सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Relational Algebra in hindi | Relational Algebra in dbms in hindi

 आज हम What is Relational Algebra in Hindi and Unary and binary Relational Operations in DBMS के बारे मे जानेगे क्या होता है तो चलिए शुरु करते हैं:-

What is Relational Algebra in dbms in hindi:-

इसके द्वारा हम queries को lower level पर प्रस्तुत करते हैं। यह प्रस्तुतिकरण queries evaluation तथा querry optimizer के द्वारा समझी जाती है । सामान्यतः को represent करने के लिए अंग्रेजी भाषा के शब्दों का use करते हैं । किन्तु relational algebra के अन्दर query को प्रस्तुत करने के लिये कुछ special symbol का use किया जाता है । 
SQL केवल Relational Algebra पर आधारित है । Relation Algebra के अन्तर्गत operator दो प्रकार के operators होते हैं । 
( 1 ) Uneary in hindi ( 2 ) Binary in hindi 

( 1 ) Uneary in hindi :-

( a ) It require only one relation ( table )
( b ) example 
(i) select
(ii) predicate (where clause)
(iii) Rename (Alias)

(2) Binary in hindi:-

(a) are those that require relations 
(i) Union (U)
(ii) Intersect (∩)
(iii) Minus 
(iv) Divion 
(v) Inner Join 
(vi) Outer Join 
              A. left Outer Join 
              B. Right Outer Join 
              C. Full Outer Join
1 : - Table name must written in brackets . 
2 : - Column name are written in the small letters . 
3 : - Column name are written as a subscript of the PI π symbol 
4 : - The PI π symbol is used to represent select statement . 
Example - display name , class and fee of all the students . 
SQL Query : - select name , class , fee from student 
relational algebra in dbms in hindi:- Tiname , class , fee ( student ) 
5 : - Where के स्थान पर sigma (σ) का use किया जाता है। 
6 : - Condition को Sigma के subscript में तथा Brackets ( ) मे लिखा जाता है । 
7 : - Condition मे Relational , logical , operator का use किया जाता है ।

Relation Operators:-

is equals too =
Not equals too ≠
Greater than >
Less than <
Greater than or equals too ≥
Less than or equals  too ≤

Logical operators:-

And 
Or V
relational algebra in dbms with examples:- Retrieve employee name, job, & salary for those em ployees who are earning more than 2000 & working as clerk.
SQL Querry :- Select ename, salary, job from emp where salary > 2000 and Job = 'clerk' 
FoxPro Query :- list fields ename, salary, job for salary > 2000 and job = "clerk" %3D

Relation Algebra:-

𝝅ename, salary, Job (≥σsalary>2000۸job="clerck"(amp.))

Joins:- 

एक से अधिक tables को आपस में Relate करने के लिये Join का Use किया जाता है । यह तीन प्रकार के होते हैं 
( i ) Inner Join Natural Join 
( ii ) Cross / Cartesion Product 
( iii ) Outer Join 

( i ) Inner Join :-
( iii ) Outer Join :-

(i) Inner join/Natural join - example 

1. List Employess name, department name, location of all Em- ployees. 
Query :- Select ename, dname form emp 
                inner join DEPT (Using deptno) 
Relational Algebra in dbms in hindi :- 𝝅ename, dname (emp ⋈ dept) 
2. list employee name, department name of New York. 
Querry :- Select ename, dname, loc from emp inner join dept using (dept no) where loc = "New York"
Relational Algebra in dbms in hindi :- 𝝅ename, dname,loc (σloc = "New York") (emp ⋈ dept) 

(ii) Cross / curtesion : -example

1. list employee name, departname name, location of all employ- ers 
Querry :- select ename, dname from emp cross join dept. 
Relational Algebra in dbms in hindi :- 𝝅ename, dname(emp X dept) 

(iii) Outer Join - example :-

list employess name department name location of all employ- ers 
Querry :- select ename, dname from dept full outer join emp on amp. deptno = dept.deptno
Relational Algebra in hindi :-
𝝅Neame, dname (emp dept)

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना