सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

computer question in hindi

active server pages in hindi

 आज हम computers in hindi मे active server pages in hindi और events and responses - Internet tools in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- 

ASP in hindi:-

Full form of ASP:- active server pages
माइक्रोसॉफ्ट द्वारा विकसित की गई एक टेक्नोलॉजी है जिसका प्रयोग डायनमिक वेब एप्लीकेशन्स बनाने के लिए किया जाता है । यह एक सर्वर साइड स्क्रिप्टिंग लैंग्वेज है । ASP वेब पेज की फाइल का एक्टेंशन .asp होता है । एक ASP पेज HTML तथा स्क्रिप्ट से मिलकर बनता है । ASP पेज में स्क्रिप्ट लिखने के लिए किसी न किसी स्क्रिप्टिंग लैंग्वेज का प्रयोग किया जाता है । साधारणतः इसके लिए VB स्क्रिप्ट या जावा स्क्रिप्ट का प्रयोग किया जाता है । 
क्लाइंट ( ब्राउज़र ) पर आउटपुट भेजने के लिए सर्वर पर स्थित प्रोग्राम में Response ऑब्जेक्ट का प्रयोग किया जाता है । 
Active server pages Extension:- .asp

Response objects Method in active server pages hindi:-

AppendToLog :-

इस मैथड का प्रयोग सर्वर लॉग एंट्री के अंत में किसी स्ट्रिंग को जोड़ने के लिए किया जाता है । सर्वर लॉग एंट्री सर्वर लॉग फाइल में की जाती है । सर्वर लॉग फाइल ऐसी लॉग फाइल होती है जिसमें सर्वर पर हो चुके विभिन्न कार्यों की जानकारी होती है । 
AppendToLog of Syntax : 
Response . AppendToLog < string > 
Append to log Example : 
< $ Response . AppendToLog " My Log " % >

Clear:-

इस मैथड का प्रयोग HTML आउटपुट को बफर ( अस्थाई मैमोरी ) से मिटाने के लिए किया जाता है । यह मैथड तभी कार्य करता है जब इस ऑब्जेक्ट की Buffer प्रॉपर्टी को true सेट किया गया हो अन्यथा यह एरर जनरेट कर देता है।
Clear of Syntax : 
Response.clear 
Example of clear : 
<%
      response . Buffer = true
%>

< html >  
        < body > 
              < p > This is a demo < / p > 
<%
      response.clear 
%>
< / body > 
< / html >
 इस पेज को run करने पर This is a demo आउटपुट के रूप में प्राप्त होना चाहिए , किन्तु चूंकि response.Clear बफर में स्टोर मैसेज को मिटा देगा , अतः वास्तव में कोई आउटपुट प्रदर्शित नहीं होगा । 

End :-

इस मैथड का प्रयोग स्क्रिप्ट के Execution को रोकने के लिए किया जाता है । इससे प्रोग्राम में आगे की स्क्रिप्ट रन नहीं होती है । Execution को रोक देने पर यह करंट आउटपुट को क्लाइंट ( ब्राउजर ) पर भेज देता है । 
Syntax of End :-
Response . End
Example of End:-
< html > 
< body > 
        < p > Hello ! 
        < %
              Response . End 
        %>
        This is a demo of End method < / p > 
< / body > 
< / html >
Output:-
Hello!
इस पेज को run करने पर Hello ! ही प्रिंट होगा , क्योंकि Response.End के कारण से उसके बाद वाली लाइन रन ही नहीं हो पाएगी । 

Flush :-

इस मैथड का प्रयोग बफर किए हुए आउटपुट को तुरन्त ब्राउजर पर भेजने के लिए किया जाता है । यह मैथड भी तभी कार्य करता है जब इस ऑब्जेक्ट की Buffer प्रॉपर्टी को true सेट किया गया हो अन्यथा यह एरर उत्पन्न कर देता है । Syntax of Flush: 
         Response . Flush

Redirect :-

इस मैथड का प्रयोग किसी अन्य वेब पेज ( URL ) पर जाने के लिए किया जाता है । 
Syntax of Redirect : 
      Response . Redirect < URL > 
Example of Redirect : 
< html >
< body > 
       <%
             Response.Redirect "https://www.facebook.com/ImperialTutoris" 
        %>
< / body > 
< / html >
जब इस पेज को ओपन किया जाएगा तो Redirection के कारण से स्वतः https://www.facebook.com/ImperialTutorials पेज ओपन हो जाएगा । 

Write :-

इस मैथड का प्रयोग किसी स्ट्रिंग को आउटपुट के रुप में display के लिए ' किया जाता है । 
Syntax of write: 
       Response.Write < string >
 Example of write : 
< html > 
< body > 
        <%
             Response.Write " Hello world ! "
         % > 
< / body > 
< / html >
Output:
       Hello World!

 main properties of the Response object:-

Buffer:-

इस properties का प्रयोग यह सेट करने के लिए किया जाता है कि बफरिंग की जानी है अथवा नहीं । बफरिंग के ऑन होने पर चूंकि डेटा सर्वर पर स्टोर होकर एक साथ क्लाइंट पर भेजा जाता है , इससे नेटवर्क पर ट्रेफिक में कमी आती है । 
Syntax of buffer: 
       Response . Buffer = < true / false >

CacheControl :-

इस प्रॉपर्टी द्वारा यह निर्धारित किया जा सकता है कि ASP पेज द्वारा जनरेटेड आउटपुट को प्रॉक्सी सर्वर द्वारा कैष किया जाएगा अथवा नहीं । सामान्यतः कैपिंग को उस स्थिति में ऑफ किया जा सकता है जब सर्वर से क्लाइंट को हमेशा अलग तरह का पेज / डेटा भेजने की आवश्यकता हो । Response.cachecontrol = " Public / Private " 
Public :- कैपिंग को ऑन करने के लिए
Private :-कैपिंग को ऑफ करने के लिए ( डिफॉल्ट वैल्यू ) 

ContentType :-

इस प्रॉपर्टी द्वारा ब्राउजर पर भेजे जाने वाले कॉन्टेंट के टाईप को सेट किया जा सकता है जिससे कि ब्राउजर , पेज के डेटा को बेहतर ढंग से हैंण्डल कर सके । 
Example of content type:-
इस प्रॉपर्टी द्वारा हम कॉन्टेंट का टाईप टैक्स्ट तथा इमेज आदि सेट कर सकते हैं । 
Syntax of content type: 
       Response.ContentType [ = contenttype ] 

Expires :-

इस प्रॉपर्टी द्वारा यह निर्धारित किया जाता है कि पेज कितने मिनट बाद expire होगा । 
Syntax of expires: 
Response . Expires ( = number ]

ExpiresAbsolute:-

किसी निश्चित डेट तथा टाइम पर कैष किए गए पेज को expire करने के लिए इस प्रॉपर्टी का प्रयोग किया जाता है।
 Syntax of expires absolute : 
        Response . ExpiresAbsolute [ = [ date ] [ time ] ] 
Example of expires absolute: 
< Response . ExpiresAbsolute = # June 15:00:00 # % >
Cookie :-
Cookie ऐसी टैक्स्ट फाइल होती है , जिसे  सर्वर द्वारा क्लाइंट पर बनाया जाता है । सामान्यतः Cookie इसलिए बनाई जाती है , ताकि  सर्वर पर क्लाइंट के name कम्प्यूटर पर उस क्लाइंट से  Releted जानकारी को स्टोर करके रख सके ।  
 Response . Cookies ( name ) [ .attribute ] = value
attribute:- Cookie से संबंधित सूचनाएं बताने के लिए है जैसे उसकी expiry date आदि सेट करने के लिए , 
value :-कुकी में स्टोर की जाने वाली सूचना है ।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल

foxpro commands in hindi

आज हम computers in hindi मे  foxpro commands  क्या होता है उसके कार्य के बारे मे जानेगे?   foxpro all commands in hindi  में  तो चलिए शुरु करते हैं-   foxpro commands in hindi:-  (1) Clear command in foxpro in hindi:-  इस  command  का प्रयोग  foxpro  की main स्क्रीन ( जहां रिकॉर्ड्स / Output प्रदर्शित होते हैं ) को Clear करने के लिए किया जाता है ।  (2) Modify Structure in foxpro in hindi :-  इस  command  का प्रयोग वर्तमान प्रयुक्त  डेटाबेस  फाईल के स्ट्रक्चर में आवश्यक परिवर्तन करने के लिए किया जाता है । इसके द्वारा नये फील्ड भी जोड़े जा सकते हैं तथा पुराने फील्ड्स को हटाया व उनके साईज़ में भी परिवर्तन किया जा सकता है ।  (3) Rename in foxpro in hindi :-  इस  command  के द्वारा किसी  database  file का नाम बदला जा सकता है जिस फाईल को Rename करना हो वह मैमोरी में खुली नहीं होनी चाहिए ।   Syntax : Rename < Old filename > to < New filename >  Foxpro example: -  Rename Student.dbf to St.dbf (4) Copy file in foxpro in hindi :- इस command के द्वारा किसी एक डेटाबेस फाईल के रिकॉ

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ