सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

active server pages in hindi

 आज हम computers in hindi मे active server pages in hindi और events and responses - Internet tools in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- 

ASP in hindi:-

Full form of ASP:- active server pages
माइक्रोसॉफ्ट द्वारा विकसित की गई एक टेक्नोलॉजी है जिसका प्रयोग डायनमिक वेब एप्लीकेशन्स बनाने के लिए किया जाता है । यह एक सर्वर साइड स्क्रिप्टिंग लैंग्वेज है । ASP वेब पेज की फाइल का एक्टेंशन .asp होता है । एक ASP पेज HTML तथा स्क्रिप्ट से मिलकर बनता है । ASP पेज में स्क्रिप्ट लिखने के लिए किसी न किसी स्क्रिप्टिंग लैंग्वेज का प्रयोग किया जाता है । साधारणतः इसके लिए VB स्क्रिप्ट या जावा स्क्रिप्ट का प्रयोग किया जाता है । 
क्लाइंट ( ब्राउज़र ) पर आउटपुट भेजने के लिए सर्वर पर स्थित प्रोग्राम में Response ऑब्जेक्ट का प्रयोग किया जाता है । 
Active server pages Extension:- .asp

Response objects Method in active server pages hindi:-

AppendToLog :-

इस मैथड का प्रयोग सर्वर लॉग एंट्री के अंत में किसी स्ट्रिंग को जोड़ने के लिए किया जाता है । सर्वर लॉग एंट्री सर्वर लॉग फाइल में की जाती है । सर्वर लॉग फाइल ऐसी लॉग फाइल होती है जिसमें सर्वर पर हो चुके विभिन्न कार्यों की जानकारी होती है । 
AppendToLog of Syntax : 
Response . AppendToLog < string > 
Append to log Example : 
< $ Response . AppendToLog " My Log " % >

Clear:-

इस मैथड का प्रयोग HTML आउटपुट को बफर ( अस्थाई मैमोरी ) से मिटाने के लिए किया जाता है । यह मैथड तभी कार्य करता है जब इस ऑब्जेक्ट की Buffer प्रॉपर्टी को true सेट किया गया हो अन्यथा यह एरर जनरेट कर देता है।
Clear of Syntax : 
Response.clear 
Example of clear : 
<%
      response . Buffer = true
%>

< html >  
        < body > 
              < p > This is a demo < / p > 
<%
      response.clear 
%>
< / body > 
< / html >
 इस पेज को run करने पर This is a demo आउटपुट के रूप में प्राप्त होना चाहिए , किन्तु चूंकि response.Clear बफर में स्टोर मैसेज को मिटा देगा , अतः वास्तव में कोई आउटपुट प्रदर्शित नहीं होगा । 

End :-

इस मैथड का प्रयोग स्क्रिप्ट के Execution को रोकने के लिए किया जाता है । इससे प्रोग्राम में आगे की स्क्रिप्ट रन नहीं होती है । Execution को रोक देने पर यह करंट आउटपुट को क्लाइंट ( ब्राउजर ) पर भेज देता है । 
Syntax of End :-
Response . End
Example of End:-
< html > 
< body > 
        < p > Hello ! 
        < %
              Response . End 
        %>
        This is a demo of End method < / p > 
< / body > 
< / html >
Output:-
Hello!
इस पेज को run करने पर Hello ! ही प्रिंट होगा , क्योंकि Response.End के कारण से उसके बाद वाली लाइन रन ही नहीं हो पाएगी । 

Flush :-

इस मैथड का प्रयोग बफर किए हुए आउटपुट को तुरन्त ब्राउजर पर भेजने के लिए किया जाता है । यह मैथड भी तभी कार्य करता है जब इस ऑब्जेक्ट की Buffer प्रॉपर्टी को true सेट किया गया हो अन्यथा यह एरर उत्पन्न कर देता है । Syntax of Flush: 
         Response . Flush

Redirect :-

इस मैथड का प्रयोग किसी अन्य वेब पेज ( URL ) पर जाने के लिए किया जाता है । 
Syntax of Redirect : 
      Response . Redirect < URL > 
Example of Redirect : 
< html >
< body > 
       <%
             Response.Redirect "https://www.facebook.com/ImperialTutoris" 
        %>
< / body > 
< / html >
जब इस पेज को ओपन किया जाएगा तो Redirection के कारण से स्वतः https://www.facebook.com/ImperialTutorials पेज ओपन हो जाएगा । 

Write :-

इस मैथड का प्रयोग किसी स्ट्रिंग को आउटपुट के रुप में display के लिए ' किया जाता है । 
Syntax of write: 
       Response.Write < string >
 Example of write : 
< html > 
< body > 
        <%
             Response.Write " Hello world ! "
         % > 
< / body > 
< / html >
Output:
       Hello World!

 main properties of the Response object:-

Buffer:-

इस properties का प्रयोग यह सेट करने के लिए किया जाता है कि बफरिंग की जानी है अथवा नहीं । बफरिंग के ऑन होने पर चूंकि डेटा सर्वर पर स्टोर होकर एक साथ क्लाइंट पर भेजा जाता है , इससे नेटवर्क पर ट्रेफिक में कमी आती है । 
Syntax of buffer: 
       Response . Buffer = < true / false >

CacheControl :-

इस प्रॉपर्टी द्वारा यह निर्धारित किया जा सकता है कि ASP पेज द्वारा जनरेटेड आउटपुट को प्रॉक्सी सर्वर द्वारा कैष किया जाएगा अथवा नहीं । सामान्यतः कैपिंग को उस स्थिति में ऑफ किया जा सकता है जब सर्वर से क्लाइंट को हमेशा अलग तरह का पेज / डेटा भेजने की आवश्यकता हो । Response.cachecontrol = " Public / Private " 
Public :- कैपिंग को ऑन करने के लिए
Private :-कैपिंग को ऑफ करने के लिए ( डिफॉल्ट वैल्यू ) 

ContentType :-

इस प्रॉपर्टी द्वारा ब्राउजर पर भेजे जाने वाले कॉन्टेंट के टाईप को सेट किया जा सकता है जिससे कि ब्राउजर , पेज के डेटा को बेहतर ढंग से हैंण्डल कर सके । 
Example of content type:-
इस प्रॉपर्टी द्वारा हम कॉन्टेंट का टाईप टैक्स्ट तथा इमेज आदि सेट कर सकते हैं । 
Syntax of content type: 
       Response.ContentType [ = contenttype ] 

Expires :-

इस प्रॉपर्टी द्वारा यह निर्धारित किया जाता है कि पेज कितने मिनट बाद expire होगा । 
Syntax of expires: 
Response . Expires ( = number ]

ExpiresAbsolute:-

किसी निश्चित डेट तथा टाइम पर कैष किए गए पेज को expire करने के लिए इस प्रॉपर्टी का प्रयोग किया जाता है।
 Syntax of expires absolute : 
        Response . ExpiresAbsolute [ = [ date ] [ time ] ] 
Example of expires absolute: 
< Response . ExpiresAbsolute = # June 15:00:00 # % >
Cookie :-
Cookie ऐसी टैक्स्ट फाइल होती है , जिसे  सर्वर द्वारा क्लाइंट पर बनाया जाता है । सामान्यतः Cookie इसलिए बनाई जाती है , ताकि  सर्वर पर क्लाइंट के name कम्प्यूटर पर उस क्लाइंट से  Releted जानकारी को स्टोर करके रख सके ।  
 Response . Cookies ( name ) [ .attribute ] = value
attribute:- Cookie से संबंधित सूचनाएं बताने के लिए है जैसे उसकी expiry date आदि सेट करने के लिए , 
value :-कुकी में स्टोर की जाने वाली सूचना है ।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना