्क की शुरूआत के निकट है , और वो तीन एप्लीकेशन उस disk blocking read calls को issue करता है । इस एप्लीकेशन 1 डिस्क के अन्त के निकट एक ब्लॉक को request करता है । एप्लीकेशन 2 शुरूआत के पास request करता है , और एप्लीकेशन 3 की request डिस्क के बीच में होती है । यह स्पष्ट है कि ऑपरेटिंग सिस्टम उस दूरी को कम कर सकते हैं जिसमें Disk Arm Application Serving के द्वारा 2 , 3 , 1 के order में ट्रैबल करती है और इस condition में services के order को दोबारा से लगाना ही इनपुट / आउटपुट scheduling का सार है । ऑपरेटिंग सिस्टम डैवलपर प्रत्येक device के लिए Request Q को Maintain करते हुये scheduling को पूरा करते हैं । जब एक एप्लीकेशन एक ब्लॉकिंग इनपुट / आउटपुट सिस्टम कॉल को issue करती है तो रिक्वैस्ट उस device के लिए एक Q में लग जाती है और इनपुट / आउटपुट scheduler पूरे सिस्टम की क्षमता को बढ़ाने के लिए Q के order को फिर से अरेन्ज कर देता है । और Average response time application के द्वारा अनुभवी होती है । ऑपरेटिंग सिस्टम सही होने के लिए भी Try कर सकता है . जैसे कि कोई भी एप्लीकेशन विशेष रूप से खराब सेवा प्राप्त नहीं करती या यह Delay sensitive request के लिए priority services दे सकता है और , वर्चुअल मैमोरी सब सिस्टम के द्वारा रिक्वैस्ट एप्लीकेशन रिक्वैस्ट पर Priority ले सकती है । डिस्क इनपुट / आउटपुट के लिए अनेक scheduling algorithm इसमें described किया गया है । एक तरफ इनपुट / आउटपुट सब सिस्टम कम्प्यूटर की योग्यता को scheduling इनपुट / आउटपुट ऑपरेशन के द्वारा बढ़ाता है और दूसरी तरफ डिस्क पर या मुख्य मेमोरी में तकनीकों के द्वारा स्टोरेज स्पेस का प्रयोग करके बढ़ाया जाता है इन तकनीकों को buffering, caching और spooling के नाम से जाना जाता है ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना

What is Message Authentication Codes in hindi (MAC)

What is  Message Authentication Codes in hindi (MAC) :- Message Authentication Codes (MAC) , cryptography के सबसे attractive और complex areas में से एक message authentication और digital signature का area है। सभी क्रिप्टोग्राफ़िक फ़ंक्शंस और प्रोटॉल्स को समाप्त करना असंभव होगा, जिन्हें message authentication और digital signature के लिए executed किया गया है।  यह message authentication और digital signature के लिए आवश्यकताओं और काउंटर किए जाने वाले attacks के प्रकारों के introduction के साथ होता है। message authentication के लिए fundamental approach से संबंधित है जिसे Message Authentication Code (MAC)  के रूप में जाना जाता है।  इसके दो categories में MACs की होती है: क्रिप्टोग्राफिक हैश फ़ंक्शन से बनाई और ऑपरेशन के ब्लॉक सिफर मोड का उपयोग करके बनाए गए। इसके बाद, हम एक relatively recent के approach को देखते हैं जिसे Authenticated encryption के रूप में जाना जाता है। हम क्रिप्टोग्राफ़िक हैश फ़ंक्शंस और pseudo random number generation के लिए MCA के उपयोग को देखते हैं। message authentication ए