सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

types of file organization in hindi (File organization in dbms in hindi)

आज हम computers in hindi मे  types of file organization in hindi (file organization in dbms in hindi) - dbms in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

types of file organization in hindi (File organization in dbms in hindi):-

जैसा कि हम पहले ही पढ चुके हैं कि types of file organization in hindi (file organization in dbms in hindi) को किस प्रकार display करते हैं । इसके बाद next step यह है कि इन्हें फाइल में किस प्रकार से Organization किया जाये।

1. Heap file Organization in dbms: - 

किसी भी records को फाइल में कहीं भी space खाली होने पर Established किया जा सकता है । इसमें records को किसी भी क्रम में Established किया जा सकता है । इसमें प्रत्येक relation के लिये एक single file होती है । 

2. Sequential File Organization in dbms :-

 इसमें records को एक Sort ways से स्टोर किया जाता है । इन्हें प्रत्येक रिकॉर्ड को search के अनुसार स्टोर करते हैं । 

3. Hashing File Organization in dbms:- 

Hash function को प्रत्येक records के कुछ Attribute पर Calculate किया जाता है । Hash function का Result set किये गये record की फाइल का उपयोग किया जाता है । फिर भी , Clustering file में स्टोर किये जाते हैं । इसके अतिरिक्त Different Relation के Related records एक ही ब्लॉक पर स्टोर किये जाते हैं । इसलिये एक 1 / Q operation सभी relation से Related record को लाता है।

Sequential file Organization (file organization in dbms in hindi) :-

एक Sequential file को Search Key पर Records based की Excellent processing के लिये design किया जाता है । search-key , कोई भी Attribute का set हो सकती है । इसे Primary - Key या super-key की आवश्यकता नहीं होती है । किसीsearch की में records के पुनः प्राप्ति को लागू करने के लिये हमें pointers द्वाराrecords को जोडने की आवश्यकता होती है । प्रत्येक रिकॉर्ड का pointer search की order में अगले रिकॉर्ड को display करता है । इसके Additional Sequential File Processing में access किये जाने वाले ब्लॉक्स की संख्या को कम करने के लिये रिकॉर्ड्स को सर्च की order में Physically store करने की आवश्यकता होती है । 
Example:- सर्च की order में record को स्टोर किया गया है और Branch Name का उपयोग सर्च की की तरह किया गया है ।
heap file organization in dbms
Sequential file organizations , records को Sorted order में पढ़ने के लिये Permission देते हैं जो display objective के लिये usefull हो सकता है । यद्यपि Sequential order को Organized करना कठिन है क्योंकि records को  insert और delete किया जाता है । Deletion को pointer chain की सहायता से Organized किया जाता है । 
Insertion के लिये कुछ rules को Follow किया जा सकता है -
1. उस record को Locket करना जो search-key order में insert किये जाने वाले रिकॉर्ड से पहले आता है। 2. यदि यहाँ एक जैसे block में free record हैं जो वहाँ नये records को insert किया जाता है ।

Clustering File Organization(file organization in dbms in hindi) :- 

अधिकतर रिलेशनल डाटाबेस सिस्टम , प्रत्येक रिलेशन को एक विभाजित फाइल में स्टोर करते हैं । अत : ये ऑपरेटिंग सिस्टम द्वारा प्रदान किये जाने वाले फाइल सिस्टम का पूरा ली । उछाते हैं । सामान्यतः Relationship Taps Fixed - Length Records की तरह प्रदर्शित किये जा सकते हैं । अत : रिलेशन्स को एक सरल फाइल स्ट्रक्चर के लिये मैप किया जा सकता है । रिलेशनल डाटाबेस सिस्टम का यह सरल Implementation कम कॉस्ट वाले डाटाबेस Implementation के लिये उपयुक्त होता है । इस प्रकार के सिस्टम में डाटाबेस का आकार काफी छोटा होता है । इसके अतिरिक्त इस प्रकार की स्थिति के लिये यह आवश्यक है कि डाटाबेस सिस्टम के लिये ऑब्जेक्ट कोड का साइज छोटा हो । एक सरल File structure system को Executed करने के लिये कोड की संख्या में कमी करता हैै।
relation database implementation की यह सरल approach डाटाबेस का साइज बढ़ने की स्थिति मे होती है । स्पष्ट है कि एक Complex file structure लाभदायक हो सकता है परन्तु तभी जब प्रत्येक रिलेशन को एक विभाजित फाइल में स्टोर करने के लिये Strategy को रखा गया हो । फिर भी कई सारे Large-Scale Database System पर कार्य नहीं करते हैं । इसके स्थान पर एक लार्ज ऑपरेटिंग सिस्टम फाइल डाटाबेस सिस्टम को एलोकेट की जाती है । डाटाबेस सिस्टम  इन सभीरिलेशन को एक फाइल में स्टोर कर देता है और स्वयं ही इन फाइल्स को Organized करता है । Clustering file organization , एक फाइल में Organization records को read में सहायता करता है जो Block reading के द्वारा Join condition को पूरा करता है।






टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना