सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

boolean algebra in hindi

data security and integrity : dbms in hindi

 आज हम computers in hindi मे data security in hindi and integrity  - DBMS in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

data security (in hindi) and integrity:-

इस डाटाबेस Designers के goals में से एक यह सुनिश्चित करना होता है कि डाटा एकदम perfect रहें । व्यवसाय के rules को लागू करने की vision से Integrity Constants आवश्यक है और Integrity Constants यह sure करते हैं कि यूजर द्वारा डाटाबेस में किए फेरबदल से डाटा की Uniformity को कोई नुकसान नहीं पहुंचे । इस प्रकार ये Constants डाटाबेस को Accidentally पहुँचने वाले किसी नुकसान के खिलाफ इसकी रक्षा भी करते हैं । डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम टेबल के साथ Integrity Constants को भी Stored करता है और Integrity Constants को Stored करने के फायदे और उपयोग यह है कि data entry का विधि कोई भी क्यों न हो डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम Constants को टेबल पर  perfrom किए गए प्रत्येक operation पर लागू करता रहता है और Constants को define करने के लिए किसी प्रोग्रामिंग की आवश्यकता नहीं है । Constants को एक Location पर store करके आसानी से बदला भी जा सकता है।
इस डाटाबेस Security का संबंध बुरी Fixed से किए जाने वाले एक्सेस के खिलाफ Security से होता है और डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम में ऐसी प्रणाली होनी चाहिए जो यूजर्स को डाटा के उसी हिस्से तक रखें , जो उनके द्वारा performs किए जाने वालेfunction के लिए आवश्यक है । डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम को उन action के टाईप को भी limited करना चाहिए और जो ये user उनको उपलब्ध डाटा पर  perform कर सकते हैं । डाटाबेस Security में डाटा सुरक्षित रखने की Policy and system दोनों शामिल रहते हैं और यहsure करते हैं कि बिना Proper authorization के Data access एवं delete नहीं हो सकें और Integrity का implication यह है कि डाटाबेस में Authorized रूप से किए Access, alternation और Dilution से डाटा की Validity में परिवर्तन नही होता है । सुरक्षा और डाटा की Concept of integrity हैं। सुरक्षा व Integrity के Execution में इस बात की आवश्यकता रहती है और Constants के रूप में कुछ Control system में मौजूद होता है ।

database security in hindi:-

इसमे domain किसी डाटाबेस में Table or attribute के फील्ड लिए values का सेट होता है और domain Constracts जिन्हें domain भी कहते हैं values का specifications होता है , जो किसी टेबल में Specific attribute को दिया जा सकता है । वह value जो प्रत्येक attribute को unjoin की जा सकता है , इसको निम्न में से एक या अधिक forms में Expressed किया जा सकता है : डाटा टाईपRange of values अथवा specifications सेट में से value एवं किसी attribute को Specific domain का घोषित करना इसके द्वारा की जा सकने वाली value पर Constracts के रूप में काम करता है और जब भी  डाटाबेस में कोई नया डाटा items inter किया जाता है , System Domain Constants का परीक्षण करती है । यह संभव है कि कई attribute का domain समान ही होता है । domain Constracts की Proper definition होने से हमें न सिर्फ  डाटाबेस में insert की value को टेस्ट करने की सुविधा मिलती है और यह sure करने के लिए Queries को टेस्ट करने की अनुमति मिल जाती है कि जो तुलना की गई है , उसका कोई अर्थ निकल रहा होता है ।
इस डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम में Atomic domain, Character set व number और डाटा , Alpha numeric और इसी प्रकार के General set होते हैं । Atomic domain को कभी - कभी एप्लीकेशन से मुक्त डोमेन के रूप में Mentioned किया जाता है , इसमे क्योंकि ये General set किसी Special application पर निर्भर नहीं होते हैं । किसी खास  डाटाबेस में Valid values को Specific करके हम एप्लीकेशन पर Dependent domain को भी define कर सकते हैं और Structured और Composite Domain को Non-atomic values से बने होने के रूप में भी Specific किया जा सकता है । इसमे उदाहरण के लिए , Attribute address का domain जो गली नंबर व गली का नाम और शहर राज्य और जिप कोड Specific करता है , को Composite Domain के रूप में लिया जा सकता है ।

(1) "Not Null" Constants:-

NOT NULL Column constants यह sure करता है कि table column खाली नहीं छोड़ा जा सकता है । Syntax : 
Create table tablename ( fieldname 1 datatype ( size ) NOT NULL fieldname 2 datatype ( size ) , fieldname 3 datatype ( size ) NOT NULL , ........... ) ; 
Example : 
Create table Course ( SubID Number ( 2 ) . Subject Cha ( 10 ) , Faculty Char ( 25 ) NOT NULL ) ; NOT NULL constants किसी टेबल के एक से अधिक फील्ड को दिया जा सकता है ।

(2) "Unique" Constants:

UNIQUE Column constants यह sure करता है कि टेबल colomn में कोई Duplicate value नही होता है । Syntax : 
Create table tablename ( fieldname 1 datatype ( size ) UNIQUE , fieldname 2 datatype ( size ) , UNIQUE , fieldname 3 datatype ( size ) ......... ) ;
Example :
Create table Course ( SubID Number ( 2 ) , Subject Char ( 10 ) UNIQUE , Paculty Char ( 25 ) NOT NULL ) ; UNIQUE constants किसी टेबल के एक से अधिक coloum को दिया जा सकता है । इसमे NOT NULL और UNIQUE constants एक ही coloum को दिये जा सकते हैं ।

(3) Primary Constructs:

इस primary - key एक fields या columns अथवा fields का combination होता है और जिसे डाटाबेस डिजाईनर द्वारा किसी टेबल में रेकॉर्ड की पहचान करने के लिए चुना जाता है । primary - key constants NOT NULL और UNIQUE constants दोनों का मिला - जुला रूप है और किसी टेबल में रेकॉर्ड को Unique तरीके से Identify करने के लिए columns में inter की गई सारी values Unique होना चाहिए और उसमें कोई नल values नहीं होता है ।
Syntax : 
Create table tablename ( fieldname 1 datatype ( size ) Primary key , fieldname 2 datatype ( size ) , fieldname 3 datatype ( size ) .......... ) ; 
Example : 
Create table Course ( SubID Number ( 2 ) , Primary key , Subject Char ( 10 ) UNIQUE , Paculty Char ( 25 ) NOT NULL ) ; इसमे किसी टेबल में केवल एक fields को primary - key के रूप में define किया जा सकता है और यदि हम किसी primary - key fields में Duplicates value insert करने की कोशिश करें , अरिकल एक error  देता है , 
" ORA - 00001 : unique constraint SCOTT.SYS ConstraintName ) violated ) .

(4) Referential Integrity or Foreign Key:

इस foreign - key एक column या columns का समूह होता है और जिसकी value किसी अन्य टेबल की primary - key  या Unique - key से निकाली जाती है । इस टेबल जिसमें Unique - key डिफाईन की जाती है , Foreign table कहलाता है और टेबल जो primary अथवा Unique की को डिफाईन करता है और foreign - key द्वारा Referenced किया जाता है , इसमे primary - table या master table कहलाता है । यह Reference adverb का उपयोग करके master table को foreign - key Definition में Referenc किया जा सकता है और यदि column का नाम Specific नहीं किया गया , तो Default oracle, master table में primary - key  Reference करता है । इसमे चूंकि Foreign table टेबल्स के बीच Relationship को  display करती है और इसे Referential Integrity भी कहते हैं । Referential Integrity Constants के rules होते हैं : 
• इसमे Foreign key को किसी Primary table में किसी PRIMARY KEY या UNIQUE कॉलम को Reference करना चाहिए और इसमे Foreign key Built करते हैं
 यदि कोई column या column का समूह Specification नहीं किया गया है और Foreign key अपने आप master table की primary key को references कर देता इसमे releted वेल्यू master table में Present में मॉजूद नहीं है , तो Foreign key किसी वेल्यू के INSERT या UPDATE को Dismissed कर देता है और यह master table के लिए DELETE को Dismissed कर देता है और यदि releted रेकॉर्ड DETAIL टेबल में मौजूद होती है । इसमे यदि ON DELETE CASCADE option set कर दिया जाता है और मास्टर टेबल का DELETE operation , डिटेल टेबल में reletd रेकॉर्ड के लिए DELETE option शुरू कर देता है । यह आवश्यक होता है कि FOREIGN KEY कॉलम ( कॉलम्स ) और CONSTRAINT column या columns में समान Width के मेचिंग डाटा टाईप हो ।
syntax:
Create table tablename ( fieldname 1 datatype ( size ) , fieldname 2 datatype ( size ) , ........ , Foreign key ( fieldname ) References mastertablename ( mastertable - fieldname ) [ ON DELETE CASCADE ] ) ; Examples : 
Create table Course ( SubID Number ( 4 ) , Name Char ( 25 ) , Subject Char ( 10 ) , Foreign key ( subject ) References Course ( Subject ) ON DELETE CASCADE ) ;

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

foxpro commands in hindi

आज हम computers in hindi मे  foxpro commands  क्या होता है उसके कार्य के बारे मे जानेगे?   foxpro all commands in hindi  में  तो चलिए शुरु करते हैं-   foxpro commands in hindi:-  (1) Clear command in foxpro in hindi:-  इस  command  का प्रयोग  foxpro  की main स्क्रीन ( जहां रिकॉर्ड्स / Output प्रदर्शित होते हैं ) को Clear करने के लिए किया जाता है ।  (2) Modify Structure in foxpro in hindi :-  इस  command  का प्रयोग वर्तमान प्रयुक्त  डेटाबेस  फाईल के स्ट्रक्चर में आवश्यक परिवर्तन करने के लिए किया जाता है । इसके द्वारा नये फील्ड भी जोड़े जा सकते हैं तथा पुराने फील्ड्स को हटाया व उनके साईज़ में भी परिवर्तन किया जा सकता है ।  (3) Rename in foxpro in hindi :-  इस  command  के द्वारा किसी  database  file का नाम बदला जा सकता है जिस फाईल को Rename करना हो वह मैमोरी में खुली नहीं होनी चाहिए ।   Syntax : Rename < Old filename > to < New filename >  Foxpro example: -  Rename Student.dbf to St.dbf (4) Copy file in foxpro in hindi :- इस command के द्वारा किसी एक डेटाबेस फाईल के रिकॉ

foxpro data type in hindi । फॉक्सप्रो

 आज हम computers in hindi मे फॉक्सप्रो क्या है?  Foxpro data type in hindi  कार्य के बारे मे जानेगे? How many data types are available in foxpro?    में  तो चलिए शुरु करते हैं-    How many data types are available in foxpro? ( फॉक्सप्रो में कितने डेटा प्रकार उपलब्ध हैं?):- FoxPro में बनाई गई डेटाबेस फाईल का एक्सटेन्शन नाम .dbf होता है । foxpro data type in hindi (फॉक्सप्रो डेटा प्रकार) :- Character data type Numeric data type Float data type Date data type Logical data type Memo data type General data type 1. Character data type :- Character data type  की फील्ड में अधिकतम 254 Character store किये जा सकते हैं । इस टाईप की फील्ड में अक्षर जैसे ( A , B , C , .......Z ) ( a , b , c , ...........z ) तथा इसके साथ ही न्यूमेरिक अंक ( 0-9 ) व Special Character ( + , - , / . x , ? , = ; etc ) आदि भी Store करवाए जा सकते हैं । इस प्रकार की फील्ड का प्रयोग नाम , पता , फोन नम्बर , शहर का नाम , पिता का नाम , माता का नाम आदि संग्रहित करने के लिए किया जाता है । 2. Numeric data type :- Numeric da

कंप्यूटर की पीढियां । generation of computer in hindi language

generation of computer in hindi  :- generation of computer in hindi language ( कम्प्युटर की पीढियाँ):- कम्प्यूटर तकनीकी विकास के द्वारा जो कम्प्यूटर के कार्यशैली तथा क्षमताओं में विकास हुआ इसके फलस्वरूप कम्प्यूटर विभिन्न पीढीयों तथा विभिन्न प्रकार की कम्प्यूटर की क्षमताओं के निर्माण का आविष्कार हुआ । कार्य क्षमता के इस विकास को सन् 1964 में कम्प्यूटर जनरेशन (computer generation) कहा जाने लगा । इलेक्ट्रॉनिक कम्प्यूटर के विकास को सन् 1946 से अब तक पाँच पीढ़ियों में वर्गीकृत किया जा सकता है । प्रत्येक नई पीढ़ी की शुरुआत कम्प्यूटर में प्रयुक्त नये प्रोसेसर , परिपथ और अन्य पुर्षों के आधार पर निर्धारित की जा सकती है । ● First Generation of computer in hindi  (कम्प्युटर की प्रथम पीढ़ी) : Vacuum Tubes ( वैक्यूम ट्यूब्स) ( 1946 - 1958 ):- प्रथम इलेक्ट्रॉनिक ' कम्प्यूटर 1946 में अस्तित्व में आया था तथा उसका नाम इलैक्ट्रॉनिक न्यूमेरिकल इन्टीग्रेटर एन्ड कैलकुलेटर ( ENIAC ) था । इसका आविष्कार जे . पी . ईकर्ट ( J . P . Eckert ) तथा जे . डब्ल्यू . मोश्ले ( J . W .