सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

What is Magnetic Tape in hindi

standard bar in ms word

 आज हम computer in hindi मे standard bar in ms word - Ms-word tutorial in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

standard bar in ms word:-

1. New Button :-

MS - Word में इस बटन का प्रयोग नई डॉक्यूमेन्ट फाइल बनाने के लिए किया जाता है । इस फाइल में हम Typing से सम्बन्धित कोई भी कार्य कर सकते हैं । 

2.Open Button :-

इस बटन का प्रयोग पहले से बनी हुई फाइल को खोलने के लिए किया जाता है । जब Open Button पर click करते हैं तब एक dialog box खुलता है । यह Box हमसे फाइल का नाम पूछता है । उस फाइल का नाम Type करके open button पर click करते हैं तब वह फाइल खुल जाती है ।

3. Save Button :-

 इसका प्रयोग हाल ही में बनायी गई फाइल को save करने के लिए किया जाता है । जब इस बटन पर click करते हैं तब एक dialog box प्रदर्शित होता है । जिसमें हमें उस फाइल का नाम देना होता है । उसके बाद save पर click करने से वह फाइल कम्प्यूटर की मेमोरी में save हो जाती है ।

4.Cut Button :-

 इस बटन का प्रयोग पहले से खुली हुई फाइल के select किए हुए भाग को document से मिटाने के लिए किया जाता है या इसका प्रयोग window clipboard पर कट की गई फाइल को किसी दूसरी जगह कॉपी करने के लिए भी किया जाता है । 

5.Copy Button :-

इस बटन का प्रयोग पहले से खुली हुई फाइल के select किए हुए भाग को window clipboard पर कॉपी करने के लिए किया जाता है । 

6. Paste Button :-

इस बटन का प्रयोग खुली हुई document फाइल में cursor ( कर्सर ) की स्थिति के अनुसार विण्डोज क्लिपबोर्ड पर स्थित Text को लाने के लिए किया जाता है ।

7. Print Button :-

इस बटन का प्रयोग पूरी तरह से तैयार की गई फाइल का प्रिन्ट निकालने के लिए किया जाता है । जिसको हार्ड कॉपी के नाम से पुकारा जाता है । 

8. Undo Button :-

इसका प्रयोग खुली हुई document file में किए गए परिवर्तन को निरस्त ( cancel ) करने के लिए किया जाता है । 

9. Redo Button :-

इस बटन का प्रयोग document में खुली हुई फाइल में किए गए परिवर्तन को वापस लाने में किया जाता है । 

10. Auto - Format Button :-

इसका प्रयोग खुली हुई document file में किसी भाग की text format को पूरी फाइल में अपने आप ही कार्यकारी करने के लिए किया जाता है । 

11.Worksheet Button :-

 इसका प्रयोग फाइल में कर्सर की स्थिति पर एक MS - Excel की worksheet को जोड़ने के लिए किया जाता है । 

12. Drawing Button :-

इसका प्रयोग स्क्रीन पर नीचे Drawing Toolbar को प्रदर्शित करने के लिए किया जाता है । 

13. Columns Button :-

इसका प्रयोग खुली हुई document file के पृष्ठ को चुने हुए कॉलम्स के अनुरूप बाँटने के लिए किया जाता है ।

14. Show / Hide Button:-

इसका प्रयोग खुली हुई फाइल में Tab , Enter के प्रयोग व पैराग्राफ के शुरू होने के स्थान पर विशेष चिह्नों के प्रदर्शन हेतु किया जाता है । 

15. Zoom Control Button :-

इस बटन का प्रयोग पृष्ठ के आकार के प्रदर्शन को पक्का करने के लिए किया जाता है । 

16. Insert Auto Text :-

इसका उपयोग पहले से खुली हुई document file में किसी भाग के text को फाइल में किसी स्थान पर अपने आप ही लाने के लिए किया जाता है ।

17. Insert Table :-

इस बटन का प्रयोग खुली हुई document file में कर्सर जहाँ पर स्थित है वहीं पर एक तालिका को चुने गए rows व columns के अनुसार insert करने के लिए किया जाता है । 

18. Insert Chart :-

इसके द्वारा हम फाइल में किसी भी प्रकार के चार्ट को insert कर सकते हैं ।

19. Insert MS - Excel Button :-

इसके द्वारा खुली हुई फाइल में वर्कशीट को insert किया जा सकता है । 

20. Help Button :-

इसका प्रयोग किसी भी प्रकार की सहायता के लिए किया जाता है । 

21. Spelling Button :-

इसका प्रयोग document में से spelling check करने के लिए किया जाता है। 

22.Print Preview Button :-

 इसका प्रयोग document को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिव्यू देखने के लिए किया जाता है ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल