सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

What is Magnetic Tape in hindi

generalization and specialization in dbms in hindi - DBMS in hindi

 आज हम computers in hindi मे generalization and specialization in dbms in hindi - DBMS in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

Generalization and Specialization in dbms in hindi :- 

 Entity Type से एक generalized Entity Type निर्धारित करने की process को generalization कहते है । उनके इस process में कई Entity Type के मध्य अंतर को hide किया जाता है , normal गुणों को पहचाना जाता है और उनको एक Super class में generalized किया जाता है जिसके actual Entity Type विशेष sub class होते हैं । 

 constraints and characteristics of specialization and generalization:- 

 एक Entity Type पर कई Specialization show किए हैं । इसके अनुसार कोई भी Entity every Specialization sub class के Related हो सकता है । हालांकि एक Specialization एक sub class भी रखता है । उदाहरण के लिये ( Manager ) Specialization को देखें । इस स्थिति में हम सर्किल चिन्ह का प्रयोग नहीं करेंगे ।  कुछ Specializations में super class के किसी Attribute मे कोई स्थिति लगाकर , Entity के बारे में dailtal प्राप्त कर सकते हैं जो कि subclass की मेम्बर हो चुकी है । ये sub class Predicate Defined या Condition Defined sub-class कहलाती है । उदाहरण के लिये EMPLOYEE Entity Type में कोई Attribute जॉब टाइप हैI  हम secretary subclass में Predict के द्वारा membership की स्थिति निर्धारित करते हैं । (Job Type = 'Secretary') इसे subclass का Defining predicate कहते हैं ।  यह स्थिति एक Concentrate है जो Expressed करती है कि SECRETARY सबक्लास के members को यह Predict satisfied करना ही पडेगा तथा EMPLOYEE Entity Type की सभी एन्टिटी जिनकी Attribute मान जॉब टाइप के लिये SECRETARY है , इस sub class से Related होना पड़ेगा । इसमे यदि किसी Specialization को सभी सब क्लास सुपरक्लास के किसी Attribute की member है , तो यह Specialization एट्रीब्यूट - डिफाइन्ड स्पेशियलाइजेशन कहलाता है और इस Attribute को स्पेशियलाइजेशन का Defining attribute कहते हैं । जब हमारे पास किसी सबक्लास में member को Satisfied करने के लिए कोई Event न हो तो इस सबक्लास की User defined subclass कहते हैं । 

 Types of Specialization in hindi:-  

 1.डिसजॉइंटनेस कन्सट्रेन्ट ( Disjointness Constraint in dbms) : -  

2.कम्पलीटनेस कन्सट्रेन्ट ( Completeness Constraint in dbms) : - 

 1. Disjointness Constraint in DBMS:- 

 इसके according Specialization की सबक्लास  हमेशा Disjoint होनी चाहिये अर्थात् कोई भी एक Entity किसी Specialization की किसी एक सबक्लास की मेम्बर हो सकती है । d Disjoint से define किया है । 

 2. Completeness Constraint in DBMS:-

 ये Concentrate 2 types   के होते है ।  

 ( 1 ) टोटल स्पेशियलाइजेशन ( Total Specilization) : -

  इस Concentrate के according किसी सुपरक्लास की प्रत्येक entity , स्पेशियलाइजेशन की किसी सबक्लास का मेम्बर होना चाहिए ।  उदाहरण के लिये यदि प्रत्येक EMPLOYEE या तो HOURLY EMPLOYEE हो या SALARIED_EMPLOYEE , तो स्पेशियलाइजेशन ( HOURLY EMPLOYEE , SALARIED_EMPLOYEE ) , EMPLOYEE ) का टोटल स्पेशियलाइजेशन होगा ।

( ii ) पार्शियल स्पेशियलाइजेशन ( Partial Specialization) : - 

 Partial Specialization को एक लाइन से व्यक्त किया जाता है । इसका तात्पर्य होता है कि कोई भी Entity किसी भी सबक्लास से releted नहीं है । इसमे उदाहरण के लिये यदि EMPLOYEE एन्टिटी किसी भी सबक्लास ( SECRETARY , ENGINEER , TECHNI CIAN ) से सम्बन्धित नहीं है , तो Partial Specialization है ।  Disjointness व Completeness concentration एक दूसरे से releted नहीं होते हैं । वास्तव में कोई भी Concentrate से releted होता है । हालांकि एक सुपरक्लास , जो कि Generalization के द्वारा प्राप्त होती है , सामान्यतः वो पूरी होती है । इसका कारण यह है कि सुपरक्लास , एक सबक्लास से Generated होता है क्योंकि इस सुपरक्लास को सभी एन्टिटी sub class से ली गई है । 

 Rules of generalization and specialization:- 

 1. किसी सुपरक्लास से एक एन्टिटी को डिलीट Indicates है कि ये स्वतः ही सभी सबक्लासों से डिलीट हो जायेंगे ।  

 2. किसी सुपरक्लास से Entity को इनसर्ट कराने का मतलब है कि यह Entity सभी सबक्लासों में स्वतः ही इनसर्ट हो जायेगा ।   

3. किसी Total Specialization की सुपरक्लास में एक एन्टिटी को इनसर्ट कराने का मतलब  है कि यह Entity  स्पेशियलाइजेशन की किसी एक सबक्लास में इनसर्ट होती है ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल