सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

basic parts of ms excel

 आज हम computer in hindi मे basic parts of ms excel - Ms-excel tutorial in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

basic parts of ms excel:-

1. Title Bar :-

MS - Excel Application Window की सबसे ऊपर वाली पट्टी Title Bar कहलाती है । इस पर Microsoft Excel लिखा होता है । इसके साथ ही इस पर खुली हुई वर्कबुक का नाम ( Book 1 ) भी लिखा होता है । चूँकि फाइल के नाम के साथ इसका Extension ( .XLS ) दिखाई नहीं दे रहा है । इसका अर्थ है कि हमने अभी तक इसे Save नहीं किया है । इस पर सबसे पहले दायीं तरफ एक बॉक्स होता है जिसे Control Box कहते हैं , जो Application Window के कुछ Function देता है । इस बार पर सबसे अन्त में - + के चिन्ह होते हैं जो क्रमश : विण्डो को न्यूनतम करने , अधिकतम करने तथा बन्द करने के लिए होते हैं ।

2. Menu Bar :-

Title Bar के ठीक नीचे मेन्यू बार होता है । इस बार में 9 Menu होते हैं , जैसे- File , Edit , View , Format तथा Help आदि । प्रत्येक मेन्यू में एक अक्षर के नीचे अण्डरलाइन होती है जिसका अर्थ है कि ' AIt ' की के साथ वह अक्षर दबाने पर वह Menu खुलता है ।

3. Standard Tool Bar :-

Menu Bar के ठीक नीचे Standard Tool Bar होता है । इसमें अलग - अलग commands के बटन दिखाई देते हैं । जैसे- New , Open , Save , Cut , Print , Copy , Paste , Redo , Spellings आदि । इन पर click करते ही आगे की क्रिया प्रारम्भ हो जाती है ।

4. Formatting Tool Bar :-

MS - Excel मे Tool Bar की help से worksheetको विभिन्न प्रकार से format कर सकते हैं । इसमें इस कार्य के लिए विभिन्न buttons होते हैं । 
जेसे:-Font , Font size , Bold , Italic , Underline , Center Align , Align left आदि।

5. Formula Bar :-

Formatting Bar के ठीक नीचे Formula Bar होता है । यह Active Cell का Address तथा उसमें किए गए कार्य को display करता है । हम Formula Bar से किसी सक्रिय Cell में कोई भी डाटा डाल सकते हैं अथवा संशोधित कर सकते हैं । Formula Bar के निम्नलिखित भाग होते हैं 

( 1 ) Name Box:-

इसके दायीं तरफ यह बार होता है । यह Active Cell का Address प्रदर्शित करता है । एक बार में केवल एक ही Cell सक्रिय रह सकता है । 

( 2 ) Enter Button :-

सक्रिय Cell में जो कुछ भी Type करते हैं , वह Enter Button को दबाकर इस Format को store कर सकते हैं । 

( 3 ) Cancel Button:-

 Formula Bar में जो कुछ भी Type किया है उसको हटाने के लिए Cancel Button का प्रयोग करते हैं । 

( 4 ) Edit Formula Buttons:-

 Enter Button के बाद Edit Formula Button होता है । इसकी सहायता से हम Cell में Formula लिख सकते हैं ।

6. Work Sheet:-

 एक worksheet पंक्ति व कॉलम की जाली के रूप में दिखाई देती है । Excel 97 में 65536 Rows तथा 256 columns होते हैं । पंक्तियों के नम्बर हर लाइन के शुरू में होते हैं । 
जैसे 
कॉलम A , B , C , D ........ zतक 
फिर AA , AB , AC , AD........AZ तक 
फिर BA , BB , BC , BD .........BZ तक 
फिर CA , CB , CC , CD..........  CZ तक 
फिर DA , DB , DC , DD ..........DZ तक 
फिर IA , IB , IC , ID ................ IV तक लगातार चलते रहते हैं । 
कॉलम लेबल हर column पर लिखा होता है । कॉलम व पंक्ति के Intersection को Cell कहते हैं । हर cell को Cell Address से दिखाया जाता है । 
उदाहरण :- यदि कॉलम Z है तथा पंक्ति 100 है , तो Cell Address " Z100 " होगा । आप किसी वर्कशीट में किसी cell में कार्य कर रहे हैं तो इस cell को सक्रिय अथवा वर्तमान cell कहते हैं ।

7. Scroll Bar :-

यह शेडेड बार है जो किसी worksheet विण्डो के दायीं तरफ और नीचे होती है । एक लम्बी worksheet को ऊपर - नीचे करने के लिए Scroll Bar को काम में लेते हैं ।

8. नेवीगेशन कन्ट्रोल बार ( Navigation Contro ! Bar ) :-

यह बार वर्कबुक विण्डो के सबसे नीचे होती है । इसमें कुछ Control Button होते हैं जिनसे हम एक worksheet से दूसरी worksheet में जा सकते हैं । 

Navigation Control Bar के भाग:-

 Sheet Tab -

यह किसी एक शीट का नाम बताती है । इस टैब पर click करके किसी वर्कशीट को सक्रिय कर सकते हैं । 

Tab Scroll up Button- 

यह बटन शीट टैब के बायीं ओर होता है । इससे शीट टैब के बीच Scroll कर सकते हैं । यह केवल शीट टैब को देखने के लिए काम में लिया जाता है । इस Button के द्वारा हम किसी भी शीट को select करने का कार्य नहीं कर सकते हैं। 

Tab Split Box ( टैब स्प्लिट बॉक्स ) -

यह बॉक्स शीट , टैब तथा क्षैतिज Scroll Bar के बीच में होता है । टैब स्प्लिट बॉक्स से टैब शीट्स का नम्बर बदल सकते हैं ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है