सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

What is Magnetic Tape in hindi

web security considerations in cryptography and network security

Web Security Considerations in cryptography and network security:-

वर्ल्ड वाइड वेब से इंटरनेट और टीसीपी/आईपी इंट्रानेट पर चलने वाला क्लाइंट/सर्वर एप्लिकेशन है। 
• इंटरनेट दो तरफा है।  traditional publishing environments के विपरीत- यहां तक ​​कि electronic publishing systems जिनमें टेलीटेक्स्ट, ध्वनि प्रतिक्रिया, या फैक्स-बैक शामिल हैं- वेब इंटरनेट पर वेब सर्वरों पर attacks के प्रति sensitive है।
• वेब तेजी से कॉर्पोरेट और product information के लिए एक highly visible outlet के रूप में और commercial लेनदेन के लिए एक मंच के रूप में कार्य कर रहा है। यदि वेब सर्वरों को उलट दिया जाता है तो reputation को damage हो सकता है।
• हालांकि वेब ब्राउज़र का उपयोग करना बहुत आसान है, वेब सर्वर को कॉन्फ़िगर करना और Manage करना आसान है, और web content को विकसित करना आसान होता जा रहा है, Built-in software exceptional रूप से complex है।  यह complex सॉफ्टवेयर कई potential security flaws को छिपा सकता है।  
• वेब सर्वर को corporation या एजेंसी के कंप्यूटर परिसर में लॉन्चिंग पैड के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। एक बार वेब सर्वर के उलट जाने के बाद, एक Attacker डेटा और सिस्टम तक पहुंच प्राप्त करने में capable हो सकता है जो स्वयं वेब का हिस्सा नहीं है बल्कि local site पर सर्वर से जुड़ा है।

Web Security Threats in hindi:-

इन खतरों को grouped करने का एक तरीका inactive और active attacks के संदर्भ में है। passive attacks में ब्राउज़र और सर्वर के बीच नेटवर्क ट्रैफ़िक पर covertly करना और उस वेब साइट पर जानकारी तक पहुंच प्राप्त करना शामिल है जिसे Restricted माना जाता है। active attacks में किसी अन्य युजर का impersonation करना, क्लाइंट और सर्वर के बीच transit में messages को बदलना और वेब साइट पर जानकारी बदलना है।
web security threats को classified करने का एक अन्य तरीका है: वेब सर्वर, वेब ब्राउज़र, और ब्राउज़र और सर्वर के बीच नेटवर्क ट्रैफ़िक। सर्वर और ब्राउज़र सुरक्षा के issues computer system security में आते हैं।

Web Traffic Security Approaches in hindi:-

 web security प्रदान करने के लिए कई approach possible हैं।वे उनके द्वारा प्रदान की जाने वाली services में और कुछ हद तक, उनके द्वारा उपयोग किए जाने वाले system में समान हैं, लेकिन वे applicability के scope और TCP/IP protocol के भीतर उनके relative स्थान हैं।
web security प्रदान करने का एक तरीका IP Security (IPsec) का उपयोग करना है। IPsec का उपयोग करने का लाभ यह है कि यह यूजर्स और applications के लिए transparent है और एक general purpose solution प्रदान करता है। IPsec में एक filtering capacity शामिल है ताकि केवल selected traffic को IPsec processing के ऊपरी हिस्से की आवश्यकता हो।
एक अन्य relatively general-purpose solution TCP के ठीक ऊपर Security को लागू करना है। इस approach का सबसे प्रमुख उदाहरण सिक्योर सॉकेट लेयर (SSL) और follow-on internet standards है जिसे Transport Layer Security (TLS) के नाम में जाना जाता है। इस स्तर पर, दो implementation options हैं। SSL (या TLS) को underlying protocol suite के हिस्से के रूप में प्रदान किया जा सकता है और इसलिए applications के लिए transparent हो। SSL को विशिष्ट पैकेजों में एम्बेड किया जा सकता है।
Example :- 
नेटस्केप और माइक्रोसॉफ्ट एक्सप्लोरर ब्राउज़र SSL से Furnish हैं, और अधिकांश वेब सर्वरों ने प्रोटोकॉल लागू किया है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल