सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

array in c in hindi

आज हम C language tutorial in hindi मे हम Array in c language in hindi के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

array in c in hindi :-

एक समान डाटा आइटम का एक समूह जिसका एक ही नाम हो , Array ( ऐरे ) कहलाता है । 
ऐरे एक वेरियेबल के समान constants की मेमोरी में स्थिति का नाम होता है जहाँ एक समान टाइप के constants store होते हैं । 
ऐसा ऐरे जिसमें एक ही सबस्क्रिप्ट का प्रयोग होता है एकविमीय ( One - dimensional ) ऐरे कहलाता है । जबकि ऐसा ऐरे जिसमें दो सबस्क्रिप्ट का प्रयोग किया जाता है द्विविमीय ऐरे ( Two - dimensional Array ) कहलाता है । 

• एकविमीय ऐरे ( One - dimensional Arrays):-

 ऐसा ऐरे जिसमें ऐरे एलीमेन्ट की संख्या को define करने के लिये एक Subscript का प्रयोग किया जाये , एकविमीय ऐरे ( One - dimensional Array ) कहलाता है । 
C प्रोग्राम में ऐरे को वेरियेबल के समान उपयोग करने से pre-Declare करना आवश्यक होता है । इसे Declare करने के लिये इसका टाइप और Element की संख्या Subscript से define की जाती है । Subscript को बड़े कोष्ठक में लिखते हैं । 
Syntax:-
<type> <array name> <element key>
<type> :- ऐरे में किये जाने वाले constants का टाइप है जो int , float , double अथवा char टाइप का हो सकता है । 
<array name> :- A से Z अथवा a से z तक के करेक्टर 0-9 तक अंक और अंडरस्कोर Underscore ) से बना ऐरे का नाम है ।
 <element key> :- सबस्क्रिप्ट है जो ऐरे का आकार है और इसमें store constants की संख्या को define करता है ।
Example:- int marks [ 30 ] ;

( 1 ) Accessing Elements of Array :-

ऐरे Declare करने के बाद इसके प्रत्येक एलीमेन्ट को प्राप्त किया जा सकता है । इसके लिए सबस्क्रिप्ट [ ] का प्रयोग किया जाता है । ऐरे नेम के सभी Elements ) को एक निश्चित संख्या दी . जाती है जो 0 से प्रारम्भ होती है । 

( 2 ) Inputting Data into Array :- 

Note - char ऐरे के प्रत्येक एलीमेन्ट में हम कोई स्ट्रिंग store नहीं कर सकते हैं क्योंकि प्रत्येक ऐरे एलीमेन्ट मेमोरी में एक बाईट को define करता है और एक करेक्टर एक बाईट आकार का होता है ।

( 3 ) Assigning Constants Into Array:-

 ऐरे एलीमेन्ट में हम कोई मान ( स्थिरांक ) एसाइन कर सकते हैं । ऐरे एलीमेन्टों में कोई मान ( स्थिरांक ) हम दो स्थानों पर कर सकते हैं । ऐरे Declare करते समय और ऐरे Declare करने के बाद ।

• Two - dimensional Array:-

जिसमें Values की सूची store की जा सके । कभी - कभी हमें कोई सारणों के मानों को मेमोरी में संग्रहीत करना पड़ता है ।

(1) While assigning a constant to a two-dimensional array:-

द्वि - विमीय ऐरे की Declaration के समय format से कोई Constant ऐसाइन किया जाता है ।
< type > < array name > [ total number of rows ] [ total number of columns ]
 = { constants -1 , constants -2 , constants 3 , ... }

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag