सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

excel formulas in hindi

 आज हम computer in hindi मे excel formulas in hindi - Ms-excel tutorial in hindi के बारे में जानकारी  आज हम computer in hindi मे excel formulas in hindi - Ms-excel tutorial in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

ms excel formula in hindi:-

सैल में फॉर्मूला लिखने के लिए पहले उस cell को select करते हैं । अब उसमें कोई भी गणितीय फॉर्मूला लिख सकते हैं । 

Meaning of excel formulas in hindi:- 

एक फॉर्मूला वेल्यूज , सैल , रैफरेन्स , रेन्ज का नाम , फंक्शन या operator की श्रेणी है । फॉर्मूला से worksheet में भरे हुए डाटा की गणना कर सकते हैं । 

Make ms excel formula in hindi:-

  • MS Excel में कोई भी फॉर्मूला बराबर ( = ) के चिन्ह से शुरू होता है । 
  • उसके बाद Cell Reference लिखा जाता है । 
  • अब कोई भी operator या फंक्शन लगाया जाता है जिसकी सहायता से हम गणना कर सकें । उसके बाद कोई भी न्यूमेरिक मान लगाया जाता है । 
  • इस प्रकार उपरोक्त विधि के द्वारा हम formula तैयार करते हैं । 
उदाहरण 1:- = 2 * ( A5 + A6 + 10 ) 
उदाहरण2:- = + A5 - B4 * 3 + C4 
उदाहरण 3 : = 3 * A6 + 12 / A4--2 
उदाहरण 4 : = [ 2 * 3 * ( A3-4 ) ] 
उदाहरण 5 : = ( 3 * 6 + 12 ) / 4-2 आदि ।
Note : किसी भी प्रकार का फॉर्मूला बनाने के लिए Operators का उपयोग सबसे महत्वपूर्ण किया जाता है ।

 विभिन्न प्रकार के ऑपरेटर ( Different kinds of Operator ) :-

1. Arithmetic Operator :-

इनका प्रयोग गणितीय क्रियाओं को करने के लिए किया जाता है । विभिन्न अर्थमेटिक ऑपरेटर्स -
ऑपरेटर         इसे निम्न तरीके से बोलते हैं : 
+ , -              यूनेरी प्लस , यूनेरी माइनस 
%                 परसेन्ट ( Percent ) 
^                  एक्सपोनेन्टेशन ( Exponentation ) 
x तथा /         Multiplication तथा Division 
+ and -        Addition व Substraction

2. तुलना वाले ऑपरेटर ( Comparison Operator ) :-

जब दो मान या संख्याओं की तुलना करनी हो तो इस ऑपरेटर को काम में लिया जाता है ।
Operator              Meaning
=                            बराबर ( Equal to ) 
<                            से छोटा है ( Less than ) 
>                            से बड़ा है ( Greater than ) 
<=                         छोटा या बराबर है ( Less than or Equal to ) 
>=                         बड़ा या बराबर है ( Greater than or Equal to ) 
<>                         बराबर नहीं है ( Not Equal to ) 
इनका Result सत्य ( True ) या असत्य ( False ) में होता है ।

3. Text Operator :-

MS - Excel के द्वारा एक ही TextOperator दिया जाता है और वह है - "&"
जब दो संख्याएँ दूर - दूर हों तो & लगाने से यह दोनों संख्याओं को पास - पास ले आता है ।

4.ऑपरेटरों का प्रिसिडेन्स ( Precedence ofoperators ) :-

प्रिसिडेन्स का मतलब है कि Operators के द्वारा गणना किस क्रम में करवानी है । जैसे एक फॉर्मूले में कई ऑपरेटर काम में लिए गए हैं तो किस ऑपरेटर से पहले गणना करवानी है और किस ऑपरेटर से गणना बाद में करवानी है , इसी को प्रिसिडेन्स या क्रम कहते हैं । 
Operator               Meaning 
-                              ( यूनेरी - ) ( Unary- ) 
%                            परसेन्ट ( Percent ) 
^                             एक्सपोनेन्शियेशन ( Exponentiation ) 
x and /                   गुणा व भाग
+ and -                  जोड़ व घटाना 
&                            Text Join करना 
=,<,>,<=,>=,<>      कम्पेरिजन 

excel formulas को लिखने के नियमों :-

सबसे पहले छोटे ब्रेकेट्स ( Parentheses ) के अन्दर के कार्य को हल करें । 
Lower Precedence ( लोअर प्रेसिडेन्स ) वाले Operators को हायर प्रेसिडेन्स वाले ऑपरेटरों के बाद रखते हैं ।
 जैसे- * व / का प्रेसिडेन्स समान है तो उदाहरण : 2x5 → / 6 
इसमें पहले 2x5 को हल करके उसके बाद उसमें 6 का भाग दिया जायेगा ।


देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

ms excel formula in hindi:-

सैल में फॉर्मूला लिखने के लिए पहले उस cell को select करते हैं । अब उसमें कोई भी गणितीय फॉर्मूला लिख सकते हैं । 

Meaning of excel formulas in hindi:- 

एक फॉर्मूला वेल्यूज , सैल , रैफरेन्स , रेन्ज का नाम , फंक्शन या operator की श्रेणी है । फॉर्मूला से worksheet में भरे हुए डाटा की गणना कर सकते हैं । 

Make ms excel formula in hindi:-

  • MS Excel में कोई भी फॉर्मूला बराबर ( = ) के चिन्ह से शुरू होता है । 
  • उसके बाद Cell Reference लिखा जाता है । 
  • अब कोई भी operator या फंक्शन लगाया जाता है जिसकी सहायता से हम गणना कर सकें । उसके बाद कोई भी न्यूमेरिक मान लगाया जाता है । 
  • इस प्रकार उपरोक्त विधि के द्वारा हम formula तैयार करते हैं । 
उदाहरण 1:- = 2 * ( A5 + A6 + 10 ) 
उदाहरण2:- = + A5 - B4 * 3 + C4 
उदाहरण 3 : = 3 * A6 + 12 / A4--2 
उदाहरण 4 : = [ 2 * 3 * ( A3-4 ) ] 
उदाहरण 5 : = ( 3 * 6 + 12 ) / 4-2 आदि ।
Note : किसी भी प्रकार का फॉर्मूला बनाने के लिए Operators का उपयोग सबसे महत्वपूर्ण किया जाता है ।

 विभिन्न प्रकार के ऑपरेटर ( Different kinds of Operator ) :-

1. Arithmetic Operator :-

इनका प्रयोग गणितीय क्रियाओं को करने के लिए किया जाता है । विभिन्न अर्थमेटिक ऑपरेटर्स -
ऑपरेटर         इसे निम्न तरीके से बोलते हैं : 
+ , -              यूनेरी प्लस , यूनेरी माइनस 
%                 परसेन्ट ( Percent ) 
^                  एक्सपोनेन्टेशन ( Exponentation ) 
x तथा /         Multiplication तथा Division 
+ and -        Addition व Substraction

2. तुलना वाले ऑपरेटर ( Comparison Operator ) :-

जब दो मान या संख्याओं की तुलना करनी हो तो इस ऑपरेटर को काम में लिया जाता है ।
Operator              Meaning
=                            बराबर ( Equal to ) 
<                            से छोटा है ( Less than ) 
>                            से बड़ा है ( Greater than ) 
<=                         छोटा या बराबर है ( Less than or Equal to ) 
>=                         बड़ा या बराबर है ( Greater than or Equal to ) 
<>                         बराबर नहीं है ( Not Equal to ) 
इनका Result सत्य ( True ) या असत्य ( False ) में होता है ।

3. Text Operator :-

MS - Excel के द्वारा एक ही TextOperator दिया जाता है और वह है - "&"
जब दो संख्याएँ दूर - दूर हों तो & लगाने से यह दोनों संख्याओं को पास - पास ले आता है ।

4.ऑपरेटरों का प्रिसिडेन्स ( Precedence ofoperators ) :-

प्रिसिडेन्स का मतलब है कि Operators के द्वारा गणना किस क्रम में करवानी है । जैसे एक फॉर्मूले में कई ऑपरेटर काम में लिए गए हैं तो किस ऑपरेटर से पहले गणना करवानी है और किस ऑपरेटर से गणना बाद में करवानी है , इसी को प्रिसिडेन्स या क्रम कहते हैं । 
Operator               Meaning 
-                              ( यूनेरी - ) ( Unary- ) 
%                            परसेन्ट ( Percent ) 
^                             एक्सपोनेन्शियेशन ( Exponentiation ) 
x and /                   गुणा व भाग
+ and -                  जोड़ व घटाना 
&                            Text Join करना 
=,<,>,<=,>=,<>      कम्पेरिजन 

excel formulas को लिखने के नियमों :-

सबसे पहले छोटे ब्रेकेट्स ( Parentheses ) के अन्दर के कार्य को हल करें । 
Lower Precedence ( लोअर प्रेसिडेन्स ) वाले Operators को हायर प्रेसिडेन्स वाले ऑपरेटरों के बाद रखते हैं ।
 जैसे- * व / का प्रेसिडेन्स समान है तो उदाहरण : 2x5 → / 6 
इसमें पहले 2x5 को हल करके उसके बाद उसमें 6 का भाग दिया जायेगा ।



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag