सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Data in hindi : डेटा - DBMS in hindi

 आज हम computers in hindi मे  Data in hindi - DBMS in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

what is data in hindi (डाटा क्या है?) :-

इस डेटा में ऐसे , facts है जिनको storage या record किया जाता है और जिनका अर्थ स्पष्ट होता है । इसे उदाहरण के लिए हम छात्रों का एक डेटाबेस बनाना चाहते हैं और तब डेटा में निम्न facts जैसे नाम , पता , क्लास , विषय , रोल नम्बर etc शामिल होंगे , अर्थात डेटा ऐसे facts हैं और जिनके द्वारा डेटाबेस का निर्माण होता है । अब यदि हम छात्रों के फोटोग्राफ्स भी डेटाबेस में storage करना चाहते हैं हम तो यह एक नये प्रकार का facts है , लेकिन यह भी डेटाबेस में डेटा के रूप में storage हो सकता हैं।

definition of data in hindi:-

 डेटा में facts और taxt एवं graphics व Images , sound व video Segments इत्यादि जो user के वातावरण में उपयोगी होते हैं , इसको शामिल किया जाता है ।

Data and Information in hindi (डेटा और इन्फारमेशन) :-

इसमे डेटा तथा इन्फारमेशन दोनों में बहुत अधिक समानता होती है । ये दोनों एक - दूसरे की जगह भी use किये जाते हैं और वास्तव में ये एक - दूसरे से बिल्कुल अलग हैं । डेटा से मतलब उन facts अथवा row इन्फारमेशन से होता है , जिन्हें हम इनपुट द्वारा Execution के लिए देते हैं।

जबकि इन्फारमेशन एक तरह का Executed डेटा है और जिसे यूजर आउटपुट या रिजल्ट के रूप में use करते है । इसमे हम डेटा और इन्फारमेशन को अच्छे से समझने के लिए हम इसकी तुलना आटा चक्की से भी कर सकते हैं । यहां गेहूं डेटा के समान है , जबेकि आटा इन्फारमेशन के समान है और फ्लोअर मील प्रोसेसिंग मशीन एक कम्प्यूटर के समान है । 

Example of data:-

Kota 

Jaipur

 Jodhpur 

Delhi 

AJAY 

PANKAJ 

VAIBHAV 

SANTU 

RIYA 

ANUBHA 

ANKITA

 SUDHA 

SANJAY

Example of data:-

Metadata in hindi (मेटाडेटा) :-


मेटाडेटा ( Metadata ) : इसमे डेटा से संबंधित डेटा मेटाडेटा कहलाता है और ऐसा डेटा जो दूसरे डेटा के गुणों को Defined करता है और इन गुणों में डेटा की Defined , Data structures , rules या Constants आदि शामिल होते हैं ।  उदाहरण में NAME , ADD , CITY , DIVISION सभी मेटाडेटा के उदाहरण हैं । मेटाडेटा हमेशा जिस फाइल में storage होता है , उसे डेटा डिक्शनरी अथवा केटेलॉग कहते हैं ।

Database in hindi (डेटाबेस) :-


इसमे डेटाबेस एक संबंधित information का समूह होता है किन्तु यहाँ पर डेटाबेस के कुछ विशेष नियम होते हैं : Real world के कुछ गुण डेटाबेस के द्वारा Displayed किये जाते हैं। Real world को Miniworld या Universe of Discourse भी कहते हैं और Real world या Miniworld में परिवर्तन के साथ - साथ डेटाबेस में भी परिवर्तन दिखने चाहिए । इसमे डेटाबेस का समस्त डेटा लॉजिकल रूप से जुड़ा होना चाहिए व उसके कुछ स्वाभाविक गुण होने चाहिए होता है और इसमे सूचनाओं का अव्यवस्थित समूह डेटाबेस नहीं होता है , बल्कि इसमे किसी विशेष कार्य के लिए कुछ खास user के द्वारा डेटाबेस बनाया व संचालित किया जाता है ।
उदाहरण - दिया गया डेटा इस प्रकार है : AJAY , PANKAJ , KOTA , JAIPUR , DELHI , SUDHA , JODHPUR
 इस डेटा द्वारा बनाया गया डेटाबेस :
Metadata in hindi (मेटाडेटा) :-

इसमे यहाँ पर Organized से मतलब AJAY , PANKAJ , SUDHA ये सभी NAME फिल्ड में शामिल हैं । इसी तरह KOTA CITY में । जबकि Releted से मतलब ये सभी STUDENT हैं अर्थात् सभी एक क्लास अथवा कॉलेज के छात्र हैं ।

schema in hindi:-


इस डेटाबेस तथा डेटाबेस के description को अलग - अलग करना बहुत आवश्यक है । क्योंकि दोनों अलग - अलग ही होते हैं तथा उनमें से स्ट्रक्चर और डिजाईन का description को डेटाबेस स्किमा कहते हैं और इनकी विशेषता यह होती है कि इनमें परिवर्तन कभी - कभार होता है । इन्हें केटेलॉग / डेटा डिक्शनरी में संग्रह किया जाता है और स्किमा से सम्बन्धित आपरेशन के लिए जो सुविधा है , उसे DDL डेटा डेफिनीशिन लेंगवेज कहते है।

Instance and Database State (इन्सटान्स एवं डेटाबेस स्टेट) :-

इसमे किसी Situation में डेटाबेस में संग्रहित डेटा को Instance कहते हैं और किसी दिये गये डेटाबेस में प्रत्येक स्किमा के पास स्वयं का Instance का समूह होता है । इस Instance डेटा फाइल्स में संग्रह होते हैं व Instance से संबंधित सुविधा को DML डेटा मेन्युप्यूलेशन लेंगवेज भी कहते हैं।

Database Management System in hindi (डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम) :-

 इस डीबीएमएस program का ऐसा समूह होता है , जो Different उपयोगी कार्यों के लिए सुविधाएं को जैसे- डेटाबेस को बनाना व परिभाषित करना एवं एक्सेस व मेन्युपुलेट करना , इत्यादि Provide करना है । हम कह सकते हैं कि डीबीएमएस डेटाबेस व ऐसे प्रोग्रामों का समूह होता है और जिनकी मदद से हम डेटाबेस से डेटा को एक्सेस पढ़ना और परिवर्तित कर सकते हैं । कोई भी DBMS मुख्यत : सूचनाओं के बहुत बड़े समूह को नियंत्रित करने के लिए भी बनाया जाता है ।

डेटाबेस के मुख्य दो अवयव होते हैं : 
( 1 ) स्किमास् जो डेटा डिक्शनरी में संग्रह होते हैं । 
( 2 ) इन्सटान्सेस जो डेटा फाइल में संग्रह होते हैं ।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना

What is Message Authentication Codes in hindi (MAC)

What is  Message Authentication Codes in hindi (MAC) :- Message Authentication Codes (MAC) , cryptography के सबसे attractive और complex areas में से एक message authentication और digital signature का area है। सभी क्रिप्टोग्राफ़िक फ़ंक्शंस और प्रोटॉल्स को समाप्त करना असंभव होगा, जिन्हें message authentication और digital signature के लिए executed किया गया है।  यह message authentication और digital signature के लिए आवश्यकताओं और काउंटर किए जाने वाले attacks के प्रकारों के introduction के साथ होता है। message authentication के लिए fundamental approach से संबंधित है जिसे Message Authentication Code (MAC)  के रूप में जाना जाता है।  इसके दो categories में MACs की होती है: क्रिप्टोग्राफिक हैश फ़ंक्शन से बनाई और ऑपरेशन के ब्लॉक सिफर मोड का उपयोग करके बनाए गए। इसके बाद, हम एक relatively recent के approach को देखते हैं जिसे Authenticated encryption के रूप में जाना जाता है। हम क्रिप्टोग्राफ़िक हैश फ़ंक्शंस और pseudo random number generation के लिए MCA के उपयोग को देखते हैं। message authentication ए