सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

What is Magnetic Tape in hindi

bluetooth in hindi - ब्लूटूथ क्या है

आज हम computers in hindi मे hindi mein bluetooth जानकारी देगे bluetooth in hindi(ब्लूटूथ क्या है?) - computer network in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- 

bluetooth in hindi (ब्लूटूथ क्या है):-

bluetooth ke bare mein , ब्लूटुथ एक open wireless Technique है जो कम दूरी पर उपस्थित devices में डेटा के आदान - प्रदान के लिए PAN ( personal area network ) बनाती है , तथा इसमें डेटा को सुरक्षा भी प्रदान करती है । 
ब्लूटुथ डेटा के आदान - प्रदान की एक तकनीक है जो कि wireless है । यह एक wire replacement communication technique अर्थात् ऐसी तकनीक जिसमें Conversations के लिए दो devices के बीच तार की आवश्यकता नहीं होती , इनके कार्य करने की दूरी सीमित होती है , ये अपनी गुणवत्ता व क्षमता के अनुसार कुछ ही मीटर्स की दूरी पर कार्य करते हैं । यह तकनीक अधिक महंगी नहीं होती है । इसका प्रयोग विभिन्न प्रकार के उपकरणों जैसे कि सैल्यूलर फोन , टेबलेट , कम्प्यूटर आदि में डेटा के आदान - प्रदान के लिए किया जाता है ।
ब्लूटुथ में विश्वसनीयता , गोपनीयता तथा सुरक्षा को प्राथमिकता दी जाती है । जब दो devices की पेयरिंग होती है , अर्थात् उन्हें आपस में माध्यम से जोड़ा जाता है तब एक प्रारम्भिक और एक मास्टर - की निर्धारित की जाती है । इसमें डेटा को आदान - प्रदान करने के लिए डेटा पैकेट्स को एनक्रिप्ट किया जाता है जिससे कि डेटा सुरक्षित रूप से नेटवर्क पर यात्रा कर ब्लूटुथ के सके ।
bluetooth in hindi : ब्लूटूथ क्या है

bluetooth architecture in hindi:-

bluetooth architecture लेयर प्रोटोकॉल की तरह है । जिसमें विभिन्न प्रकार के प्रोटोकॉल जैसे केबल रिप्लेसमेन्ट प्रोटोकॉल , टेलीफोनी रिप्लेसमेन्ट टोकॉल , एडोप्टेड प्रोटोकॉल आदि शामिल हैं । ब्लूटुथ के लिए जो प्रोटोकॉल necessarily आवश्यक है उनमें ( LMP - Link Management Protocol ) , ( LLAP - Logical Link and Adaption Protocol ) , ( SDP - Service Discovery Protocol ) हैं । यह फ्रीक्वेन्सी होपिंग स्प्रेड स्पैक्ट्रम तकनीक पर कार्य करती है । यह तकनीक भेजे जाने वाले डेटा को छोटे - छोटे भागों में विभाजित कर 79 बैण्ड तक पर भेजती है । मास्टर स्लेव संरचना पर कार्य करने वाली ब्लूटुथ तकनीक पैकेट आधारित प्रोटोकॉल का उपयोग करती है । एक मास्टर एक समय में 7 स्लेव के साथ स्थापित कर सकता है ।
कोई भी उपकरण जो कि पता लगाने योग्य अवस्था में हो वह जानकारी प्रेषित करता है 
  • उपकरण का नाम 
  • उपकरण की क्लास 
  • सेवाओं की लिस्ट 
  • टेक्नीकल सूचना 
कोई भी ब्लूटुथ उपकरण उसकी सीमा में आने वाले ब्लूटुथ उपकरण की जानकारी ले सकता है तथा कोई भी उपकरण मांगी गई जानकारी दे सकता है । जब दो उपकरणों की पेयरिंग होती है , अर्थात् उन्हें आपस में ब्लूटुथ के माध्यम से जोड़ा जाता है तब एक प्रारम्भिक और एक मास्टर - की निर्धारित की जाती है । इसमें डेटा को आदान - प्रदान करने के लिए डेटा पैकेट्स को एनक्रिप्ट किया जाता है जिससे कि डेटा सुरक्षित रूप से नेटवर्क के माध्यम से एक डिवाइस से दूसरी डिवाइस पर भेजा जा सके ।

bluetooth technology in hindi:-

ब्लूटुथ टेक्नॉलॉजी एक ऐसी टेक्नॉलॉजी है जिसका उपयोग डेटा का आदान - प्रदान करने के लिए किया जाता है । यह तकनीक पूर्णतः wireless होती है इसलिए इसे open wireless भी कहा जाता है । यह तकनीक वायरलैस तो होती है परन्तु इसकी दूरी सीमित होती है अर्थात् यह एक निश्चित व कम दूरी पर ही कार्य कर सकती है । 
इस तकनीक का उपयोग करके जब डेटा की एक डिवाइस से दूसरी डिवाइस में भेजा जाता है तो सर्वप्रथम ब्लूटुथ के द्वारा एक PAN ( personal area network ) बनाया जाता है जिसमें ब्लूटुथ डिवाइसेस को आपस में कनैक्ट किया जाता है उसके पश्चात् ही उनमें डेटा का आदान - प्रदान सम्भव हो पाता है ।
इस तकनीक में डेटा के आदान - प्रदान को सुरक्षित व गोपनीय रखने के लिए कुछ सुरक्षा के features भी होते हैं । इसके द्वारा जब PAN बनाया जाता है तब डिवाइसेस को आपस में कनैक्ट करने के लिए pass key मांगी जाती है । सही pass key इनपुट करने वाले डिवाइसेस ही उस PAN में जुड़ जाते हैं ताकि किसी unauthorized person को नेटवर्क में जुड़ने से रोका जा सके । 
अत : ब्लूटुथ एक open wireless तकनीक है जो कम दूरी पर उपस्थित उपकरणों में डेटा के आदान - प्रदान के लिए PAN ( personal area network ) बनाती है , तथा इसमें डेटा को सुरक्षा भी प्रदान करती है । यह तकनीक अधिक महंगी नहीं होती है । इसका प्रयोग विभिन्न प्रकार के उपकरणों जैसे कि सैल्यूलर फोन , टेबलेट , कम्प्यूटर आदि में डेटा के आदान - प्रदान के लिए किया जाता है ।

MAC layer bluetooth system :-

ब्लूटुथ तकनीक wireless कम्यूनिकेशन पर कार्य करती है , इसकी सहायता से डेटा को एक डिवाइस से दूसरी डिवाइस में भेजा जाता है । यह कम दूरी पर तथा 2.4GHz बैण्डविड्थ पर कार्य करता है इसमें किसी तार का उपयोग नहीं किया जाता इसलिए इसे wireless LAN की श्रेणी में गिना जाता है । सिस्टम में मुख्यतः दो लेयर्स पर कार्य किया जाता है जिन्हें PHY ( physical layer ) MAC in hindi ( medium access control layer ) के नाम से जाना जाता है । 
MAC layer कई प्रकार के कार्य करती है । यह ना केवल medium access करती है बल्कि roaming, anthentication और power conservation को भी ब्लूटुथ support करती है । 
MAC layer का मुख्य कार्य physical layer से इन्टरफेस करना तथा डेटा के ट्रॉस्पिशन को सुनिश्चि करना होता है । इसके द्वारा डेटा को एक डिवाइस से दूसरी डिवाइस पर छोटे - छोटे पैकेट्स में अर्थात् छोटे छोटे टुकड़ों में भेजा जाता है । MAC layer मे यह भी निर्धारित किया जाता है कि ट्रांस्मिशन के लिए कम्यूनिकेशन बैण्ड उपलब्ध है या नहीं । MAC layer के द्वारा यह निर्धारण physical layer के mechanism के माध्यम से किया जाता है । कम्यूनिकेशन बैण्ड के उपलब्ध होने पर फ्रेम किए गए डेटा को ट्रांस्मिशन के लिए physical layer को hand over कर दिया जाता है। ब्लूटुथ सिस्टम में MAC layer का मुख्य कार्य physical layer से डेटा के ट्रांस्पिशन को सुनिश्चि करना होता है ।

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल