सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

What is Magnetic Tape in hindi

hyperlink in hindi - हाइपरलिंक क्या है?

आज हम internet technology in hindi मे हम hyperlink in hindi - हाइपरलिंक क्या है? के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- 

hyperlink in hindi (हाइपरलिंक क्या है?):-

इंटरनेट सूचना और ज्ञान का महासागर है जिसमें लगभग सभी विषयों एवं क्षेत्रों से सम्बन्धित जानकारी उपलब्ध है । मनुष्य ने अब तक जो कुछ भी उपलब्धि प्राप्त की है वह सब कुछ इंटरनेट के माध्यम से दुनियां के किसी भी भाग में प्राप्त है । वेब पेज के द्वारा इंटरनेट से जुड़े कम्प्यूटर पर सूचना और document submission किये जाते हैं । 
hyperlink kya hai

हाइपर टैक्स्ट ( Hyper Text ) :-

वेब पेज में किसी शब्द , वाक्य अथवा चित्र को किसी अन्य पेज या टैक्स्ट से जोड़ने पर वेब पेज अधिक उपयोगी हो जाता है । ऐसे हाइपर टैक्स्ट पर माउस click द्वारा टैक्स्ट पर show हो जाता है ।

हाइपर लिंक्स ( Hyperlink in hindi ):-

 किसी वेब पेज में जब किसी पेज से जोड़ा जाता है तो ऐसे टैक्स्ट को हाइपर टैक्स्ट कहते हैं । हाइपर टैक्स्ट के ऊपर माउस पॉइंटर की shape change हो जाती है । इससे हाइपर की उपस्थिति का signal user को मिलता है । हाइपर टैक्स्ट पर क्लिक करने पर कम्प्यूटर का control अन्य पेज में transferred होता है इस क्रिया को हाइपर जम्प ( hyper jump ) कहते हैं । 

Types of Hyperlink in hindi:-

1 बाह्य लिंक ( external link ) :-

 एक वेब पेज से दूसरे वेब पेज में transfer।
किसी वेब पेज में हाइपर टैक्स्ट पर क्लिक करने पर अन्य वेबसाइट स्क्रीन show होती है तो इसे external link कहते हैं । इसके लिए एन्कर टैग <A HREF> का use किया जाता है । 
 Step 1 : सबसे पहले प्रथम टैम्पलेट में मुख्य वेब पेज को सामान्य तरीके से बनाते हैं और इसी में एंकर टैग का प्रयोग करते हैं । एंकर टैग <A HREF> के एट्रीब्यूट में द्वितीय टैम्पलेट का पाथ और फाइलनेम करते हैं । 
Step 2 : इसके बाद द्वितीय टैम्पलेट बनाते हैं जिसे प्रथम टैम्पलेट के हाइपर टैक्स्ट से लिंक करना है । 

<A HREF> टैग : - 

हाइपर टैक्स्ट को select करने के लिए एन्कर टैग <A HREF> का प्रयोग किया जाता है । इस टैग के HREF एट्रीब्यूट में Related template file का नाम दिया जाता है । 
Syntax : 
< A HREF = 44 अन्य टैम्पलेट या वेब साइट का नाम " > हाइपर टैक्स्ट के लिए शब्द या वाक्य 
</A> 
यहाँ HREF अन्य टैम्पलेट फाइ का नाम और पाथ देने के लिए use होता है । जिससे हाइपर टैक्स्ट को हम लिंक करना चाहते हैं ।
  HREF का पूरा नाम “ हाइपरटैक्स्ट रेफरेन्स "

2 आन्तरिक लिंक ( internal link ) :-

 एक ही वेब पेज में एक स्थान से दूसरे स्थान पर transfer।

इमेज लिंक्स ( Image Links ):-

 किसी वेब पेज में इमेजों को हाइपर लिंक बना देने से वेब पेज और अधिक उपयोगी हो जाता है । ऐसे इमेज जिन पर क्लिक करने से अन्य पेज show होता है , हाइपर इमेज लिंक कहलाते हैं । 

Method for creating image links:-

किसी वेब पेज में इमेजों को हाइपर टैक्स्ट के समान क्लिक करने योग्य हाइपर लिंक बनाया जा सकता है । जब IMG टैग को एन्कर टैग <A HREF> में दिया जाता है तो इमेज हाइपर लिंक वाली जाती है । इस कार्य के लिए एन्कर और इमेज टैग का format का प्रकार होता है । 
Syntax : 
<A HREF="हाइपर लिंक टैम्पलेट का पाथ"> 
< IMG SRC = " इमेज फाइल का पाथ " > </A>
इसे भी पढे! 

निवेदन :- अगर आपके लिए यह post थोडा भी useful रहा है तो इसे अपने friends के साथ Facebook, Instagram , telegram और whatsapp में share करिये और आपके subjects से related कोई प्रश्न हो तो नीचे comment में बताइये 
Thanks / धन्यवाद 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल