सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

Visible Surface detection in hindi

pointer in c in hindi

आज हम C language tutorial in hindi मे हम pointer in c in hindi के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- 

pointer in c in hindi :-

डाटा का organized करने के लिए pointer एक flexible और useful resource है । pointer के theory को समझने के लिए कम्प्यूटर की  memory organization का ज्ञान आवश्यक होता है । जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है पॉइंटर डाटा और फंक्शन को point करने का साधन होता है । अब तक बिना pointer के प्रयोग के की गई प्रोग्रामिंग में वेरियेबल का role था । लेकिन यदि इस वेरियेबल की मेमोरी में event को ज्ञात करके प्रक्रिया की जाये तो अनेक लाभ होते हैं जैसे प्रोग्राम के implementation की गति तीव्र होना , मेमोरी में स्थान की बचत आदि ।

Operator : Address of Variable in Memory:-

 प्रोग्रामिंग में वेरियेबल एक महत्त्वपूर्ण role हैं , डाटा और सूचना को organized करने के लिए वेरियेबल ही प्रयोग में लाये जाते हैं । ऑपरेटर का प्रयोग किसी वेरियेबल का मेमोरी में स्थान बताने के लिए किया जाता है । वेरियेबल को प्रोग्राम में declared किया जाता है तो C भाषा कम्पाइलर इस वेरियेबल को मेमोरी में स्थान allotted करता है । मेमोरी में वेरियेबल हेतु allotted इस स्थान को वेरियेबल के नाम से define किया जाता है।

pointer in c in hindi :-

किसी वेरिटेबल में यदि मेमोरी का address store किया जाये तो यह विशेष वेरियेबल पॉइंटर निकलता है । पॉइंटर Variable ऐसा Variable है जिनमें अन्य किसी वेरियेबल का address store रहता है ।

Dynamic Allocation Operation:-

Dynamic Variable वे वेरियेबल होते है जिनको मेमोरी में स्थान का allotment प्रोग्राम में आवश्यकता होने पर immediate होता है । Dynamic variables के नाम नहीं होते हैं , वे केवल पॉइंटरों के द्वारा ही define किये जाते हैं।

important points :-

  • जब किसी वेरियेबल को प्रोग्राम में declared किया जाता है तो C भाषा का कम्पाइलर एक वेरियेबल को मेमोरी स्थान allotment करता है । 
  • कम्पाइलर द्वारा वेरियेबल के लिये मेमोरी में physical condition allotment होती है । इसे address कहते है। 
  • * ऑपरेटर , एक Value at address ऑपरेटर है । 
  • * ऑपरेटर किसी वेरियेबल के address को store करने के लिये used किया जाता है । 
  • पॉइंटर एक विशेष वेरियेबल है जिसे ऑपरेटर के साथ declared किया जाता है । 
  • यदि एक पॉइंटर किसी float टाइप वेरियेबल को pointed करता है तो इस पॉइंटर द्वारा pointed अगले address का मान 4 bytes अधिक होगा । 
  • Dynamic variable व वेरियेबल होते हैं जिनको मेमोरी में स्थान का allotment प्रोग्राम में आवश्यकता न होने पर temporary form से होता है । 
  • गतिक वेरियेबल केवल पॉइंटरों के द्वारा ही define किये जाते है । 
  • Delete ऑपरेटर एक Dynamic variable को समाप्त करता है । पॉइंटर और Adaptation में बहुत निकट सम्बन्ध है । 
  • एक फंक्शन पॉइंटर भी return कर सकता है । 
  • Alias का अर्थ है , वेरियेबल का एक अलग नाम एक Alias तैयार करने के लिये address ऑपरेटर & का उपयोग किया जाता है ।
  • एक फंक्शन reference भी return कर सकता है ।
  • अन्य पॉइंटरों के समान हम structure के पॉइंटर भी तैयार कर सकते है ।
  • फंक्शन में Argument के रूप में ऑब्जेक्ट को pass किया जा सकता है ।
  • • Introduction of C language in hindi (सी लैंग्वेज क्या है )
more then you click.....

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

foxpro commands in hindi

आज हम computers in hindi मे  foxpro commands  क्या होता है उसके कार्य के बारे मे जानेगे?   foxpro all commands in hindi  में  तो चलिए शुरु करते हैं-   foxpro commands in hindi:-  (1) Clear command in foxpro in hindi:-  इस  command  का प्रयोग  foxpro  की main स्क्रीन ( जहां रिकॉर्ड्स / Output प्रदर्शित होते हैं ) को Clear करने के लिए किया जाता है ।  (2) Modify Structure in foxpro in hindi :-  इस  command  का प्रयोग वर्तमान प्रयुक्त  डेटाबेस  फाईल के स्ट्रक्चर में आवश्यक परिवर्तन करने के लिए किया जाता है । इसके द्वारा नये फील्ड भी जोड़े जा सकते हैं तथा पुराने फील्ड्स को हटाया व उनके साईज़ में भी परिवर्तन किया जा सकता है ।  (3) Rename in foxpro in hindi :-  इस  command  के द्वारा किसी  database  file का नाम बदला जा सकता है जिस फाईल को Rename करना हो वह मैमोरी में खुली नहीं होनी चाहिए ।   Syntax : Rename < Old filename > to < New filename >  Foxpro example: -  Rename Student.dbf to St.dbf (4) Copy file in foxpro in hindi :- इस command के द्वारा किसी एक डेटाबेस फाईल के रिकॉ