सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

boolean algebra in hindi

public key encryption in hindi

आज हम computers in hindi मे public key encryption in hindi - e commerce in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- 

meaning encryption in hindi:-

Encrypt एक तकनीक है जिससे डेटा अथवा संदेश को form में बदला जाता है जिससे उसकी गोपनीयता बनी रहती है । encryption एक तकनीक होती है । जिसमें किसी भी तरह की व्यक्तिगत जानकारी को गोपनीय व सुरक्षित रखा जा सकता है । Encrypt तकनीक का उपयोग ई - मेल में किया जाता है । क्योंकि ई मेल के द्वारा कई प्रकार की महत्वपूर्ण जानकारी तथा फाइलों व डॉक्यूमेंट्स का आदान प्रदान किया जाता है । सामान्यत : ई - मेल में एनक्रेप्शन विधि का उपयोग किया जाता है ।

public key encryption in hindi:-

Public key encryption को E - Commerec के अन्तर्गत जब कोई Transation किया जाता है तो इसके लिये नेटवर्क का प्रयोग किया जाता है । नेटवर्क पर किसी भी प्रकार का Safe communcation करने के लिये Cryptographic का प्रयोग किया जाता है । Cryptopraphic System के अन्तर्गत Encryption तथा Decryption करने के लिये Public key तथा Private key का प्रयोग किया जाता है । इन दोनों Keys के आधार पर Cryptographic System कार्य करता है । 
Publie key का प्रयोग उन users के द्वारा किया जाता है जो Communication के दौरान Message भेज रहे है तथा जिस user को Message प्राप्त हो रहा है वह Private Key का प्रयोग करता है ।

Example of public key encryption in hindi:-

यदि दीपक भावना को कोई Secure Message भेजना चाहे तो वह Message को encrypt करने के लिये भावना की Public key का प्रयोग करेगा तथा उस Message को encrypt करने के लिये भावना के द्वारा private key का प्रयोग किया जायेगा । 
यह कह सकते है कि Private key तथा Public key दोनों ही एक दूसरे से संबंधित है । किसी भी Message को Encrypt करने के लिये Public Key का प्रयोग किया जाता है तथा उस Message को encrypt करने के लिये Public key उस से संबंधित Private Key का ही प्रयोग किया जाता है । Public Key तथा Private Key दोनों ही Cryptographic system का महत्वपूर्ण अंश है। 
वर्तमान में Public Key system जैसे कि PGP ( Pretty Good Privacy ) बहुत ही प्रचलित है जो कि इन्टरनेट के द्वारा सूचना प्रसारण के लिये प्रचलित है यह बहुत सुरक्षित होता है तथा अपेक्षाकृत सरल भी होता है इसमें केवल यह ध्यान रखा जाना चाहिये कि जिस व्यक्ति को संदेश भेजा जा रहा है , संदेश को encrypt करने के लिये संदेश प्राप्तकर्ता की Public Key का प्रयोग किया जायेगा ।

difference between private key and public key encryption:-

जैसा कि हम जानते हैं कि Private Key तथा Public key दोनों ही Cryptographic system का महत्वपूर्ण भाग हैं परन्तु फिर भी इनमें कुछ अन्तर पाये गये है -
Public Key 
1. इसका प्रयोग संदेश  Sendar अर्थात संदेश भेजने वाले के द्वारा किया जाता है । 
2. सामान्यत : इसका प्रयोग संदेश को encrypt करने के लिये किया जाता है । 
Private key
1. इसका प्रयोग संदेश Recipient अर्थात संदेश प्राप्त करने वाले के द्वारा किया जाता है । 
2 . इसका प्रयोग संदेश की decrypt करने के लिये किया जाता है ।

Importane of Public Key in E - Commerce:-

1 . Secuse Electronic communication: -

ई - कॉमर्स में Communication के लिये किसी बड़े तथा खुले नेटवर्क का प्रयोग किया जाता है । जिसमें सुरक्षा कम होती है तथा वह संदेश किसी attacker के द्वारा access किया जा सकता है जिसे वह information leak हो सकती है । संदेश को नेटवर्क पर सुरक्षित भेजने के लिये Public key Cryptography का प्रयोग किया जाता है। 

2. Encryption and Decryption : - 

Public Key के द्वारा encrypt किये गये message को उसी से संबंधित private Key के द्वारा ही Decrpyit किया जा सकता है अत : किसी attacker के द्वारा वह संदेश access किया जायेगा तो वह उस संदेश को Decprite करके पढ़ नहीं पायेगा जिससे हमारी infomation leak नहीं होगी क्योंकि encrypt किया गया संदेश पढ़ने योग्य स्थिति में नहीं होगा । 

3. Easy to Use : - 

इस प्रकार की Cryptographic तकनीक प्रयोग में आसान होती है क्योंकि इसमें गणित्तिय समीकरण / गणनाओं का प्रयोग किया जाता है जिसे कम्प्यूटर द्वारा आसानी से encrypt कर अन्य observer , attackers से सुरक्षित रखा जाता है तथा मैसेज का गन्तव्य स्थान के पहुँचने के पश्चात् उसे आसानी से decrypt भी किया जाता है ।

4. High Protection: - 

ई - कॉमर्स के अंतर्गत जब कोई Transaction किया जाता है तो इसके लिए information का सुरक्षित रहना आवश्यक होता है अत : इन Cryptographic तकनीकों / keys का उपयोग करके हम अपने Transaction / information को  Protect कर सकते हैं । 
ई - कॉमर्स का उपयोग एक बड़े नेटवर्क के माध्यम से किया जाता है जिस पर सूचना व Transaction का सुरक्षित होना अति आवश्यक है । अन्तर्राष्ट्रीय Transaction में कई सूचना ऐसी होती है जिन्हें गुप्त रखा जाना आवश्यक होता है तथा विभिन्न attackers उन जानकारी पर दृष्टि बनाए रखते है तथा उनका उसका दुरूप्रयोग करते हैं । 
ऐसी स्थिति में अपने संदेश व Transaction को गुप्त व सुरक्षित रखने के लिए cryptographic system का प्रयोग किया जाता है जिससे हम अपने व्यापारिक क्षेत्र को सुरक्षित बना सकते हैं तथा अपनी सूचनाओं को गुप्त व सुरक्षित रख सकते हैं । इसके लिए cryptographic system का प्रयोग अत्यन्त महत्वपूर्ण है , जो कि encryption / Decryption को Public key तथा Private key के द्वारा सम्पन्न करता है ।



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

foxpro commands in hindi

आज हम computers in hindi मे  foxpro commands  क्या होता है उसके कार्य के बारे मे जानेगे?   foxpro all commands in hindi  में  तो चलिए शुरु करते हैं-   foxpro commands in hindi:-  (1) Clear command in foxpro in hindi:-  इस  command  का प्रयोग  foxpro  की main स्क्रीन ( जहां रिकॉर्ड्स / Output प्रदर्शित होते हैं ) को Clear करने के लिए किया जाता है ।  (2) Modify Structure in foxpro in hindi :-  इस  command  का प्रयोग वर्तमान प्रयुक्त  डेटाबेस  फाईल के स्ट्रक्चर में आवश्यक परिवर्तन करने के लिए किया जाता है । इसके द्वारा नये फील्ड भी जोड़े जा सकते हैं तथा पुराने फील्ड्स को हटाया व उनके साईज़ में भी परिवर्तन किया जा सकता है ।  (3) Rename in foxpro in hindi :-  इस  command  के द्वारा किसी  database  file का नाम बदला जा सकता है जिस फाईल को Rename करना हो वह मैमोरी में खुली नहीं होनी चाहिए ।   Syntax : Rename < Old filename > to < New filename >  Foxpro example: -  Rename Student.dbf to St.dbf (4) Copy file in foxpro in hindi :- इस command के द्वारा किसी एक डेटाबेस फाईल के रिकॉ

foxpro data type in hindi । फॉक्सप्रो

 आज हम computers in hindi मे फॉक्सप्रो क्या है?  Foxpro data type in hindi  कार्य के बारे मे जानेगे? How many data types are available in foxpro?    में  तो चलिए शुरु करते हैं-    How many data types are available in foxpro? ( फॉक्सप्रो में कितने डेटा प्रकार उपलब्ध हैं?):- FoxPro में बनाई गई डेटाबेस फाईल का एक्सटेन्शन नाम .dbf होता है । foxpro data type in hindi (फॉक्सप्रो डेटा प्रकार) :- Character data type Numeric data type Float data type Date data type Logical data type Memo data type General data type 1. Character data type :- Character data type  की फील्ड में अधिकतम 254 Character store किये जा सकते हैं । इस टाईप की फील्ड में अक्षर जैसे ( A , B , C , .......Z ) ( a , b , c , ...........z ) तथा इसके साथ ही न्यूमेरिक अंक ( 0-9 ) व Special Character ( + , - , / . x , ? , = ; etc ) आदि भी Store करवाए जा सकते हैं । इस प्रकार की फील्ड का प्रयोग नाम , पता , फोन नम्बर , शहर का नाम , पिता का नाम , माता का नाम आदि संग्रहित करने के लिए किया जाता है । 2. Numeric data type :- Numeric da

कंप्यूटर की पीढियां । generation of computer in hindi language

generation of computer in hindi  :- generation of computer in hindi language ( कम्प्युटर की पीढियाँ):- कम्प्यूटर तकनीकी विकास के द्वारा जो कम्प्यूटर के कार्यशैली तथा क्षमताओं में विकास हुआ इसके फलस्वरूप कम्प्यूटर विभिन्न पीढीयों तथा विभिन्न प्रकार की कम्प्यूटर की क्षमताओं के निर्माण का आविष्कार हुआ । कार्य क्षमता के इस विकास को सन् 1964 में कम्प्यूटर जनरेशन (computer generation) कहा जाने लगा । इलेक्ट्रॉनिक कम्प्यूटर के विकास को सन् 1946 से अब तक पाँच पीढ़ियों में वर्गीकृत किया जा सकता है । प्रत्येक नई पीढ़ी की शुरुआत कम्प्यूटर में प्रयुक्त नये प्रोसेसर , परिपथ और अन्य पुर्षों के आधार पर निर्धारित की जा सकती है । ● First Generation of computer in hindi  (कम्प्युटर की प्रथम पीढ़ी) : Vacuum Tubes ( वैक्यूम ट्यूब्स) ( 1946 - 1958 ):- प्रथम इलेक्ट्रॉनिक ' कम्प्यूटर 1946 में अस्तित्व में आया था तथा उसका नाम इलैक्ट्रॉनिक न्यूमेरिकल इन्टीग्रेटर एन्ड कैलकुलेटर ( ENIAC ) था । इसका आविष्कार जे . पी . ईकर्ट ( J . P . Eckert ) तथा जे . डब्ल्यू . मोश्ले ( J . W .