सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

What is Magnetic Tape in hindi

Internet layer in hindi

आज हम internet technology in hindi मे हम internet layer in hindi के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- 
Internet layer in hindi

Internet layer in hindi:-

internet layer इससे ऊपर वाली लेयर के लिए routing का कार्य करती है । इंटरनेट में routing का जटिल और महत्वपूर्ण है जिसे internet layer इसमें उपस्थित प्रोटोकॉलों की सहायता से करती है । इस लेयर का IP प्रोटोकॉल प्रत्येक डाटा पैकेट के IP एड्रेस का जाँचता है , इसके बाद इस लेयर में प्रयुक्त किसी routing protocol की सहायता से destination कम्प्यूटर तक के सवोत्तम मार्ग का चुनाव करता है । 

Types of internet layer in hindi:-

1. IP ( इंटरनेट प्रोटोकॉल ) 
2. ARP ( एड्रेस रेज़ोलूशन प्रोटोकॉल ) 
3. RARP ( रिवर्स एड्रेस रेजोलूशन प्रोटोकॉल ) 
4. BootP ( बूट प्रोग्राम ) 

1. IP in hindi (इंटरनेट प्रोटोकॉल ) internet protocol in hindi :-

IP ( इंटरनेट प्रोटोकॉल ) , इंटरनेट के सभी प्रोटोकॉलों का आधार है । यह अलग - अलग नेटवर्कों पर स्थित दो कम्प्यूटरों के मध्य डाटा के आदान - प्रदान की व्यवस्था प्रदान करता है । किसी नेटवर्क की पैकेट store करने की क्षमता से अधिक वाले डाटा पैकेट को इंटरनेट प्रोटोकॉल विभाजित करने में भी सक्षम होता है जिससे डाटा का स्थानान्तरण संभव हो जाता है । इंटरनेट प्रोटोकॉल एक हार्डवेयर low level प्रोटोकॉल है जो रूटरों के माध्यम से जुड़े अलग - अलग प्रकार के नेटवर्कों से बने इंटरनेट और Intranet में डाटा के पैकेटों का रूट determined करता है । डाटा भेजने वाला कम्प्यूटर और प्राप्त करने वाला कम्प्यूटर दोनों ही " एंड सिस्टम ( end system ) " कहलाते हैं क्योंकि ये दोनों कम्प्यूटर , संवाद के अन्तिम बिन्दु होते हैं । एंड सिस्टमों के मध्य वाले सभी कम्प्यूटर “ इंटरमीडियेट सिस्टम " कहलाते हैं । इंटरमीडियेट सिस्टम के रूप में विभिन्न प्रकार के कम्प्यूटर उपस्थित होते हैं जैसे :- Router , Gateway , Multi - homed host आदि ।
Router विशेष प्रकार से तैयार ऐसे कम्प्यूटर होते हैं जिनके द्वारा डाटा पैकेट की रूटिंग सम्पन्न होती है । गेटवे सामान्य उद्देश्य के ऐसे कम्प्यूटर होते हैं जो केवल रूटर का ही कार्य करते हैं और रूटर के समान अन्य कोई कार्य नहीं करते हैं । मल्टी - होम्ड होस्ट ऐसे सामान्य उद्देश्यीय कम्प्यूटर होते हैं विभिन्न सेवाएँ प्रदान करते हैं जैसे फाइल सर्विस या इंटरनेट वेब साइट की होस्टिंग आदि ।

2. ARP protocol in hindi :-

full form in ARP protocol in hindi:- एड्रेस रेज़ोलूशन प्रोटोकॉल (address resolution protocol)
जब इंटरनेट प्रोटोकॉल में भेजने वाला पैकेट ( डाटाग्राम ) उपस्थित होता है तब इसकी लेयर से ऊपर वाली लेयर ( ट्रांसपोर्ट लेयर ) का IP एड्रेस pre में Inform कर चुकी होती है । लेकिन यह IP एड्रेस ऐसी format में नहीं होता जिसे मॉडल की निचली लेयर ( डाटालिंक लेयर ) का हार्डवेयर समझ सके । जिस LAN में Sender कम्प्यूटर स्थित है वह Ethernet या अन्य प्रकार का हो सकता है जिसमें ऐड्रेसिंग भिन्न प्रकार की ( 48 - बिट ईथरनेट ) होती है । क्योंकि IP- ऐड्रेस 32 - बिट का होता है । ऐड्रेसिंग की इस असमानता को दूर करना आवश्यक होता है अन्यथा निचली लेयर ( डाटा लिंक लेयर और फिजीकल लेयर ) से पैकेट का गुजरना संभव नहीं है । ARP ( एड्रेस रेजोलूशन प्रोटोकॉल ) इस समस्या का समाधान करता है । यह प्रोटोकॉल , इंटरनेट प्रोटोकॉल को कम्प्यूटर का हार्डवेयर एड्रेस खोज कर बताता है । ARP प्रोटोकॉल , IP प्रोटोकॉल के लिये एक " खोजी " ( detective ) के रूप में कार्य करता है "
ARP प्रोटोकॉल नेटवर्क को वह “ IP एड्रेस " जिसका हार्डवेयर एड्रेस पता लगाना है , broadcast करके नेटवर्क से यह पूछता है कि प्रेषित “ IP एड्रेस " का हार्डवेयर एड्रेस क्या है और उसे प्राप्त करके IP प्रोटोकॉल को सौंपता है । इंटरनेट पर प्रत्येक मशीन या कम्प्यूटर ARP प्रोटोकॉल को चलाती है । sender कम्प्यूटर को lovy@abc.com को एक संदेश भेजना है इसके लिए वह lovy@abc.com एड्रेस का प्रयोग करता है , DNS इस एड्रेस का IP एड्रेस 192.31.65.5 प्रदान करता है । इसके प्रेषक कम्प्यूटर का ARP प्रोटोकॉल इस एड्रेस को CS ईथरनेट नेटवर्क की ओर प्रसारित करता है और प्रश्न करता है " How owns IP address 192.31.65.5 ? " , इसके उत्तर में कम्प्यूटर स्वयं की उपस्थिति जाता है और इसका रूटर E2 का हार्डवेयर एड्रेस ARP को लौटाता है जहाँ से IP प्रोटोकॉल इसे प्राप्त कर लेता है ।

3. RARP in hindi ( reverse address resolution protocol in hindi ) :- 

जब किसी IP मशीन diskless होती है तो इसके पास ऐसी कोई विधि नहीं होती है कि यह अपने IP एड्रेस का जान सके । लेकिन यह मशीन इसका MAC एड्रेस जानती है । RARP प्रोटोकॉल इस MAC एड्रेस को इंटरनेट पर क्रियाशील एक RARP सर्वर की ओर भेजकर इस मशीन का IP एड्रेस पता करता है ।

4. what is Bootp in hindi:-

जब किसी डिस्क रहित मशीन ऑन की जाती है तब यह मशीन एक BoorP request इंटरनेट पर प्रसारित करती है । इंटरनेट पर क्रियाशील एक BootP सर्वर इस रिक्वेस्ट को सुनता है और इस मशीन के MAC एड्रेस को BootP फाइल में entry देखता है । यदि मशीन की entry मिल जाती है तो BootP सर्वर , मशीन का IP एड्रेस और बूट करने वाली फाइल लौटाता है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल