सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

What is Magnetic Tape in hindi

SQL operators in hindi

 आज हम computers in hindi मे sql operators - DBMS in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

sql operators in hindi:-

इसमे operators और conditions का उपयोग किसी SQL स्टेटमेंट में जोड़ , घटाव या तुलना जैसे operators डाटा items पर परफॉर्म करने में किया जाता है और operators को Single characters से दर्शाया जाता है । conditions कई operators का expression होता है अथवा वह expression होता है , जो  true, Falls या unknown को Evaluate होता है । 

Types of SQL operators :- 

1. Binary
2. Unary  
Unary operator सिर्फ एक Operand  पर Operate होता है । उदाहरण के लिए , यह display हेतु कि 10 एक negative number है और हम Unary operator ' - ' का उपयोग करते हैं और -10 लिखते हैं । Binary operator दो Operand पर Operate होता है । इसके उदाहरण गुणन , जोड़ आदि हैं और operators और conditions किसी भी कम्प्यूटर लेंग्वेज के आवश्यक फीचर है । वे हमको हमारी एप्लीकेशन आवश्यकताओं के अनुसार अर्थमेटिक , डाटा तुलना और अन्य Data manipulation performance करने की सुविधा देते हैं । इसमे ऐसे टूल्स होते हैं , जो हमें आवश्यकता के अनुसार Information select करने में मदद कर सकते हैं । Operators का उपयोग व्यक्तिगत डाटा items को Manipulate करके रिजल्ट रिटर्न करने में किया जाता है । 
Arithmetic operators
sql operators in hindi

1.Arithmetic operators in hindi :-

इसमे SQL Expressions में Arithmetic operators का उपयोग जोड़ , घटाव , गुणन , विभाजन और डाटा वेल्यू को निगेट करने में किया जाता है । इस Expressions का रिजल्ट न्यूमेरिक वेल्यू होता है । 
इसमे डबल नेगेटिव के घटाव को show के लिए Arithmetic expression में कभी भी Double minus sign( -- ) का प्रयोग कभी नहीं करें और कमेंटस की शुरूआत को show के लिए Protected रखा गया है । इसलिए -- के बाद किसी भी चीज को कमेंट के रूप में ही लिया जाता है । 

2.Comparision Operators in hindi :- 

इसमे इनका उपयोग एक Expression की दूसरे से तुलना करने में किया जाता है । तुलना का परिणाम true ( सही ) , falls( गलत ) या unkown ( अज्ञात ) होता है । 
Arithmetic operators in hindi

3. logical operators in hindi:-

इसमे logical operators का उपयोग दो Separate condition को मिलाकर एक रिजल्ट देने में किया जाता है । इसमे Separate condition व उनकी डेफिनेशन दी गई है।
logical operators in hindi

हम AND , OR और NOT का उपयोग करके Condition expressions को जोड़कर Compound search निर्मित कर सकते हैं और AND और OR का उपयोग एक से अधिक Condition expressions को मिलाने में किया जा सकता है और हम यह भी देख चुके हैं कि Parentheses का उपयोग Evaluation के Desired sequence को लागू करने में किया जा सकता है । इसमे जब दो से अधिक सर्च Condition AND , OR और NOT के द्वारा जोड़ी जाती है , तो Standard के मुताबिक NOT को अधिकतम प्राथमिकता मिलती है और इसके बाद AND और फिर OR आता है । Condition expressions को Evaluat करने के लिए truths टेबल  दिया गया है ।
SQL operators in hindi

4. Set operators in hindi:-

इसमे Set operators दो Separate queries के results को सिंगल रिजल्ट में मिला देते हैं और सभी Implementation INTERSECT और MINUS को सपोर्ट नहीं करते हैं और इसलिए उपयोग के पहले चेक कर लें कि हमारा Implementation इन फीचर्स को सपोर्ट करता है या नहीं । UNION [ ALL ] , SQL आधारित प्रॉडक्ट्स से सपोर्ट होता है । इसमे Set operators और उनकी डेफिनेशन दी गई है ।
Set operators in hindi




टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल