सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

What is Magnetic Tape in hindi

how to run microsoft word in safe mode

 आज हम computer in hindi मे how to run microsoft word in safe mode - Ms-excel tutorial in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

how to run microsoft word in safe mode:-

Microsoft Window एक Operating System है । यह अपने द्वारा किसी भी Application को Run करने का महत्त्वपूर्ण कार्य सम्पन्न करता है । Windows की Desktop आ जाने के बाद Windows में हम किसी भी Application Software को Run कर सकते हैं।
 एक Operating System ( MS Windows ) का मुख्य कार्य भी यही होता है कि वह किसी प्रोग्राम को Run करे या उन्हें execute होने की सुविधा उपलब्ध करवाये । MS Windows में किसी भी application को run करने के कई तरीके हैं-
1. Desktop पर स्थित Shortcut के द्वारा 
2. Start → Program पर click करके 
3. Start Start → Run पर click करके 
4 . Start पर Right click → Explorer द्वारा 
5. My Computer → Related Application Path से

1. Desktop पर स्थित Shortcut के द्वारा :-

Windows की Desktop पर हम किसी भी Application को एक shortcut के रूप में set कर सकते हैं चाहे उसकी मुख्य location कहीं पर भी हो लेकिन उसका shortcut Desktop पर मौजूद होना चाहिए । एक shortcut को Desktop पर double click करके run किया जा सकता है । 
उदाहरण के लिए , यदि हमें MS Word को Run करना हो तो नीचे दिये गये चित्रानुसार हम Desktop से उसे चला सकते हैं ।
MS Word नामक Shortcut पर Right click करने से निम्न प्रकार menu उपलब्ध होता है जिसके open पर click करने से MS Word Application Run हो जाती है।

( 2 ) Start → Program पर Click कर Application Run करना:-

 किसी भी application को Microsoft Windows पर रन करने का सबसे आसान तरीका Start Button पर Mouse का click कर program पर click करते हैं । प्राप्त विभिन्न प्रोग्रामों में से वांछित प्रोग्राम पर Mouse Pointer को ले जाकर click करते हैं तो वह Application Windows में Run ( Execute ) हो जाता है । माना हमें इस विधि द्वारा Microsoft Excel को Run करना है ।

( 3 ) Start → Run पर Click कर Application Run करना:-

Microsoft Windows में किसी भी application को tun करने का एक shortcut तरीका यह भी है कि Start Button पर click कर Rul नामक cption पर यदि click करते हैं तो हमारे सामने उस application का नाम व path देने के लिए एक dialog box उपस्थित होता है जिसमें application का नाम व पाथ देना होता है ।

( 4 ) Start पर Right Click → Explorer Click द्वारा Application Run द्वारा करना:-

 Windows Operating System मे Desk Top के Start Button Right Click किसी Application को Run किया जा सकता है । 
उदाहरण : यदि हमें Adobe Pagemaker Application को इस विधि के द्वारा run करना हो तो हम Start पर Right click करते हैं तथा प्राप्त menu में से Explorer पर click करते हैं जिससे हमारे सामने निम्न प्रकार Windows Explorer की Window प्रदर्शित होती है।
ऊपर दी गई Windows में सम्बन्धित application को run करने के लिए उसके पाथ तक पहुँच कर exe file को double click कर चलाया जा सकता है । 

( 5 ) My Computer द्वारा Application Run करना:-

Windows में Desk Top पर स्थित My Computer नामक icon पर Double Click करने से कम्प्यूटर की समस्त drive प्रदर्शित होती है । यहाँ से हम किसी भी application को , जिस drive या directory में वह उपस्थित है , run कर सकते हैं । जब हम My Computer पर double click करते हैं तो हमारे सामने एक Window उपस्थित होती है ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल