सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

internet connection in hindi

आज हम internet technology in hindi मे हम internet connection in hindi के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

internet connection in hindi:-

इंटरनेट के Network में विभिन्न प्रकार के एप्लीकेशन प्रोग्रामों को execute करने करने वाली अनेक मशीन ( कम्प्यूटर ) Inclusived होती हैं । इन कम्प्यूटरों को हम होस्ट कह सकते हैं । ये होस्ट एक communication subnet से जुड़े रहते हैं । एक होस्ट से दूसरे होस्ट तक message लाने ले जाने का कार्य subnet का होता है , telephone system इस कार्य को करवाती है । 
अधिकतर वाइड एरिया नेटवर्कों में subnet के दो भाग होते हैं - 
1. transmission lines
2. switching devices

1. Transmission lines :-

वाइड एरिया नेटवर्क के कम्प्यूटरों के मध्य डाटा की bits का convection करने वाले तार , केबल , सर्किट , या channels को transmission lines कहते हैं ।

2. Switching devices :-

 दो या दो से अधिक transmission lines को जोड़ने वाले specialized computers switching devices कहलाते हैं । जब किसी इनकमिंग लाइन पर डाटा पहुँचता है तो एलीमेन्ट , outgoing लाइन का चुनाव करती है । यह स्विचिंग युक्ति I. S. P. ( इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर ) का कम्प्यूटर होता है । इंटरनेट से जुड़ने के लिए सर्वप्रथम हमें I. S. P. ( इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर ) से user नेम और पासवर्ड लेने होते हैं । इन दोनों से ही हम टेलीफोन लाइन से जुड़े कम्प्यूटर से जुड़े कम्प्यूटर के द्वारा इंटरनेट में लॉगइन हो सकते हैं ।

इंटरनेट से जुड़ने के लिए टेलीफोन लाइन को कम्प्यूटर में लगे मॉडेम के सॉकट से जोड़ दिया जाता है । इसके बाद Start Menu में प्रदर्शित Connect To को सलेक्ट करते हैं इसके बाद प्रदर्शित submain में My Connection अथवा user द्वारा user name वाले option पर क्लिक करते हैं , जिससे स्क्रीन पर एक dialog boxe प्रदर्शित होता है इस dialog boxe में user name और password टाइप करके कनेक्ट पर क्लिक करते हैं । ऐसा करते ही इंटरनेट से जुड़ने की प्रक्रिया आरम्भ हो जाती है । यह प्रोग्राम कम्प्यूटर को I. S. P. सर्वर से जोड़ने को प्रयास करता है । कभी - कभी कनेक्शन जुड़ने में काफी समय लग जाता है । परन्तु ऐसा तभी होता है जब लाइनें busy होती हैं ।
यदि इंटरनेट कनेक्शन सही जुड़ गया है तो MS Internet Explorer प्रोग्राम start करते हैं और जिससे इंटरनेट से जुड़ी हुई होस्ट साईट खुल जाती है । यदि डीफॉल्ट में www.indiapost.gov.in की ई - पोस्ट वेब साइट users ने पहले ही determined कर रखी है तो इसकी वेब साइट खुल जाती है । जिसमें हम अब कार्य कर सकते हैं । इंटरनेट कनेक्ट होने पर विण्डोज के टास्क बार पर एक आइकन लगातार प्रदर्शित होता रहता है । कि इंटरनेट कनेक्शन जारी है । इस आइकन पर डबल क्लिक करने पर इंटरनेट कनेक्शन की गति और कनेक्ट होने के बाद spent time की calculation होती है जैसे एस . टी . डी . बूथ पर टेलीफॉन कॉल के समय की calculation करने वाला मीटर दिखता है । जिससे हम इंटरनेट पर कार्य करने की period time का assessment कर सकते हैं ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag