सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

computer question in hindi

what is translator in computer in hindi (अनुवादक )

 आज हम computer in hindi मे आज हम what is translator in computer in hindi (अनुवादक )   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

what is translator in computer in hindi (अनुवादक क्‍या है ?):-

हम जानते हैं कि कम्प्यूटर केवल बाइनरी 0 व 1 की लेंग्वेज समझता है परन्तु यह लेंग्वेज प्रोग्रामर के लिए कठिन है । अतः प्रोग्रामिंग को आसान बनाने के लिए असेम्बली व हाई - लेवल लेंग्वेज का विकास किया गया । परन्तु इन लेंग्वेज में लिखे गए प्रोग्राम्स को कम्प्यूटर नहीं समझ पाता । अतः एक ऐसे अनुवादक ( translator ) की आवश्यकता पड़ती है जो कि असेम्बली या हाई - लेवल लैंग्वेज में लिखे गए प्रोग्राम को मशीन लेंग्वेज में बदल दे । 

Types of translator ( अनुवादक के प्रकार ) :-

( i ) Assembler 
( ii ) Interpreter
( iii ) Compiler

1. असेम्बलर ( Assembler in hindi):-

 यह एक सिस्टम सॉफ्टवेयर है जो कि किसी असेम्बली लेंग्वेज में लिखे प्रोग्राम को equivalent मशीन कोड में बदल देता है जिससे इसे कम्प्यूटर पर रन किया जा सके । कम्प्यूटर में लगे माइक्रोप्रोसेसर के अनुसार ही उसका असेम्बलर काम में लेते हैं जैसे x86 Assembler इन्टेल कम्पनी द्वारा बनाए गए Microprocessors पर काम में लिया जाता है ।
असेम्बलर ऐसे प्रोग्राम होते हैं जो असेम्बली लेंग्वेज प्रोग्राम ( symbolic instruction codes ) को मशीन लेंग्वेज इन्स्ट्रक्शन में बदलते हैं । ये सिम्बल कोड ( ADD , MOV , LOAD , इत्यादि ) को मशीन कोड में इस प्रकार बदलता है कि प्रत्येक सिम्बॉलिक निर्देश का एक मशीन कोड निर्देश बनता है । 

असेम्बलर के प्रकार (types of assembler in hindi) :-

( i ) One - Pass Assembler
( ii ) Two - Pass Assember
Example:-
TASM (Turbo Assembler) 
MASM (Macro Assembler) 

2. इन्टरप्रेटर ( Interpreter in hindi):-

इन्टरप्रेटर ऐसे ट्रांसलेटर ( Translator ) प्रोग्राम होते हैं . जो किसी हाई - लेवल लेंग्वेज में लिखे प्रोग्राम को Line - by - Line चैक करके उसको Execute करते हैं । यदि किसी लाइन में error हो तो उस लाइन को Execute करने से पूर्व error से सम्बन्धित error message देते हैं । प्रोग्रामर इस Message को पढ़कर त्रुटि दूर करते हैं । इन्टरप्रेटर की Translation Speed कम्पाइलर से बहुत कम होती है । इन्टरप्रेटर का विकास प्रारम्भिक हाई - लेवल लेंग्वेज जैसे BASIC में लिखे प्रोग्राम के translator के रूप में किया जाता है । इसके Translation में Co. Exe फाइल नहीं बनती HLL Program की प्रत्येक लाइन का Translation तथा Execution साथ - साथ चलता है ।
Example:-
GWBASIC बेसिक ( BASIC ) लेंग्वेज का लोकप्रिय इन्टरप्रेटर है ।

3. कम्पाइलर ( Compiler in hindi):- 

कम्पाइलर ऐसे Translator प्रोग्राम होते हैं जो किसी हाई - लेवल लेंग्वेज ( HLL ) प्रोग्राम को चैक करके मशीन लेंग्वेज प्रोग्राम में बदलते हैं । कम्पाइलर सबसे अधिक गति के Translator होते हैं क्योंकि वे एक बार में ही पूरा प्रोग्राम क्रियान्वित कर उसे मशीन लेंग्वेज में बदल देते हैं । HLL Program में यदि कोई error होती है तो सभी errors को line numbers के साथ प्रदर्शित करते हैं ।
Example:-
(i)Turbo C (Popular compiler of C language) 
(ii)Borland C++ (Popular compiler of C++ language) 
(iii) Quick BASIC (Popular compiler of BASIC language)

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल

foxpro commands in hindi

आज हम computers in hindi मे  foxpro commands  क्या होता है उसके कार्य के बारे मे जानेगे?   foxpro all commands in hindi  में  तो चलिए शुरु करते हैं-   foxpro commands in hindi:-  (1) Clear command in foxpro in hindi:-  इस  command  का प्रयोग  foxpro  की main स्क्रीन ( जहां रिकॉर्ड्स / Output प्रदर्शित होते हैं ) को Clear करने के लिए किया जाता है ।  (2) Modify Structure in foxpro in hindi :-  इस  command  का प्रयोग वर्तमान प्रयुक्त  डेटाबेस  फाईल के स्ट्रक्चर में आवश्यक परिवर्तन करने के लिए किया जाता है । इसके द्वारा नये फील्ड भी जोड़े जा सकते हैं तथा पुराने फील्ड्स को हटाया व उनके साईज़ में भी परिवर्तन किया जा सकता है ।  (3) Rename in foxpro in hindi :-  इस  command  के द्वारा किसी  database  file का नाम बदला जा सकता है जिस फाईल को Rename करना हो वह मैमोरी में खुली नहीं होनी चाहिए ।   Syntax : Rename < Old filename > to < New filename >  Foxpro example: -  Rename Student.dbf to St.dbf (4) Copy file in foxpro in hindi :- इस command के द्वारा किसी एक डेटाबेस फाईल के रिकॉ

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ