सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

What is Magnetic Tape in hindi

computer glossary - कम्प्यूटर शब्दावली "C"

  आज हम computer in hindi मे आज हम computer glossary in hindi (कम्प्यूटर शब्दावली) के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

computer glossary in hindi (कम्प्यूटर शब्दावली) "C" :-

• Concurrent Program Execution:-

दो या दो से अधिक  प्रोग्राम को एक साथ edited करना ।

• Codition Stub:-

 Decision table के चार भागों का एक भाग

• Consecutive:-

 दो घटनाओं का बिना किसी अन्य घटना की Obstacle के क्रम से घटित होना । 

• Cont:-

 BASIC का एक Instructions जो रुके हुए  प्रोग्राम को शुरू करने में प्रयोग होता है । 

• Contigency Plan :-

कम्प्यूटर सूचना प्रणाली को प्राप्त करने के लिए बनायी गयी योजना 

• Conned Routine:-

 किसी विशिष्ट कम्प्यूटर पर प्रयोग के लिए पहले से लिखित कोई प्रोग्राम । 

• Conditional Jump Instruction:-

 किसी predetermined condition के कारण एक कार्य को छोड़ दूसरा कार्य करने वाले आदेश

• Conditional Statement :-

किसी शर्त को पूरा कर अपना कार्य करने वाले आदेश

• Configure :-

हार्डवेयर और साफ्टवेयर के बीच coordinate करने की क्रिया 

• Connect Time:-

 व्यक्ति के इंटरनेट से जुड़े रहने के समय को कनेक्ट टाइम कहते हैं । 

• Connecting Cable:-

 दो कम्प्यूटरों को आपस में जोड़ने वाली केबल ।

• Connector :-

दो या दो से अधिक वस्तुओं को आपस में जोड़ने वाली डिवाइस 

• Connector Symbols:-

 फ्लोचार्ट बनाते समय दो बाक्सों को जोड़ने वाला प्रतीक या चिह्न 

• Console:-

 कम्प्यूटर में प्रयुक्त मॉनीटर Console कहलाता है ।

• Console Operator :-

कम्प्यूटर आपरेटर को Console Operator भी कहा जाता है । 

• Constant:-

 प्रत्येक अवस्था में स्थिर रहने वाली प्रोग्राम में प्रयुक्त होने वाली वैल्यू

• Contention :-

कम्युनिकेशन में बहुत से प्वाइन्ट्स का एक दूसरे से जुड़ना Contention कहलाता है । 

• Contrast :-

कम्प्यूटर में एक विपरीत स्थिति ।
 -:computer glossary (कम्प्यूटर शब्दावली):-

• Convert:-

बदलने की प्रक्रिया Convert कहलाती है । 

• Converter :-

 डेटा परिवर्तन करने वाले उपकरण को Converter कहते हैं । 

• Cook Book:-

 किसी सॉफ्टवेयर को चलाने के serial details वाली पुस्तक 

• Cookie :-

इंटरनेट प्रयोगकर्ता के कम्प्यूटर में स्टोर कर दिया जाने वाला Small amount वाला डेटा ।

• Co - ordinate Indexing:-

 दो फील्डों पर की जाने वाली इन्डेक्सिंग जिनमें आपसी संबंध होता है । 

• Copy Protection:-

 डेटा स्टोरेज माध्यम को लेखनमुक्त रखना Copy Protection कहलाता है । 

• Core Storage:-

 मेग्नेटिक तत्व प्रयोग किये जाने वाले स्टोरेज माध्यम

• Coral :-

Real - time के लिए बनायी गयी उच्च स्तर की प्रोग्रामिंग भाषा 

• Coral Draw :-

DTP में प्रयोग किया जाने वाला एक सॉफ्टवेयर जिसमें डिजाइन तैयार किये जाते हैं ।

• Corrective Maintenance :-

खोजने एवं दूर करने का कार्य । 

• Corner Cut :-

एक जैसे कार्डों की पहचान करने के लिए पंच कार्डों का कटा हुआ ऊपर का हिस्सा

• Co - routine:-

 इनपुट को आउटपुट में परिवर्तित करने वाले आदेश । 

• Co SN:-

 इंटरनेट पर मुफ्त में सेवाएं प्रदान करने वाला सामूहिक प्रोफेशनलों का समूह 

• Cost Anlysis :-

कम्प्यूटर द्वारा किसी उत्पाद की कीमत का Analysis ।

• Costing :-

किसी उत्पाद का मूल्य कम्प्यूटर द्वारा तय करना ।

• Coulomb:-

 विद्युत आवेश की इकाई ( SI ) का आधार । 

• Counter Clockwise:-

 दायें से बायें की ओर बढ़ना ।

• Count :-

डेटाबेस के अंदर के रिकार्डों की गिनती कम्प्यूटर द्वारा करना Count कहलाती है ।
-:computer glossary (कम्प्यूटर शब्दावली):-

• Courseware:-

कम्प्यूटर प्रोग्राम को दिया गया नाम

• CPI :-

एक इंच Space में आने वाले अक्षरों की संख्या  

• CPS :-

एक सेकण्ड में स्थानान्तरित होने वाले अक्षर

• Cracker :-

इंटरनेट की सुरक्षा व्यवस्था को criminal law से तोड़ने का प्रयास करने वाला व्यक्ति Cracker कहलाता है ।

• Crash:-

 हार्डवेयर या सॉफ्टवेयर की गलती के कारण अचानक कम्प्यूटर के बंद हो जाने की स्थिति 

• Cray :-

सुपर कम्प्यूटर को बनाने वाली कम्पनी का नाम Cray है ।

• Creat :-

डीबेस में यह एक कमांड होता है , जिससे डिस्क पर किसी फाइल का निर्माण होता है । 

• Crop:-

 कम्प्यूटर ग्राफिक्स में से किसी चित्र का कुछ हिस्सा काटना

• Cross - compiler :-

ऐसा प्रोग्राम जो उच्च स्तर की भाषा को मशीन की भाषा में बदलता है । 

• Cross - Check:-

 दो अलग - अलग विधियों द्वारा किसी प्रोग्राम को जांचना

• Crosshatching :-

आकृति के थोड़े से भाग को ग्राफिक्स में शेड करना

• Crowbar :-

कम्प्यूटर को विद्युत के खतरों से बचाने वाला सर्किट , Crowbar कहलाता है ।

• Crystal :-

एक निश्चित आकृति पर ऊर्जा प्रवाहित करने वाला वैरिएबल

• Current :-

इलेक्टानों का किसी वस्तु में होने वाला प्रवाह

• Current Page :-

पेज व्यू के अंतर्गत दिखाई दे रहे पेज को करेंट पेज कहा जाता है । 

• Current Web:-

 तुरन्त खुली हुई वेब को करेंट वेब कहते हैं । 

• Cursor :-

मॉनीटर पर दिखने वाला एक चमकदार प्वाईंट जो मॉनीटर पर दिखाई देता है और जहां से मॉनीटर पर लिखना शुरू करते हैं।
-:computer glossary (कम्प्यूटर शब्दावली):-

• Cursor Control:-

मॉनीटर पर कर्सर को नियंत्रित करने की क्रिया । 

• Cursor Control Key:-

 कर्सर को मॉनीटर पर चारों ओर घुमाने में प्रयोग की जाने वाली की बोर्ड की कीज 

• Cursor Tracking :-

मॉनीटर पर कर्सर का इधर - उधर घूमना 

• Custom Dictionary :-

शब्दों का एक ऐसा समूह जिसे स्पेलिंग चैक करते समय प्रयोगकर्ता ने स्वयं ही बनाया हो । 

• Custom IC :-

किसी विशेष उद्देश्य के लिए निर्मित किये गए इन्टिग्रेटिंग सर्किट 

• Custom Software :-

ऐसे प्रोग्राम जिनका निर्माण किसी विशेष उद्देश्य के लिए किया जाता है । 

• Cut :-

मॉनीटर पर शो हो रहे टेक्स्ट या ग्राफिक्स को काटकर क्लिपबोर्ड में कॉपी करने की क्रिया Cut कहलाती है ।

• Cut - and - paste :-

मॉनीटर पर शो हो रहे टेक्स्ट या ग्राफिक्स को एक स्थान से काटकर दूसरे स्थान पर Copy करने की क्रिया कट एण्ड - पेस्ट कहलाती है ।

• Cut - sheet - feeder :-

प्रिंटर में एक - एक कागज फीड करने वाली डिवाइस

• Cyan:-

 नीले रंग को कम्प्यूटर में स्थान कहते हैं ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल