सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

object oriented database in hindi

 आज हम computers in hindi मे object oriented database in hindi- dbms in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

object oriented database in hindi:-

object oriented database इसमे रिलेशनल डाटा मॉडल की कमियों और सीमाओं पर काबू पाने के लिए Modifiers ने नए मॉडल का आविष्कार किया और जिसे ऑब्जेक्ट ओरियेंटेड डाटाबेस Target oriented database कहा गया है । यह Target oriented programming pattern पर आधारित है । OOM डाटाबेस सिस्टम को कम्प्यूटर एडेड डिजाईन ( CAD ) , कम्प्यूटर एडेड सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग ( CASE ) और ऑफिस इंफॉर्मेशन सिस्टम ( OIS ) तथा Hypertext data bases तथा अन्य एप्लीकेशन्स जैसे एप्लीकेशन्स की Wide range के प्रति हमे अनुकूल बना देता है । इसमे प्रोग्रामिंग के प्रति Target approach सबसे पहले लेंग्वेज Simula 67 में useकिया गया था । इसे Programming simulation के लिए डिजाईन किया गया था और जनरल एप्लीकेशन के लिए Smaltalk शुरूआती Object oriented programming languages में से थी । आज C ++ तथा Java , C # सर्वाधिक उपयोग में आने वाली Object oriented programming languages हैं ।
यह traditional database applications Banking और Payroll management जैसे Data processing task के बने होते हैं और ऐसे एप्लीकेशन्स के डाटा टाईप Conceptual form से बहुत आसान होते हैं । मूलभूत Data Item Records हैं , जो काफी छोटे हैं और उनके Fields atomic हैं और इसका अर्थ है कि इन्हें और आगे स्ट्रक्चर नहीं किया गया है और पहला नॉर्मल फॉर्म ही बना रहता है । यह हाल के वर्षों में अधिक जटिल डाटा टाईप से निपटने के तरीकों की मांग बढ़ी है । 

Examples object oriented database in hindi:-

object oriented database management system examples 1:- एड्रेसेस ही लें । जहाँ संपूर्ण एड्रेस को टाईप स्ट्रींग के Atomic data items के व्यू के रूप में लिया जा सकता है और वहीं यह व्यू स्ट्रीट एड्रेस , सिटी , स्टेट और पोस्टल कोड जैसे data को छिपा देगा , जो क्वेरीज के interest का हो सकता है । दूसरी तरफ यदि एड्रेस को छोटे कंपोनेंट्स स्ट्रीट एड्रेस , व सिटी , स्टेट और पोस्टल कोड में तोड़कर display किया जाए , तो क्वेरी लिखना बहुत जटिल हो जाएगा , क्योंकि उसमें प्रत्येक फील्ड का उल्लेख करना होगा । इसका Basic options स्ट्रक्चर्ड डाटा टाईप की अनुमति देना है और जो एक टाईप एड्रेस की अनुमति देता है , जिसमें स्ट्रीट एड्रेस , सिटी , स्टेट और पोस्टल कोड के उपभाग भी होते हैं । 
object oriented database management system examples 2:- E - R मॉडल में से Multivalued attribute पर विचार करें । ऐसे attributes फोन नंबर पर Feedback जैसे उदाहरणों के लिए Natural है , क्योंकि लोगों के एक से अधिक फोन नंबर होते हैं और नया रिलेशन निर्मित करके Normalization (in hindi) का विकल्प इस उदाहरण के लिए महंगा और कृत्रिम होता है।
object oriented database management system examples 3:- इलेक्ट्रॉनिक सर्किट के लिए कम्प्यूटर एडेड डिजाईन डाटाबेस का विचार करें और एक सर्किट विभिन्न प्रकार के कई Ports का उपयोग करता है । इन Ports को अन्य Ports को रेफर करना पड़ता है , जिनसे ये जुड़े होते हैं । एक ही टाईप के सारे Ports के गुण समान होते हैं और यदि हम डिजाईन के प्रत्येक पार्ट को Port टाईप के इंसटंस के रूप में व्यू कर सकें और प्रत्येक इंसटंस को यूनिक Identifier दें , तो डाटाबेस में सर्किट की मॉडलिंग अधिक आसान होगी । इसमे सर्किट के Ports फिर अन्य Ports को उनके unick Identifier के द्वारा रेफर भी कर सकते हैं ।
यदि कोई इंजीनियर संपूर्ण सर्किट की बिजली की खपत का पता लगाना चाहता है , तो इसे करने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि प्रत्येक Ports को एक ऐसे ऑब्जेक्ट के रूप में view करें , जो फंक्शन powerusage ( ) उपलब्ध करा रहा है , जो यह बताता है कि Port कितनी बिजली का उपयोग कर रहा है और वह फंक्शन जो Overall power usage की गणना करता है , हमे उसे Port के Internals के बारे में कुछ जानने की आवश्यकता नहीं है , इसे सिर्फ प्रत्येक पॉर्ट पर powerusage ( ) Invoke करने और Results को जोड़ने की आवश्यकता होती है ।





टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag