सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

Featured Post

Register transfer in hindi

हाल की पोस्ट

features of modern programming languages

आज हम  computer in hindi  मे आज हम  features of modern programming languages - Software Engineering concepts in hindi  के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- Introduction of modern programming language features:- programming languages सॉफ्टवेयर products को लागू करने के लिए उपयोग की जाने वाली notational mechanism हैं। implementation language में उपलब्ध Properties सॉफ्टवेयर का architectural structure और algorithm description पर एक strong influence डालती हैं। एक  lisp-based सॉफ़्टवेयर product naturally से सूची data structures और recursive functions का उपयोग करके design और implemented किया जाएगा, जबकि एक Fortran-based product arrays, iterators, common block का उपयोग करेगा। आधुनिक प्रोग्रामिंग भाषाएं सॉफ्टवेयर उत्पादों के विकास और रखरखाव का समर्थन करने के लिए कई प्रकार की सुविधाएँ प्रदान करती हैं। इन विशेषताओं में मजबूत प्रकार की जाँच, Separate compilation, User-defined data types, Data encapsulation, Data abstraction, Generics, Flexible scope rules, User-defined exc

implementation issues

आज हम  computer in hindi  मे आज हम  Implementation issues - Software Engineering concepts in hindi  के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- Introduction implementation issues :- software development का Implementation Phase Design Specifications को source code में translation करने से संबंधित है। implementation का प्राथमिक लक्ष्य source code और आंतरिक दस्तावेज लिखना है ताकि कोड के specifications के according आसानी से verified किया जा सके, और ताकि डिबगिंग, परीक्षण और amendment को आसान बनाया जा सके। source code को clear possible और सीधा बनाकर इस लक्ष्य को प्राप्त किया जा सकता है। simplicity, clarity और elegance अच्छे कार्यक्रमों की पहचान है; obscurity, cleverness और complexity insufficient design और गलत दिशा में सोच के संकेत हैंं । source-code clarity को structured coding techniques द्वारा, अच्छी coding style द्वारा, उपयुक्त सहायक documents द्वारा, अच्छी internal comments द्वारा और modern programming languages में प्रदान की गई सुविधाओं द्वारा बढ़ाया जाता है। इस में,

basic parts of ms excel

  आज हम  computer in hindi  मे basic parts of ms excel   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- basic parts of ms excel:- 1. Title Bar :- MS - Excel Application Window की सबसे ऊपर वाली पट्टी Title Bar कहलाती है । इस पर Microsoft Excel लिखा होता है । इसके साथ ही इस पर खुली हुई वर्कबुक का नाम ( Book 1 ) भी लिखा होता है । चूँकि फाइल के नाम के साथ इसका Extension ( .XLS ) दिखाई नहीं दे रहा है । इसका अर्थ है कि हमने अभी तक इसे Save नहीं किया है । इस पर सबसे पहले दायीं तरफ एक बॉक्स होता है जिसे Control Box कहते हैं , जो Application Window के कुछ Function देता है । इस बार पर सबसे अन्त में - + के चिन्ह होते हैं जो क्रमश : विण्डो को न्यूनतम करने , अधिकतम करने तथा बन्द करने के लिए होते हैं । List Of More Then 250+ Computer Shortcut Keys in Hindi 2. Menu Bar :- Title Bar के ठीक नीचे मेन्यू बार होता है । इस बार में 9 Menu होते हैं , जैसे- File , Edit , View , Format तथा Help आदि । प्रत्येक मेन्यू में एक अक्षर के नीचे अण्डरलाइन होती है जिस

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

macro in ms excel in hindi

आज हम computer in hindi  मे  macro in ms excel in hindi - Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- macro in ms excel in hindi:- Macro in ms excel यह Excel में दी गई एक सुविधा है , जिसकी सहायता से Excel के कुछ commands को मिलाकर छोटा - सा macro बनाकर रख सकते हैं , ताकि जब कभी वे सभी कार्य पुनः करने हों तो सिर्फ  macro  का नाम देकर वे सभी कार्य किये जा सकते हैं । Creating a Macro in excel in hindi( मेक्रो बनाना ):- सबसे पहले Tools Menu का Macro Command select करें । यह हमें 5 option वाला एक Sub Menu प्रदान करेगा जिसमें से Record New Macro बटन पर click करेंगे ।फिर एक Dialog box display होगा। इस Dialog Box में हमें सबसे पहले Macro का नाम देना होगा । उसके बाद shortcut key बतानी होगी । जिसका उपयोग करने से ही मेक्रो चालू हो जायेगा । Shortcut key को create करने के लिए shift या बिना shift कुंजियों के साथ किसी भी Alphabet कुँजी का उपयोग किया जा सकता है । Ctrl कुँजी इसके द्वारा अपनी तरफ से लगा दी जाती है अर्थात् यदि हमने ' K'key का उपयोग क

planning a software project in hindi

आज हम computer in hindi मे आज हम planning a software project in hindi - Software Engineering concepts in hindi के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- planning a software project in hindi:- planning a software project में योजना की कमी schedule की कमी, लागत में वृद्धि, खराब गुणवत्ता और सॉफ्टवेयर के लिए उच्च रखरखाव लागत का एक प्राथमिक कारण है। इन समस्याओं से बचने के लिए development process और work products दोनों के लिए सावधानीपूर्वक योजना बनाने की आवश्यकता है। यह अक्सर कहा जाता है कि प्रारंभिक योजना असंभव है क्योंकि परियोजना के लक्ष्यों, ग्राहकों की जरूरतों और product constraints से संबंधित सटीक जानकारी एक  सॉफ्टवेयर  परियोजना की शुरुआत में उपलब्ध नहीं है, लेकिन planning stage का एक प्रमुख objective goals को स्पष्ट करना है, जरूरतें, और बाधाएं। planning की कठिनाई को इस सबसे महत्वपूर्ण activity को discouraged नहीं करना चाहिए। एक  सॉफ्टवेयर  उत्पाद ढंग से समझा जाता है क्योंकि यह analysis, design और implementation के माध्यम से आगे बढ़ता है; हालांकि, एक  सॉफ्टवेय