सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Relational model concepts in dbms in hindi - DBMS in hindi

 आज हम computers in hindi मे relational model concepts in dbms in hindi - DBMS in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

relational model concepts in dbms in hindi:-

Relation model डाटाबेस को Relations के group के रूप में presented करता है । जब एक Relations को value की table के जैसे समझा जाता है तो table में प्रत्येक row related डाटा वैल्यूज के Collection को presented करती है । Relation model में Schedule में every row एक fact को present करती है जो कि एक Real world entity या relationship के समान होती है । Formal Relation model Glossary में एक row , Tuple कहलाती है , एक Column header attribute कहलाता है और टेबल को Relations कहा जाता है । डाटा टाइप जो value के types को बताते हैं जो प्रत्येक कॉलम में दिखते हैं , डोमेन कहलाते हैं । एक Relation डाटाबेस के Universe को से display किया जाता है , एक Non Empty Finite Set Of Elements A1 , A2 , A3 , ....... An को Attribute Name or Simply Attribute कहते हैं। 

U = { A1, A2, A3 , ... An } ( Database as a Collection of Relations )

डोमेन / वैल्यू सेट ( Domain / Value Set ) :-

यह Atomic values का एक सेट है । यहाँ Atomic से मतलब वह प्रत्येक value है जो डोमेन में अलग है । इसको D से display किया जाता है।

Example:-

- डोमेन ( A ) = { 20,21 ... , 60 } ( if A ; = AGE ) 

सिंपल डोमेन ( Simple Domain ) : - 

एक डोमेन साधारण डोमेन होगा यदि इसके सारे एलीमेन्ट अलग है ।

रिलेशन स्कीमा ( Relation Schema ) : -

एक Relation Schema R , जो R ( A1 , A2 , ............... An ) द्वारा display होता है , Relation name R से बना होता है और इसमें एट्रीब्यूट की लिस्ट A1, A2 , ... ... ...An होती है । प्रत्येक डोमेन A , एक रोल का नाम है जो Relation Schema R मे डोमेन D द्वारा दिखाया जाता है । एक Relation Schema एक Relations को Described करने के लिए प्रयोग किया जाता है । R इस Relations का नाम कहलाता है । एक Relations की डिग्री इसके Relation Schema के Attribute की n संख्या है। 

Eexample - STUDENT ( Name , SSN , Home Phone , Address , Office Phone , Age , GPA)

STUDENT एक Relation का नाम है जिसके सात Attribute हैं । STUDENT Relations के कुछ Attribute के लिए डोमेन्स हैं 

dom ( Name ) = Names , dom ( SSN ) = Social_Security_Numbers , 

dom ( Home Phone ) = Local_Phone_Numbers

characteristics of relation:-

( 1 ) Tuple order in relation:- 

एक Relations को tuple के एक set के रूप में देखा जाता है । गणितीय रूप में एक सेट के Elements के बीच कोई order नहीं होता इसलिए एक Relations में tuple कोई विशेष क्रम में नहीं होती । 

( 2 ) The order of values ​​in tuples and the alternative definition of relationship:-

एक n- tuple n values की एक orders list है । Alternative definition में , एक Relation Schema R = { A , Az ......... .A . ) Attribute का एक set है और एक Relations r ( R ) mapings I = tt .............. } का एक Finite set है , जहाँ प्रत्येक टपल एक Mapping है । R से D तक का और D Attribute डोमेन का यूनियन है , जो कि 

D = dom ( A , ) u dom ( A , ) U ... .... dom ( A)

( 3 ) Values ​​in Tuples : - 

एक tuples में प्रत्येक value एक Atomic value होती है । यह छोटे - छोटे भागों में Divider नहीं होती । एक विशेष tuple में कुछ Attribute की value या तो Unknown होती है या उस tuples पर लागू नहीं होती , तो इस विशेष मान को NULL कहते हैं । 

( 4 ) Interpretation of relation : -

Relation Schema को Declaration की तरह या Essaron के प्रकार की तरह इंटरप्रेट किया जा सकता है ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना