सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

verification in hindi - वेरिफिकेशन

storage access in dbms

 आज हम computer in hindi मे storage access in dbms - dbms in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

Storage access in dbms:-

Storage access in dbms मे विभिन्न फाइल्स में map किया जाने वाले डाटाबेस , underline ऑपरेटिंग सिस्टम द्वारा Organized किया जाता है । यह file disk पर tap backup के साथ Permanent form से स्थित होती हैं । प्रत्येक File fixed length वाली Storage units में विभाजित होती है जो block कहलाती है , Storage allocation और data transfer दोनों की ही units होती है।
एक block कई सारे डाटा item's को रख सकता है । block द्वारा included किया जाने वाला डाटा item's का सैट उपयोग किये जाने वाले Physical data organization के द्वारा निश्चित किया जाता है । हम ऐसा मानते हैं कि कोई भी डाटा item's दो या दो से अधिक block को नहीं रखता है । यह अनुमान अधिकतर डाटा Processing application के लिये वास्तविक होता है । डाटाबेस सिस्टम का मुख्य Objective disk और memory के मध्य block transfer की संख्या को न्यूनतम करना होता है । disk access को कम करने का एक तरीका मेन मैमोरी में अधिकतम blocks को रखना है । 
चूँकि सभी blocks को मेन मैमोरी मे रखना सही नहीं है इसलिये हमें blocks के स्टोरेज के लिये मेन मैमोरी में उपलब्ध space के division को Organized करने की आवश्यकता होती है । Buffer main memory का वह भाग होता है जो disk block की copy के स्टोरेज के लिये उपलब्ध होता है । यहां पर प्रत्येक block के डिस्क पर कॉपी को रखा जाता है परन्तु डिस्क पर उपस्थित copy block का version's हो सकती है जो बफर में उपस्थित version's से पुरानी होती है । buffer space के division के लिये उतरदायी सब system buffer manager कहलाता है ।

1. Buffer Manager in dbms: - 

डाटाबेस सिस्टम में उपस्थित program buffer manager पर resquest को तब bulit करती हैं जब उन्हे disk से block की आवश्यकता होती है । यदि buffer में block पहले से ही उपस्थित है तो buffer manager block के address को main memory मे से resquester के पास भेज देता है । यदि block buffer में नहीं है तो buffer manager द्वारा सबसे पहले block के लिये buffer में space को Split किया जाता है । यह block disk पर केवल तभी लिखे जाते हैं जब ये Modify किये जा चुके हों । ईसके बाद Buffer manager requested block में डिस्क से buffer तक पढे जाते हैं और मेन मैमोरी से resquester के पास block address को भेजते हैं । Buffer manager के Internal action उन programs के लिये Transparent होते हैं जो Disk-block request को issue करते हैं । 
यदि आप ऑपरेटिंग सिस्टम concept को अच्छी प्रकार से जानते है तो एक बात को अवश्य ध्यान में रखना चाहिये कि buffer manager एक Virtual memory manager से अधिक कुछ भी नहीं होता है । एक अन्तर यह भी है कि डाटाबेस का आकार मशीन के हार्डवेयर address space से काफी बडा हो सकता है , इसलिये memory address सभी डिस्क ब्लॉक्स को एड्रैस करने के लिये उपयुक्त नहीं होता है । इसके अतिरिक्त , डाटाबेस सिस्टम को अच्छी प्रकार से ऑपरेट करने के लिये buffer managers को Complex virtual memory management scheme के स्थान पर अधिक प्रभावशाली निम्न तकनीकों का उपयोग करना चाहिये । 

2.Buffer Replacement Strategy in dbms :- 

यदि बफर में कोई भी रूम खाली नहीं है तो एक ब्लॉक बफर सेremove कर दिया जाना चाहिये । अधिकतर ऑपरेटिंग सिस्टम LRU स्कीम बफर से remove किया जाता है । यह सरल सी Approach Database Application के लिये विकसित की जा सकती है । 

3.Pinned Blocks in dbms:-

Crashes सेRecover करने योग्य डाटाबेस सिस्टम के लिये , उस समय को Restricted करना आवश्यक होता है जब ब्लॉक को डिस्क पर लिखा जाता है । 
उदाहरण के लिये- अधिकतर रिकवरी सिस्टम को ऐसे ब्लॉक की आवश्यकता होती है जो कि ब्लॉक को अपडेट करने के दौरान डिस्क पर लिखे जाते हैं । ऐसा ब्लॉक जिसे डिस्क पर लिखने की आज्ञा नहीं दी जाती है उसे पिन्ड ( Pinned ) कहा जाता है यद्यपि ऑपरेटिंग सिस्टम pinned blocks को सपोर्ट नहीं करते हैं । 

4. Forced Output of Blocks in dbms:- 

कभी कभी ऐसी स्थिति भी उत्पन्न होती है जिसमें यह आवश्यक होता है कि ब्लॉक को डिस्क पर लिखा जाये । इस प्रकार से ब्लॉक को लिखना ब्लॉक का Forced output कहलाता है । 

5. Buffer Replacement Policies in dbms:-

Blocks के लिये Replacement Strategy का objective डिस्क के एक्सेस को minimum करना होता है । सामान्य objective वाले programs के लिये यह अनुमान लगाना संभव नहीं है कि कौन - सा Block reference किया जायेगा । इसलिये ऑपरेटिंग सिस्टम ब्लॉक reference पुराने तरीके को उपयोग करते हैं । यदि किसी ब्लॉक को replace किया जा सकता है तो Reference block को भी replace किया जाता है । यह Approach LRU Block Replacement Scheme कहलाती हैं । 
LRU ऑपरेटिंग सिस्टम में Acceptable Replacement Scheme होती है । फिर भी डाटाबेस सिस्टमऑपरेटिंग सिस्टम की तुलना में Future reference के patterns का अनुमान लगाने में अधिक योग्य होता है । यूजर डाटाबेस सिस्टम से कई सारे step को included करने की रिक्वैस्ट करता है । डाटाबेस सिस्टम , अक्सर यह निर्धारित करने में योग्य होता है कि भविष्य में किस ब्लॉक की आवश्यकता हो सकती है । एक आदर्श ​​Database - Block Replacement Strategy उन सभी डाटाबेस ऑपरेशन्स की जानकारी की आवश्यकता होती है जो परफॉर्म हो चुके हैं और जो भविष्य में परफॉर्म किये जाने हैं । ऐसी कोई भी strategy नहीं है जो इन सभी को अकेले ही हैण्डल कर सके । buffer managervद्वारा ब्लॉक Replacement के लिये उपयोग की जाने वाली strategy कुछ facters से प्रभावित होती है ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

foxpro commands in hindi

आज हम computers in hindi मे  foxpro commands  क्या होता है उसके कार्य के बारे मे जानेगे?   foxpro all commands in hindi  में  तो चलिए शुरु करते हैं-   foxpro commands in hindi:-  (1) Clear command in foxpro in hindi:-  इस  command  का प्रयोग  foxpro  की main स्क्रीन ( जहां रिकॉर्ड्स / Output प्रदर्शित होते हैं ) को Clear करने के लिए किया जाता है ।  (2) Modify Structure in foxpro in hindi :-  इस  command  का प्रयोग वर्तमान प्रयुक्त  डेटाबेस  फाईल के स्ट्रक्चर में आवश्यक परिवर्तन करने के लिए किया जाता है । इसके द्वारा नये फील्ड भी जोड़े जा सकते हैं तथा पुराने फील्ड्स को हटाया व उनके साईज़ में भी परिवर्तन किया जा सकता है ।  (3) Rename in foxpro in hindi :-  इस  command  के द्वारा किसी  database  file का नाम बदला जा सकता है जिस फाईल को Rename करना हो वह मैमोरी में खुली नहीं होनी चाहिए ।   Syntax : Rename < Old filename > to < New filename >  Foxpro example: -  Rename Student.dbf to St.dbf (4) Copy file in foxpro in hindi :- इस command के द्वारा किसी एक डेटाबेस फाईल के रिकॉ

foxpro data type in hindi । फॉक्सप्रो

 आज हम computers in hindi मे फॉक्सप्रो क्या है?  Foxpro data type in hindi  कार्य के बारे मे जानेगे? How many data types are available in foxpro?    में  तो चलिए शुरु करते हैं-    How many data types are available in foxpro? ( फॉक्सप्रो में कितने डेटा प्रकार उपलब्ध हैं?):- FoxPro में बनाई गई डेटाबेस फाईल का एक्सटेन्शन नाम .dbf होता है । foxpro data type in hindi (फॉक्सप्रो डेटा प्रकार) :- Character data type Numeric data type Float data type Date data type Logical data type Memo data type General data type 1. Character data type :- Character data type  की फील्ड में अधिकतम 254 Character store किये जा सकते हैं । इस टाईप की फील्ड में अक्षर जैसे ( A , B , C , .......Z ) ( a , b , c , ...........z ) तथा इसके साथ ही न्यूमेरिक अंक ( 0-9 ) व Special Character ( + , - , / . x , ? , = ; etc ) आदि भी Store करवाए जा सकते हैं । इस प्रकार की फील्ड का प्रयोग नाम , पता , फोन नम्बर , शहर का नाम , पिता का नाम , माता का नाम आदि संग्रहित करने के लिए किया जाता है । 2. Numeric data type :- Numeric da

Management information system (MIS in hindi)

What is Management Information Systems (MIS) in hindi ? Introduction to management information system (MIS in hindi):-  बिजनेस प्रॉब्लम का समाधान प्राप्त करने के लिए युजर, तकनीक और प्रॉसीजर (procedure) एक साथ मिलकर  कार्य करते हैं। यूूूूजर तकनीक और प्रॉसीजर के सकलन को Information system  कहते हैं।   management information system definition :- जब इनफॉर्मेशन सिस्टम में निहित सभी भाग एक अनुशासन (Discipline) विधि से किसी बिजनेस प्रॉब्लम को हल करते हैं तो इस प्रक्रिया को Management information system ( MIS in hindi ) कहते हैं।   MIS कोई नवीन व्यवस्था नहीं है, कंप्यूटर के आगमन से पूर्व व्यवसाय की गतिविधियों का योजना निर्धारण और नियन्त्रण करने का कार्य इसी प्रकार की MIS विधि से ही सम्पन्न किया जाता था।  कंप्यूटर ने इस MIS व्यवस्था में नवीन आयामों  जैसे, गति (speed), शुद्धता (accuracy) और वृहद मात्रा में डेटा समापन को भी सम्मिलित कर दिया गया है। management, Information और system    को कंप्यूटर की सहायता से मिश्रित व्यावसायिक गतिविधियों को सम्पन्न किया जाता है।  किसी ऑर्गेनाइजेशन की ऑ