सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

unix commands in hindi

inheritance in hindi

 आज हम computers in hindi मे inheritance in hindi (इनहेरिटेंस क्या है) और inheritance meaning in hindi- dbms in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

Inheritance in hindi (इनहेरिटेंस क्या है):-

इनहेरिटेंस मे एक Object oriented schema को आमतौर पर बड़ी संख्या में क्लासेस की आवश्यकता होती है और हालांकि कई क्लासेस समान होती हैं । 

Inheritance meaning in hindi:-

इन्हेरिटेन्स इनफॉर्मेशन को hierarchical technique से display करने की technique है । यह बिल्कुल उसी तरह से होती है जैसे एक शिशु अपने माता - पिता के गुण ग्रहण करता है । इन्हेरिटेन्स के द्वारा पुरानी तथा कम विशिष्ट क्लासेस से नई क्लास बनाने में मदद मिलती है । इसमें जिस क्लास को इन्हेरिट किया जाता है उसे Parent, Base, Ancestor, Super Class आदि नामों से जाना जाता है । जो क्लास किसी अन्य क्लास को इन्हेरिट करती है उसे Child, derived, sub class आदि नामों से जाना जाता है । चाइल्ड क्लास अपनी पेरेन्ट क्लास के All features को अपनाता है साथ ही अपने नए features भी Declared करती है ।

Example of inheritance in hindi:-
 एक बैंक एप्लीकेशन के लिए हमारे Object oriented database है । इसमे हमारी अपेक्षा यह होगी कि Bank customers की क्लास , Bank employee की क्लास के समान होगी । यह इस अर्थ में कि दोनों नेम , एड्रेस आदि के लिए Variables defined करते हैं । हालांकि ऐसे वेरियेबल्स भी है और जो एम्प्लाईस् के लिए Specific हैं जैसे सेलेरी और क्रेडिट रेटिंग । Common variables के लिए रिप्रेजेंटेशन एक स्थान पर define करना Desirable है । हम एक को तभी define कर पाएंगे जब यदि हम Employees और Customers को एक क्लास में Combine कर लेते है । इसमे क्लासेस के बीच समानताओं के सीधे Representation होने देने के लिए हमें क्लासेस को स्पेशलाईजेशन हारार्की में रखना होगा । 
उदाहरण के लिए हम कहते हैं कि Employ और Person का Specialization , क्योंकि सभी Employees का सेट , सभी पर्सस के सेट का सबसेट है । अर्थात् प्रत्येक employ एक person है । इसी प्रकार Customer person का Specialization है । 
इसमे एंटीटी रिलेशनशील मॉडल में क्लास हायरार्की की अवधारणा और स्पेशलाईजेशन हायरार्की की अवधारणा के समान ही है । Employees और costumer को क्लासेस द्वारा display किया जा सकता है और जो पर्सन क्लास का Specialization है । Employees के लिए Specific variables व Method's Employ Class से जुड़ी होती हैं । इसमे costumer के लिए Specific variables और Method customer class से Associated होती है । वेरियेबल्स और मेथड्स जो Employees व costumers दोनों पर लागू होते हैं और पर्सन क्लास से releted होते हैं ।
inheritance meaning in hindi

Types of inheritance in hindi (इनहेरिटेंस के  प्रकार):-

1. सिंगल इन्हेरिटेन्स ( Single Inheritance ) 
2. मल्टीलेवल इन्हेरिटेन्स ( Multilevel Inheritance ) 
3. मल्टीपल इन्हेरिटेन्स ( Multiple Inheritance ) 
4. हीरारकीकल इन्हेरिटेन्स ( Heirarchical Inheritance )
5. मल्टीपाथ इन्हेरिटेन्स ( Multipath Inheritance) 
6. हाइब्रिड इन्हेरिटेन्स ( Hybrid Inheritance )

1. सिंगल इन्हेरिटेन्स ( Single Inheritance ) :-

इसमें एक चाइल्ड क्लास सिर्फ एक ही पेरेन्ट क्लास को इन्हेरिट करती है ।
Single Inheritance

2.मल्टीपल इन्हेरिटेन्स ( Multiple Inheritance ):-

किसी डिराइव्ड क्लास से पुन : डेरीवेशन करना multiple Inheritance है।
Exam ने student को इन्हेरिट करके उसकी सभी Properties eclipse की साथ ही Person की भी सभी प्रोपर्टीज़ Indirectly Exam को मिल गई । 
Multiple Inheritance

3. मल्टीपल इन्हेरिटेन्स (Multiple Inheritance):-

इस प्रकार की इन्हेरिटेन्स में एक चाइल्ड क्लास दो या दो से अधिक पेरेन्ट क्लास रखती है तथा समस्त पेरेन्ट क्लास की प्रोपर्टीज़ को Indirectly ग्रहण करती है ।
एक से अधिक बेस क्लास इन्हेरिट करने के लिए बेस क्लासेस की लिस्ट देनी होता है , बेस क्लासेस की लिस्ट में बेस क्लासेस के नामों को ( कोमा ) , के द्वारा अलग किया जाता है । 
Class Derivedclass : visibility mode base classl , visibilitymode base class2
{ ......................
};
अगर Visibility mode ना दिया तो बाए डिफॉल्ट प्राइवेट रहता है ।
Multiple inheritance
इसमे अधिकतर में क्लासेस का Tree styling organization व Tree structured organization में Application described करने के लिए पर्याप्त होता है और इसमे प्रत्येक क्लास में अधिकतम एक super class हो सकती है । हालांकि ऐसी स्थिति भी होती है , जिसे Tree structured class hierarchy में display नहीं किया जा सकता है । यहाँ पर मल्टीपल इनहेरिटेंस व क्लास को multiple superclass से वेरियेबल्स और मेथड्स इनहेरिट करने की permission देता है और Class subclass relationship , Directed Acyclic Graph ( DAG ) से display की जाती है और जिसमें एक क्लास में एक से अधिक सुपरक्लास हो सकती है । 
●इसमे दोनों वेरियेबल्स को शामिल कर लें और student.dept और teacher.dept के रूप में उन्हें रिनेम करते है और जिस क्रम में क्लासेस स्टेडेंट और टीचर निर्मित किए थे , उसके अनुसार एक या दूसरे का चुनाव करते हैं । 
●इसमे Class Teaching Assistant की डेफिनेशंस में यूजर को स्पष्ट रूप से एक चुनाव करने के लिए Bound करते हैं और स्थिति को एक ऍरर के रूप में ट्रीट करते हैं ।

4. हीरारकीकल इन्हेरिटेन्स ( Heirarchical Inheritance ):-

एक बेस क्लास बहुत से dervied classes का Derivation तथा पुन : उन से और अधिक क्लासेस का Derivation हिरेरकीकल इन्हेरिटेन्स (hierarchical Inheritance) कहलाता है । hierarchical mode में Top-down approach रखी जाती है जिसमें एक complex क्लास को सरल क्लास में विभाजित किया जाता है । बेस क्लास में वे प्रोपर्टीज़ रखी जाती हैं जो सभी चाइल्ड्स क्लास में कॉमन हों । ये चाइल्ड क्लासेस आगे पुनः बेस क्लास क कार्य करती हैं ।
Heirarchical Inheritance

5. मल्टीपाथ इन्हेरिटेन्स ( Multipath Inheritance) :-

इस प्रकार की इन्हेरिटेन्स में Multiple inheritance के द्वारा एक चाइल्ड क्लास बनाई जाती है। जिन क्लासेस को चाइल्ड क्लास इन्हेरिट करती है वे पहले से किसी एक क्लास को इन्हेरिट कर चुकी होती हैं । इस इन्हेरिटेन्स में एक से अधिक इन्हेरिटेन्स की फॉर्म है जैसे - मल्टीलेवल , मल्टीपल तथा हिरेरकीकल
मल्टीपाथ इन्हेरिटेन्स ( Multipath Inheritance)
child क्लास दो parent क्लास को इन्हेरिट कर रही है , यह Multiple inheritance है । Grand parent को parent 1 व parent 2 ने इन्हेरिट किया है , तथा parent 1 व parent 2 को Child ने इन्हेरिट किया है , यह Multiple inheritance , Heirarchical Inheritance है ।
 Multipath Inheritance में एक समस्या यह है कि Child क्लास Grand parent क्लास की Properties को Indirectly दो बार इन्हेरिट कर रही है । एक बार parent के माध्यम से दूसरी बार parent 2 के माध्यम से । अत : चाइल्ड के पास Grand parent की Properties के दो सैट बन जाते हैं जिससे कम्पाइल टाइम error आती है । अत : इस समस्या के समाधान के लिए Virtual classes का प्रयोग किया जाता है । इसके लिए जब Derived class declare की जाती है तभी बेस क्लास को वर्चुअली इन्हेरिट करता हुआ declare किया जाता है । 
class parentl : virtual public Grand parent 
{...........
.............
};
class parentl : virtual public Grand parent 

6. हाइब्रिड इन्हेरिटेन्स ( Hybrid Inheritance ):-

कई बार ऐसी स्थिति आती है कि एक से अधिक इन्हेरिटेन्स की फॉर्म प्रयोग में लाई जाती है तब उस अवस्था को हाइब्रिड इन्हेरिटेन्स कहा जाता है ।
Exam क्लास मल्टीलेवल इन्हेरिटेन्स से derived की गई है । Result क्लास का डेरीवेशन Exam तथा sports के जरिए मल्टीपाथ इन्हेरिटेन्स है । 
Hybrid Inheritance

Types of inheritance syntax 

( 1 ) Single Inheritance syntax
class Derived : Visibility mode Base

{::::::::::::::::
};
(2) Multiple Inheritance syntax
class Derived : Visibilitymode Base 1, Visibility mode Base 2 ,
{ ::::::::::::::
} ;
 (3) Heirarchical Inheritance syntax 
class Derived 1 : visibilitymode Base 
     :::::::::::::::
};
class Derived 2 : visibilitymode Base 
{
    ::::::::::::::::
};
class D3: visibilitymode Derived 1 
{
   :::::::::::: 
} ; 
(4) Multi level inheritance syntax 
class B: visibility mode A
{
   ::::::::     
};
class C: visibility mode B
{
   :::::::::::::
 };
 class D: visibility mode C
{   
:::::::::
 } ;
(5) Multipath Inheirtance syntax 
class B: visibility mode A
{
    :::::::
};
class C: visibility mode A
{
 ::::::::
 } ; 
class D: visibility mode B, visibility mode C 
{
    ::::::::
} ;


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

foxpro commands in hindi

आज हम computers in hindi मे  foxpro commands  क्या होता है उसके कार्य के बारे मे जानेगे?   foxpro all commands in hindi  में  तो चलिए शुरु करते हैं-   foxpro commands in hindi:-  (1) Clear command in foxpro in hindi:-  इस  command  का प्रयोग  foxpro  की main स्क्रीन ( जहां रिकॉर्ड्स / Output प्रदर्शित होते हैं ) को Clear करने के लिए किया जाता है ।  (2) Modify Structure in foxpro in hindi :-  इस  command  का प्रयोग वर्तमान प्रयुक्त  डेटाबेस  फाईल के स्ट्रक्चर में आवश्यक परिवर्तन करने के लिए किया जाता है । इसके द्वारा नये फील्ड भी जोड़े जा सकते हैं तथा पुराने फील्ड्स को हटाया व उनके साईज़ में भी परिवर्तन किया जा सकता है ।  (3) Rename in foxpro in hindi :-  इस  command  के द्वारा किसी  database  file का नाम बदला जा सकता है जिस फाईल को Rename करना हो वह मैमोरी में खुली नहीं होनी चाहिए ।   Syntax : Rename < Old filename > to < New filename >  Foxpro example: -  Rename Student.dbf to St.dbf (4) Copy file in foxpro in hindi :- इस command के द्वारा किसी एक डेटाबेस फाईल के रिकॉ