सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

Instruction cycle in hindi - इंस्ट्रक्शन साइकिल क्या है

database security in dbms in hindi

 आज हम computers in hindi मे database security in dbms in hindi - dbms in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- 

Database security in dbms in hindi:-

Database security मे डेटाबेस के अंदर Stored notifications को Unauthorized access व जान - बूझकर होने वाले नुकसान या उसके Stability में होने वाले परिवर्तन से बचाना ही database security कहलाता है। 

1. Database integrity :-

इसमे डेटाबेस को सही व स्थायी बनाये रखने के लिये जो तरीके उपयोग किये जाते हैं और वे Database integrity कहलाते हैं । इसमे यूजर के परिवर्तनों के समय भी डेटाबेस के स्थायित्व को बनाये रखने को Siemensic Integrity कहते हैं ।

2. authorization in dbms in hindi:-

authorization in dbms मे Top level administrative position द्वारा बनाये गये नियमों का समूह जिसके द्वारा यह तय किया जाता है कि डेटाबेस  के किस भाग पर और किस यूजर को किस तरह की access Provide कि गई है - यह Authorization कहलाता है । जो तय करता है कि कौन यूजर किस भाग को एक्सेस कर पायेगा और वह Security Administrator or Authorizer कहलाता है । इसमे security व integrity के प्रति खतरे से हमारे डेटाबेस को किस - किस तरह के खतरे हो सकते हैं 
1. इसमे Security and Integrity के प्रति अचानक होने वाले खतरे से होता है । 
2. इसमे Security and Integrity पर जानबूझकर होने वाले खतरे से होता है । 
( 1 ) Security and Integrity के प्रति अचानक होने वाले खतरे से होता है । 
1. सिस्टम error इसमे एक यूजर को कनेक्ट करते समय सिस्टम का अचानक दूसरे यूजर के रूप में जो कि बिना off या  hang होकर अचानक बंद हो गया हो कनेक्ट करना होता है ।
2. गलती से अनुमति मिलना इसमे जब कोई ऑथोराइजर गलती से किसी यूजर को ऐसे अधिकार दे देता है और जो उसको नहीं दिये जाने चाहिये थे । ऐसी परिस्थिति में डेटाबेस की Security and Integrity प्रभावित हो सकती है । 
3. इसमे हार्डवेयर Failure से यदि मेमोरी प्रोटेक्शन हार्डवेयर काम करना बंद कर दे तो इसमे साफ्टवेयर की एरर बढ़ जाती है और वह डेटाबेस की Security and Integrity को नुकसान पहुंचाती है । 
4. इसमे साथ - साथ उपयोग की असुविधा को जब हम किसी भाग को बहुत से लोग उपयोग कर रहे हों और Synchronization के तरीके सही नहीं हों तो भी error आती रहती है । 
5. इसमे अनुचित एक्सेसिंग को कभी - कभी सिस्टम error या किसी अन्य यूजर की किसी erroe के कारण किसी अन्य यूजर को ऐसे भाग की एक्सेसिंग प्राप्त हो जाना जो उसके अधिकार क्षेत्र से बाहर है , तब भी Security and Integrity प्रभावित होती है । 
6. इसमे अन्य Failure को सामान्य Procedure के दौरान किसी भी प्रकार का अचानक नुकसान और जैसे ट्रांजेक्शन प्रोसेसिंग या स्टोरेज मीडिया का नुकसान भी Security and Integrity को प्रभावित करते हैं ।
( 2 ) Security and Integrity पर जानबूझकर होने वाले खतरे से होता है । 
1. इसमे सुरक्षा प्रावधानों को अनदेखा करने और यदि प्रोग्रामर जानबूझकर उन प्रावधानों को अनदेखा करता है और जो Security and Integrity के लिये आवश्यक है , तो उससे भी डेटाबेस मिटाया या परिवर्तित भी किया जा सकता है । 
2. इसमे भौतिक खतरे से यदि कोई अनुचित व्यक्ति कम्प्यूटर सिस्टम या कम्युनिकेशन चैनल के द्वारा किसी भी प्रकार से डेटाबेस की एक्सेसिंग प्राप्त कर लेता है और तब भी वह नुकसान भी पहुंचा सकता है । 
3. इसमे अज्ञानता से कोई भी सिस्टम या एप्लिकेशन प्रोग्रामर ज्ञान की कमी के कारण ऐसे प्रावधान छोड़ देता है और जिससे कि डेटाबेस फाइल्स व परिवर्तन के लिये कोई यूजर आसानी से एक्सेसिंग कर सके ताकि सूचनाओं का अनुचित उपयोग होता है । 
4. इसमे पासवर्ड का चोरी होना से यदि अनुचित यूजर किसी भी माध्यम से किसी का पासवर्ड पता कर लेता है और तब वह उसमें लॉग इन करके नुकसान पहुंचा सकता है।
5. इसमे निजी लाभ से कभी - कभी उचित यूजर भी स्वयं के फायदे के लिये अति महत्वपूर्ण सूचनाओं का सौदा कर सकता है ।




टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल